Saturday, September 19, 2020
Home बड़ी ख़बर Facebook की राजनीतिक निष्पक्षता पर सवाल, दक्षिणपंथी आवाज़ें दबाने का आरोप: पूर्व कर्मचारी...

Facebook की राजनीतिक निष्पक्षता पर सवाल, दक्षिणपंथी आवाज़ें दबाने का आरोप: पूर्व कर्मचारी ने खोली पोल

जिस यूज़र के फ़ेसबुक पेज पर यह टैग लगाया जाता है उसे पता भी नहीं चलता कि यह रोक लगाई गई है और उसकी लाइवस्ट्रीम उसके दोस्तों की न्यूज़फ़ीड में दिखनी बंद हो चुकी है, उन्हें उसके नोटिफिकेशन नहीं आते, और...

लोकसभा चुनावों की दुंदुभी बजने के साथ ही आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है जिसके अंतर्गत मीडिया भी किन चुनावी चीज़ों को कवर कर सकता है और किनको नहीं, क्या छाप सकता है और क्या नहीं (मसलन एक्जिट पोल्स, चुनावी प्रचार सामग्री वगैरह) आदि भी तार्किक नियमों के घेरे में है- जिसका उल्लंघन करने पर टीवी चैनलों, अख़बारों, रेडियो चैनलों इत्यादि को गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं।

पर राजनीतिक हलचल में भागीदारी और उस पर असर डाल सकने के हिसाब से सबसे बड़ा और ताकतवर माध्यम- फेसबुक– चुनाव आयोग, और यहाँ तक कि भारत सरकार, की पहुँच के न केवल बाहर है, बल्कि राजनीति में सक्रिय हस्तक्षेप (फेसबुक अधिकारियों द्वारा अपने फेसबुक पद का प्रयोग राजनीति को प्रभावित करने के लिए करना) के लिए कमर कस कर तैयार भी है।   

प्रोजेक्ट वेरिटास (Project Veritas) के चिंताजनक खुलासे

गैर लाभकारी मीडिया वेबसाइट प्रोजेक्ट वेरिटास ने गत 27 फ़रवरी को फेसबुक की आतंरिक गतिविधियों को लेकर बहुत ही चिंताजनक कुछ दस्तावेज़ जारी किए हैं। इन दस्तावेज़ों के मुताबिक हिंसक, भड़काऊ, और फेक न्यूज़ फैलानी वाली सामग्री रोकने के नाम पर फेसबुक प्रबंधन दक्षिणपंथी सामग्री और व्यक्तियों को बाकायदा निशाना बनाकर वायरल होने से रोक रहा है। (इन्टरनेट की भाषा में इसे टार्गेटेड डीबूस्टिंग कहते हैं)

फ़ेसबुक की ही पूर्व कर्मचारी ने खोली पोल

जिन दस्तावेज़ों के आधार पर वेरिटास ने यह दावा किया है, वह दस्तावेज़ उसे फेसबुक की ही पूर्व कर्मचारी ने उपलब्ध कराए हैं। उसकी सुरक्षा और उसे ऑनलाइन प्रताड़ना से बचाने के मद्देनज़र वेरिटास ने उसकी पहचान गुप्त रखते हुए केवल इतना बताया है कि वह कर्मचारी अब वेरिटास के साथ ही काम कर रही है।

क्या है पूरा मामला

- विज्ञापन -

ActionDeboostLiveDistribution लेबल के इस तकनीकी निर्देश को, ‘इनसाइडर’ कह कर रिपोर्ट में जिक्र की गई कर्मचारी के अनुसार, उसने जब माइक सर्नोविच (अमेरिकी लेखक व राजनीतिक टिप्पणीकार), स्टीवेन क्राउडर (अमेरिकी दक्षिणपंथी हास्य-कलाकार और अभिनेता), डेली कॉलर (वॉशिंगटन डीसी से चलने वाली दक्षिणपंथी खबर व ओपिनियन वेबसाइट, जिसे डिजिटल मार्केटिंग विशेषज्ञ नील पटेल और दक्षिणपंथी राजनीतिक टिप्पणीकार टकर कार्लसन ने स्थापित किया है) आदि दक्षिणपंथी हैंडल्स पर नोटिस किया तो उसे शक हुआ।

यहाँ यह जानना ज़रूरी है कि क्राउडर के खिलाफ़ पहले भी इसी प्रकार के गुप्त ‘बैन’ को लेकर फ़ेसबुक विवादों में घिर चुका है। वर्ष 2016 में डिज़ाइन, टेक्नोलॉजी, विज्ञान से जुड़े विषयों की विशेषज्ञ वेबसाइट गिज़्मोडो ने अपनी एक खबर में यह दावा किया था कि स्टीवेन क्राउडर, जो कि फॉक्स न्यूज़ के साथ भी जुड़े रह चुके हैं, क्रिस काइल (भूतपूर्व सील सैनिक, 2013 में जिनकी हत्या हुई), दक्षिणपंथी न्यूज़ एग्रीगेटर द ड्रेज रिपोर्ट, इत्यादि छः विषयों को फ़ेसबुक योजनाबद्ध तरीके से ट्रेंड करने से, लोगों की न्यूज़ फीड में आने आदि से रोक रहा है- गौरतलब है कि सभी छः विषय दक्षिणपंथियों के लिए ही भावनात्मक अपील वाले थे।

इस खबर के सामने आने के बाद क्राउडर ने फ़ेसबुक पर मुकदमा किया था, जिसका निपटारा फ़ेसबुक को आउट-ऑफ़-कोर्ट सेटेलमेंट में करना पड़ा था।

इनसाइडर ने जब अश्वेत अमेरिकी खिलाड़ी कॉलिन केपर्निक, यंग टर्क्स आदि वाम की ओर झुकाव रखने वाले फ़ेसबुक पेजों पर इस ActionDeboostLiveDistribution टैग को ढूँढ़ने का प्रयास किया तो उन्हें यह टैग किसी भी वामपंथी झुकाव वाले व्यक्ति या संस्था के फ़ेसबुक पेज पर नहीं मिला।

वेरिटास ने जब अभी भी फ़ेसबुक में कार्यरत अपने एक गुप्त सूत्र से इनसाइडर की खबर और दावों की पुष्टि करनी चाही तो उस सूत्र ने अनाधिकारिक तौर पर इस खबर की पुष्टि करते हुए साथ में यह भी जोड़ा कि यह टैग पूरी तरह से गुप्त होकर अपना काम करता है। इसका अर्थ यह हुआ कि जिस यूज़र के फ़ेसबुक पेज पर यह टैग लगाया जाता है उसे पता भी नहीं चलता कि उसके पेज पर यह रोक लगाई गई है और उसकी लाइवस्ट्रीम उसके दोस्तों की न्यूज़फ़ीड में दिखनी बंद हो चुकी है, उन्हें उसके लाइव जाने की नोटिफिकेशन नहीं आते, और उसके लाइव वीडियो शेयर भी नहीं हो पाते।

आत्महत्या के लाइव प्रसारण रोकने के लिए बना था यह सिस्टम

वेरिटास के पास मौजूद दस्तावेजों में यह ActionDeboostLiveDistribution लेबल जिस Sigma के बगल में दिख रहा है, वह फ़ेसबुक का एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सिस्टम है जिसे फ़ेसबुक ने आत्महत्या, सेल्फ़-हार्म जैसी- किसी भी आम इन्सान को विचलित कर सकने वाली सामग्री से कमज़ोर दिल वालों की रक्षा करने के लिए विकसित किया था। पर इन दस्तावेज़ों से यह साफ़ है कि फ़ेसबुक इसका दुरुपयोग राजनीतिक हित साधने के लिए कर रहा है।

‘भड़काऊ सामग्री’ पहचानने का फ़ेसबुक का तरीका और भी चिंताजनक

वेरिटास ने यह भी बताया कि डेटा साइंस मेनेजर सेजी यामामोटो और फ़ेसबुक के चीफ़ डेटा साइंटिस्ट एडूआर्डो एरिनो डे ला रुबिया ने एक चिंताजनक पेपर फ़ेसबुक के आतंरिक चैनल में पेश किया है। वे फ़ेसबुक की सीक्रेट सेंसरशिप को नस्लवादी और होमोफ़ोबिक गालियों से आगे ले जाकर ‘पोटेंशियली हेट्फुल’ (संभावित रूप से नफ़रत फ़ैलाने वाली) कैटेगरी बना कर उसपर भी “लगाम लगाने” की वकालत करते हैं। जिन ‘कीवर्ड्स’ में वह ‘संभावित नफ़रत’ की सम्भावना देखते हैं, उनमें लगभग सभी शब्द दक्षिणपंथी सर्कल्स में आम हंसी-मज़ाक या मुख्यधारा के पॉप-कल्चर और मीम-कल्चर का हिस्सा हैं।

यही नहीं, महत्वपूर्ण चुनावों के पहले चिह्नित दक्षिणपंथी यूज़र्स को तकनीकी खराबियां देने, जैसे कि बार-बार ऑटो-लॉगआउट, उनके कमेन्ट करने में बाधा पैदा करना, आदि शामिल हैं। इसके अलावा किसी भी यूज़र को बैन करने के समय उसकी मित्र-सूची को इसकी नोटिफिकेशन देकर उसकी सोशल शेमिंग और दूसरे “ट्रोल्स” (जिसमें फ़ेसबुक की दुराग्रही परिभाषा के चलते कोई भी दक्षिणपंथी यूज़र शामिल हो सकता है) को आतंकित करने की भी वकालत की गई है।

भारत के लिए इसके मायने

सबसे ज़्यादा फ़ेसबुक यूज़र्स का देश होने के नाते निश्चित तौर पर भारत के लिए यह खुलासा अहम है। 5 साल पहले जब फ़ेसबुक का राजनीतिक प्रभाव इस हद तक नहीं था, तब ही नरेन्द्र मोदी ने शायद आधा चुनाव फ़ेसबुक पर ही जीत लिया था। तब से चुनाव-दर-चुनाव फ़ेसबुक का राजनीतिक महत्त्व बढ़ता जा रहा है।

ऐसे में फ़ेसबुक का एक राजनीतिक विचारधारा और पक्ष की आवाज़ पर रोक लगाना निष्पक्ष चुनाव कराने की हमारी सिस्टम की कोशिश में रुकावट डालने से कम कुछ भी नहीं है। तिस पर से अमेरिका से संचालित होने के कारण फ़ेसबुक भारत के कानून और राजनयिकों की पकड़ से भी कोसों दूर है।

दक्षिणपंथी आवाज़ों को दबाने के लिए जिन तरीकों को इस्तेमाल करने की वकालत इन दस्तावेज़ों में की गई है, वह समस्याएँ, जैसे बार-बार ऑटो-लॉगआउट, कमेन्ट करने में बाधा, इत्यादि एक बड़ी संख्या में भारतीय यूज़र्स काफ़ी समय से झेल रहे हैं। अभी तक तो इन्हें नेटवर्क समस्या, डिवाइस समस्या आदि मानकर हम नज़रंदाज़ करते आए हैं। पर अब यह सवाल बेशक मन में उठेगा कि क्या फ़ेसबुक अपने खुद के देश अमेरिका में जिस तरह का राजनीतिक हस्तक्षेप करने के बारे में सोच भर रहा है, भारत में क्या उसने चुपचाप उसे लागू भी कर दिया? या फिर भारतीय यूज़र्स उसके ‘गिनीपिग्स’ हैं, जिन पर वह यह सब टेस्ट कर रहा था?

भारत में इलेक्शन वॉर रूम के मायने क्या हैं?

लोकसभा चुनावों की घोषणा होते ही यह खबर आई कि फ़ेसबुक चुनावों में अपने दुरुपयोग और फेक न्यूज़ के फैलाव को रोकने के लिए अमेरिका-सरीखा वॉर रूम बना रहा है, और राजनीतिक विज्ञापनों से जुड़े सारे ब्यौरे साप्ताहिक रूप से सार्वजनिक करेगा।

पर ऑर्गेनिक पोस्ट्स का क्या? क्या फ़ेसबुक यह हलफ़नामा देगा कि वह किसी भी भारतीय यूज़र के राजनीतिक झुकाव के चलते उसकी पोस्ट्स को बूस्ट या डीबूस्ट नहीं कर रहा है?

चुनाव आयोग भी फ़ेसबुक के साथ सहयोग करके चुनाव प्रक्रिया में उसकी भूमिका को मान्यता और स्वीकार्यता पाने में सहयोग कर रहा है। क्या चुनाव आयोग को फ़ेसबुक की यह सच्चाई पता है?

यदि फ़ेसबुक भारत में अपनी निष्पक्षता उपरोक्त हलफ़नामे या किसी अन्य प्रकार से साबित नहीं करता है तो यह मानने के पूरे-पूरे कारण होने चाहिए कि फ़ेसबुक यह इलेक्शन वॉर रूम निष्पक्षता के लिए नहीं बल्कि अपने वामपंथी मित्रों को और सहयोग करने के लिए कर रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

किसानों का विकास, बाजार का विस्तार, बेहतर विकल्प: मोदी सरकार के तीन विधेयकों की क्या होंगी खासियतें

मोदी सरकार ने तीन नए विधेयक पेश किए हैं ताकि कृषि उत्पादन के लिए सरल व्यापार को बढ़ावा मिले और मौजूदा एपीएमसी सिस्टम से वह आजाद हों, जिससे उन्हें अपनी उपज बेचने के और ज्यादा विकल्प व अवसर मिलें।

व्यंग्य: आँखों पर लटके फासीवाद के दो अखरोट जो बॉलीवुड कभी टटोल लेता है, कभी देख तक नहीं पाता

कालांतर में पता चला कि प्रागैतिहासिक बार्टर सिस्टम के साथ-साथ 'पार्टनर स्वापिंग' जैसे अत्याधुनिक तकनीक वाले सखा-सहेलियों के भी बार्टर सिस्टम भी इन पार्टियों में हुआ करते थे।

रेपिस्ट अब्दुल या असलम को तांत्रिक या बाबा बताने वाले मीडिया गिरोहों के लिए जस्टिस चंद्रचूड़ का जरूरी सन्देश

सुदर्शन न्यूज़ के कार्यक्रम पर जस्टिस चंद्रचूड़ मीडिया को सख्त संदेश दिया है कि किसी एक समुदाय को निशाना नहीं बनाया जा सकता है। लेकिन समुदाय का नाम नहीं लिया गया।

NCB ने करण जौहर द्वारा होस्ट की गई पार्टी की शुरू की जाँच- दीपिका, मलाइका, वरुण समेत कई बड़े चेहरे शक के घेरे में:...

ब्यूरो द्वारा इस बात की जाँच की जाएगी कि वीडियो असली है या फिर इसे डॉक्टरेड किया गया है। यदि वीडियो वास्तविक पाया जाता है, तो जाँच आगे बढ़ने की संभावना है।

प्रचलित ख़बरें

कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन के बेटे का लव जिहाद: 10वीं की हिंदू लड़की से रेप, फँसा कर निकाह, गर्भपात… फिर छोड़ दिया

अजीजुद्दीन छत्तीसगढ़ के दुर्ग से कॉन्ग्रेस के पूर्व MLA बदरुद्दीन कुरैशी का बेटा है। लव जिहाद की इस घटना के मामले में मीडिया के सवालों से...

जया बच्चन का कुत्ता टॉमी, देश के आम लोगों का कुत्ता कुत्ता: बॉलीवुड सितारों की कहानी

जया बच्चन जी के घर में आइना भी होगा। कभी सजते-संवरते उसमें अपनी आँखों से आँखे मिला कर देखिएगा। हो सकता है कुछ शर्म बाकी हो तो वो आँखों में...

थालियाँ सजाते हैं यह अपने बच्चों के लिए, हम जैसों को फेंके जाते हैं सिर्फ़ टुकड़े: रणवीर शौरी का जया को जवाब और कंगना...

रणवीर शौरी ने भी इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कंगना को समर्थन देते हुए कहा है कि उनके जैसे कलाकार अपना टिफिन खुद पैक करके काम पर जाते हैं।

3 नाबालिग सगी बेटियों में से 1 का 5 साल से रेप, 2 का यौन शोषण कर रहा था मोहम्मद मोफिज

मोफिज ने बीवी को स्टेशन पर ढकेल दिया, क्योंकि उसने बेटी से रेप का विरोध किया। तीनों बेटियाँ नाबालिग हैं, हमारे पास वीडियो कॉल्स और सारे साक्ष्य हैं। बेगूसराय पुलिस इस पर कार्रवाई कर रही है।

NCB ने करण जौहर द्वारा होस्ट की गई पार्टी की शुरू की जाँच- दीपिका, मलाइका, वरुण समेत कई बड़े चेहरे शक के घेरे में:...

ब्यूरो द्वारा इस बात की जाँच की जाएगी कि वीडियो असली है या फिर इसे डॉक्टरेड किया गया है। यदि वीडियो वास्तविक पाया जाता है, तो जाँच आगे बढ़ने की संभावना है।

‘एक बार दिखा दे बस’: वीडियो कॉल पर अपनी बेटियों से प्राइवेट पार्ट दिखाने को बोलता था मोहम्मद मोहफिज, आज भेजा गया जेल

आरोपित की बेटी का कहना है कि उनका घर में सोना भी दूभर हो गया था। उनका पिता कभी भी उनके कपड़ों में हाथ डाल देता था और शारीरिक संबंध स्थापित करने की कोशिश करता था।

नेहरू-गाँधी परिवार पर उठाया था सवाल: सदन में विपक्ष के हो-हल्ले के बाद अनुराग ठाकुर ने माँगी माफी, जाने क्या है मामला

"PM Cares एक पंजीकृत चैरिटेबल ट्रस्ट है। मैं साबित करने के लिए विपक्ष को चुनौती देना चाहता हूँ। यह ट्रस्ट इस देश के 138 करोड़ लोगों के लिए है।"

अलीगढ़ में दिन दहाड़े बंदूक की नोक पर 35 लाख के जेवर लूटने वाले तीनों आरोपितों को यूपी पुलिस ने किया गिरफ्तार

कुछ दिन पहले इंटरनेट पर चोरी का वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें ये तीन लुटेरे बंदूक की नोक पर अलीगढ़ में एक आभूषण की दुकान को लूट रहे थे।

‘आपसे उम्मीद की जाती है कि निष्पक्ष रहो’: NDTV पत्रकार श्रीनिवासन को व्यवसायी राकेश झुनझुनवाला ने सिखाया नैतिकता का पाठ

साक्षात्कार के दौरान झुनझुनवाला ने एनडीटीवी पत्रकार और उनके मीडिया हाउस को मोदी से घृणा करने वाला बताया। उन्होंने पत्रकार से कहा, "आप सिर्फ़ सरकार की आलोचना करते हो।"

MP: कॉन्ग्रेस ने गाय को किया चुनाव के लिए इस्तेमाल, शरीर पर पंजे के निशान के साथ लिखा उम्मीदवार का नाम

इंदौर की सांवेर विधानसभा सीट पर उपचुनाव है। उसी चुनाव में लोगों को उम्मीदवार की ओर आकर्षित करने के लिए यह वाहियात कार्य किया गया है।

महाराष्ट्र सरकार के पास कर्मचारियों को सैलरी देने के पैसे नहीं, लेकिन पीआर के लिए खर्च कर रही ₹5.5 करोड़

शिवसेना की अगुवाई वाली महाविकास आघाड़ी समिति के प्रशासन विभाग ने मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र सरकार के पीआर के प्रबंधन के आवेदन करने के लिए निजी विज्ञापन एजेंसियों को आमंत्रित करते हुए एक ई-टेंडर जारी किया है।

‘एक बार दिखा दे बस’: वीडियो कॉल पर अपनी बेटियों से प्राइवेट पार्ट दिखाने को बोलता था मोहम्मद मोहफिज, आज भेजा गया जेल

आरोपित की बेटी का कहना है कि उनका घर में सोना भी दूभर हो गया था। उनका पिता कभी भी उनके कपड़ों में हाथ डाल देता था और शारीरिक संबंध स्थापित करने की कोशिश करता था।

अमेरिका में भी चीनी ऐप्स TikTok और वीचैट पर रविवार से बैन: राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी बताई गई वजह

अमेरिकी सरकार ने भी इन एप्स को बैन करने के पीछे राष्ट्रीय सुरक्षा में सेंधमारी को कारण बताया है। कोरोना वायरस, चीन की चालबाजी, टैक्नोलॉजी पर बढ़ते तनाव और अमेरिकी निवेशकों के लिए वीडियो ऐप TikTok की बिक्री के बीच यह फैसला सामने आया है।

1995 के अमूल विज्ञापन पर चित्रित उर्मिला पर बौखलाए लिबरल्स: रंगीला के प्रमोशन को जोड़ा कंगना की टिप्पणी से

25 साल पहले बनाया गया यह विज्ञापन अभिनेत्री उर्मिला मातोंडकर की फिल्म 'रंगीला' में उनके प्रदर्शन को देखते हुए बनाया गया था।

शाहीन बाग में जिस तिरंगे की खाई कसमें, उसी का इस्तेमाल पेट्रोल बम बनाने में किया: दिल्ली दंगों पर किताब में खुलासा

"वह प्रदर्शन जो महात्मा गाँधी, डॉ बीआर अम्बेडकर की तस्वीरों और तिरंगा फहराने से शुरू हुआ था उसका अंत तिरंगे से पेट्रोल बम बनाने में, दुकानों को, घरों को जलाने में हुआ।"

ड्रग्स के खिलाफ NCB का ताबड़तोड़ एक्शन: 4 ड्रग पेडलर गिरफ्तार, ₹4 करोड़ की ड्रग्स सीज, मिला बॉलीवुड लिंक

इसी के तहत कार्रवाई करते हुए एनसीबी ने मुंबई से चार और ड्रग पैडलर्स को भी हिरासत में लिया है। ड्रग्स पेडलर्स के पास से एनसीबी ने लाखों रुपए की ड्रग्स भी बरामद की है।

हमसे जुड़ें

260,559FansLike
77,913FollowersFollow
322,000SubscribersSubscribe
Advertisements