Tuesday, June 25, 2024
Homeरिपोर्टमीडियामोदी की जीत करण थापर को नहीं पची तो प्रशांत किशोर ने बिगाड़ा हाजमा:...

मोदी की जीत करण थापर को नहीं पची तो प्रशांत किशोर ने बिगाड़ा हाजमा: पहले माँगा सबूत, फिर कहा- आप जैसे चार से अकेले निपट सकता हूँ

प्रशांत किशोर ने आगे कहा, 'करन, आपको लगता है कि इंटरव्यू में कड़े सवाल से असहज करके लोगों को भागने पर मजबूर करना आपकी यूएसपी है, लेकिन मैं आप जैसे चार लोगों से अकेले निपट सकता हूँ।'

लोकसभा चुनाव 2024 में सभी पार्टियों ने पूरी ताकत झोंक दी है, तो इन पार्टियों के साथ काम करने वाले नॉन पॉलिटिकल ‘जैसे’ सहायक भी। इसी क्रम में कॉन्ग्रेसी और वामपंथी विचारधारा द्वारा पोषित ‘पत्रकार’ करन थापर ने इंटरव्यू के लिए बुलाया राजनीतिक रणनीतिकार प्रशांत किशोर को। इस इंटरव्यू के कुछ हिस्से सोशल मीडिया पर वायरल हैं, जिसमें प्रशांत किशोर ने साफतौर पर कहा कि बीजेपी लोकसभा चुनाव 2024 में प्रचंड बहुमत के साथ एक बार फिर मोदी सकार की वापसी हो रही है। चूँकि करन थापर का राजनीतिक दुराग्रह किसी से छिपा नहीं है, ऐसे में जब उन्होंने प्रशांत किशोर के साथ ऊल-जलूल सवाल किए, तो प्रशांत किशोर ने भी उन्हें आईना दिखाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ी।

ये इंटरव्यू 22 मई 2024 को यू-ट्यूब पर अपलोड किया गया है। इस इंटरव्यू में प्रशांत किशोर बता रहे थे कि पूर्ण बहुमत के साथ तीसरी बार मोदी सरकार आ रही है। इसमें उन्होंने कहा कि ‘उत्तर प्रदेश-बिहार में 20-50 सीटों का जो नुकसान हो सकता है, बीजेपी उसकी भरपाई पूर्वी और दक्षिणी भारत से कर लेगी।’ इस दौरान करन थापर ने कहा कि वो कितने भरोसे से ये बात कह रहे हैं, जिसके जवाब में प्रशांत किशोर ने कहा कि ‘पूरे भरोसे से, जैसे अब तक कहता आया हूँ।’ इसके बाद करन थापर ने कहा कि ‘आपने तो हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस के जड़ से उखड़ जाने की बात कही थी, लेकिन वहाँ तो कॉन्ग्रेस की सरकार बन गई।’

करन की इस टिप्पणी पर प्रशांत किशोर ने पूछा कि क्या ये उन्होंने कभी कहा? अगर कहा तो उन्हें वह वीडियो दिखाया जाए। करन कहते हैं कि मई, 2022 में आपने हिमाचल में कॉन्ग्रेस के खात्मे का अनुमान लगाया था। इस प्रशांत उनसे इस बयान का वीडियो दिखाने की माँग करते हैं और इस पर अड़ जाते हैं। वो कहते हैं कि अगर आप मुझे यह वीडियो दिखा दें तो मैं इस पेशे से निकल जाऊँगा और अगर आप गलत हैं तो तुरंत माफि माँगिए। इस पर दोनों के बीच काफी बहस चलती रही।

आप जैसे 4 पत्रकारों से अकेले निपट लूँगा

इस वीडियों में प्रशांत किशोर यहाँ तक कहते हैं कि करन, आप मुझे डरा-धमका नहीं सकते। फिर आप ही क्या, कोई भी पत्रकार या कोई और व्यक्ति मुझे नहीं डरा सकता है। प्रशांत किशोर ने आगे कहा, ‘करन, आपको लगता है कि इंटरव्यू में कड़े सवाल से असहज करके लोगों को भागने पर मजबूर करना आपकी यूएसपी है, लेकिन मैं आप जैसे चार लोगों से अकेले निपट सकता हूँ।’ इस तरह, थोड़ी देर तक चली गरमा-गरम बहस के बात इंटरव्यू आगे बढ़ता है और फिर से सवाल-जवाब का सिलसिला चल पड़ता है।

द वायर के इस इंटरव्यू में करन थापर और प्रशांत किशोर के बीच 40.34 मिनट पर पूछे गए सवाल और उसका जवाब देने की वजह से जबरदस्त गरमा-गरम बातचीत हुई। अगले कुछ मिनट तक दोनों एक-दूसरे को काटते रहे। देखिए इंटरव्यू…

सोशल मीडिया पर करन थापर की उड़ी खिल्ली

वरिष्ठ पत्रकार अनंत विजय ने लिखा, “करन का प्रशांत किशोर का इंटरव्यू पूरा सुना। पहली बार करण को किसी ने बोलने नहीं दिया तो फ़्रस्ट्रेशन तो स्वाभाविक था। करन निरंतर प्रशांत की बातों को घुमाने का प्रयत्न करते रहे, लेकिन प्रशांत ने उनको अवसर नहीं दिया।”

रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने लिखा, “करण थापर के लेफ्ट विंग एजेंडे को @PrashantKishor ने अपने तर्कों से ध्वस्त कर दिया। प्रशांत किशोर ने कहा कि आप जैसे चार लोग भी एक साथ इंटरव्यू लें तब भी मुझे अपने नफरती शब्द जाल में नहीं फँसा सकते। करण थापर का दाँव उलटा पड़ गया। प्रशांत किशोर ने धुन कर रख दिया, अर्बन नक्सल्स के पूर्व नियोजित एजेंडे की हवा निकाल दी। सीधे शब्दों में कहें तो करन थापर को औक़ात दिखा दी…..जय हो बिहारी बाबू। कॉन्ग्रेस के समय में एक पत्रकार लॉबी की बड़ी चाँदी थी, कॉन्ग्रेस से इन सब के घनिष्ठ संबंध किसी से छिपे नहीं।”

शुभम शुक्ला नाम के एक्स यूजर ने लिखा, “बिहार के लाल, प्रशांत किशोर ने कर दिया कमाल- प्रशांत किशोर जी ने करण थापर जी के साथ इंटरव्यू में गजब के तर्क रखे हैं। करण जी को लगा कि वो पूरे इंटरव्यू को हाईजैक कर लेंगे। लेकिन इस बार उनका पाला बिहार की गली-गली घूमने वाले एक ऐसे व्यक्ति से पड़ा जो ना सिर्फ नेता है बल्कि पार्टियों को नेतागीरी की ट्रेनिंग देता है। करण जी को लगा इस इंटरव्यू को वो हाईजैक कर लेंगे उसके बाद सोशल मीडिया में उनके लेफ्ट विंग की ट्रोल आर्मी प्रशांत किशोर के खिलाफ प्रोपोगेंडा चला लेगी, लेकिन दाँव उल्टा पड़ गया। प्रशांत किशोर ने धुआँ-धुआँ कर दिया। आप पूरा इंटरव्यू देखेंगे तो पाएँगे कि करण थापर के इंटरव्यू में जाकर प्रशांत किशोर ने उनके ही माइक कैमरे के सामने उन्हें को एक्सपोज़ कर दिया।”

डॉ सुधांशु त्रिवेदी सटायर नाम के यूजर ने लिखा, “करन थापर का दाँव उलटा उन्हीं को लपेट दिया प्रशांत किशोर ने और चुन चुन कर कंबल धुलाई कर के रख दिया। अर्बन नक्सल्स के पूर्व नियोजित एजेंडे की तबियत ख़राब कर दी। सीधे शब्दों में कहें तो करन थापर को औक़ात दिखा दी…..जय हो बिहारी बाबू। कॉन्ग्रेस के समय में ऐसे दलाली करते पत्रकार लॉबी की बड़ी चाँदी हुआ करती थी और कॉन्ग्रेस से इन सब के बड़े ही घनिष्ठ संबंध हुआ करते थे, जो किसी से छुपा नहीं थाl”

इंटरव्यू का हिस्सा ‘कट’ न करने करने के लिए किया मजबूर

जितेंद्र प्रताप सिंह ने लिखा, “प्रशांत किशोर ने इस बेहया बेशर्म और बदतमीज पत्रकार को इसकी बेहयाई और बदतमीजी का बहुत करारा जवाब दिया। करण थापर यह भूल गया कि हर कोई सज्जन शरीफ नहीं होता की बेहयाई और बेशर्मी बर्दाश्त करता रहे और बाद में इंटरव्यू छोड़कर चला जाए।”

सोशल मीडिया पर और भी तमाम कमेंट्स आ रहे हैं, जो करण थापर की सही जगह बता रहे हैं। बता दें कि प्रशांत किशोर पूर्व चुनावी रणनीतिकार हैं। वो कई पार्टियों के साथ सफलतापूर्वक काम कर चुके हैं, तो कई पार्टियों के साथ उनका काम विवादों में भी घिरा रहा है। कॉन्ग्रेस की ओर से फ्री-हैंड मिलने के बाद भी कई राज्यों में कॉन्ग्रेस को हार का मुँह देखना पड़ा था, जिसके बाद उन्होंने साफ तौर पर कह दिया था कि राहुल गाँधी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी को बड़ा फैसला करना ही पड़ेगा। हालाँकि इस लोकसभा चुनाव में उन्होंने किसी पार्टी का साथ नहीं दिया है और इस समय वो बिहार में अपने संगठन ‘जन सुराज’ को लेकर काफी सक्रिय हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जूलियन असांजे इज फ्री… विकिलीक्स के फाउंडर को 175 साल की होती जेल पर 5 साल में ही छूटे: जानिए कैसे अमेरिका को हिलाया,...

विकिलीक्स फाउंडर जूलियन असांजे ने अमेरिका के साथ एक डील कर ली है, इसके बाद उन्हें इंग्लैंड की एक जेल से छोड़ दिया गया है।

‘जिन्होंने इमरजेंसी लगाई वे संविधान के लिए न दिखाएँ प्यार’: कॉन्ग्रेस को PM मोदी ने दिखाया आईना, आपातकाल की 50वीं बरसी पर देश मना...

इमरजेंसी की 50वीं बरसी पर पीएम मोदी ने कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। साथ ही लोगों को याद दिलाया कि कैसे उस समय लोगों से उनके अधिकार छीने गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -