Sunday, December 5, 2021
Homeरिपोर्टमीडियादलित युवक लखबीर सिंह की हत्या के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के बचाव में...

दलित युवक लखबीर सिंह की हत्या के बाद संयुक्त किसान मोर्चा के बचाव में कूदा India Today, ‘सोर्स’ के नाम पर नया ‘भ्रमजाल’

इंडिया टुडे ने इसे 'सूत्रों' का नाम देते हुए अपने ताजा रिपोर्ट में दावा किया है कि संयुक्त किसान मोर्चा ने कथित तौर पर कई मौकों पर हरियाणा और दिल्ली पुलिस को विरोध स्थल पर इस 'सशस्त्र समूह' की मौजूदगी के बारे में शिकायत की थी।

संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) के नेता प्रदर्शन स्थल पर हुए दलित युवक की हत्या से खुद को अलग कर रहे हैं और इसके लिए व मीडिया प्लेटफॉर्म की तलाश में हैं। इस बीच इंडिया टुडे ग्रुप अब उनके बचाव में सामने आया है। .

इंडिया टुडे ने इसे ‘सूत्रों’ का नाम देते हुए अपने ताजा रिपोर्ट में दावा किया है कि संयुक्त किसान मोर्चा ने कथित तौर पर कई मौकों पर हरियाणा और दिल्ली पुलिस को विरोध स्थल पर इस ‘सशस्त्र समूह’ की मौजूदगी के बारे में शिकायत की थी।

एसकेएम के एक सूत्र ने कहा, “एसकेएम ने पुलिस को यह भी बताया था कि निहंग मोर्चा का हिस्सा नहीं थे और उन्होंने निहंगों से भी विरोध स्थलों को खाली करने और वहाँ से सिखों के पवित्र ग्रंथों को हटाने की अपील की थी।”

संतुलन बनाने की कोशिश करते हुए एसकेएम ने एक बयान में यह भी कहा कि मोर्चा किसी भी धार्मिक पाठ या प्रतीक की बेअदबी के खिलाफ है। उन्होंने खुद को इस भीषण हत्या से अलग करते हुए कहा, “हम यह स्पष्ट करना चाहते हैं कि इस घटना के दोनों पक्षों, निहंग समूह और मृतक का एसकेएम से कोई संबंध नहीं है।” 

‘आदमी ने स्वीकार किया कि उसे किसी ने भेजा था’: SKM का दावा

वहीं निहंग सिख समुदाय को निराश न करने की कोशिश में संयुक्त किसान मोर्चा के जगजीत सिंह दल्लेवाल ने अपने ताजा बयान में यह कहा, “जब हम मौके पर पहुँचे तो कुछ लोग कह रहे थे कि मृतक व्यक्ति ने मरने से पहले स्वीकार किया था कि उसे किसी ने भेजा था और 30,000 रुपए दिए थे।”

हालाँकि, उन्होंने साथ ही स्पष्ट किया कि उनके पास मृतक युुवक के कथित कबूलनामे का कोई वीडियो सबूत नहीं है। विडंबना यह है कि पीड़ित को निहंगों द्वारा उसके व्यक्तिगत विवरण के बारे में पूछताछ करते हुए वीडियो रिकॉर्ड किया गया था, जब वह बेरहमी से की गई पिटाई के बाद आखिरी कुछ साँसों के लिए हाँफ रहा था और उसका हाथ काट दिया गया था।

उल्लेखनीय है कि सिंघु सीमा पर एसकेएम धरना स्थल पर नृशंस हत्या कर दी गई। किसान मोर्चा धरना स्थल के मुख्य मंच के पास पीड़ित को उसके कटे हुए अंग के साथ लटका दिया गया था।

राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने माँगी रिपोर्ट

इस बीच, राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष विजय सांपला ने हरियाणा के पुलिस महानिदेशक से दलित व्यक्ति की हत्या पर 24 घंटे के भीतर रिपोर्ट माँगी है। सांपला ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से इस मामले में दोषियों के खिलाफ तत्काल और सख्त कार्रवाई करने का भी आग्रह किया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘किसानों की तरह बलिदान देने के लिए तैयार रहें’: फारूक अब्दुल्ला ने 370 की वापसी के लिए लोगों को भड़काया, कहा – पर्यटन बढ़ना...

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने लोगों को भड़काते हुए कहा कि अनुच्छेद 370 के लिए वो भी किसानों की तरह बलिदान दें।

जिस श्रीलंका से पाकिस्तान को मिली 35,000 आँखें, उसी के नागरिक को ज़िंदा जलाया: श्रीलंका का 40% कॉर्निया डोनेशन Pak को ही मिला

1967 से अब तक श्रीलंका द्वारा दान में दिए गए 35,000 कॉर्निया पाकिस्तानियों को मिले। श्रीलंका अब तक दुनिया को 83,200 कॉर्निया दान में दे चुका।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
141,733FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe