Wednesday, August 4, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाकोर्ट ने 'द कारवाँ' के पत्रकार मनदीप पुनिया को जमानत दी, बिना अनुमति के...

कोर्ट ने ‘द कारवाँ’ के पत्रकार मनदीप पुनिया को जमानत दी, बिना अनुमति के देश छोड़ने की इजाजत नहीं

अदालत ने पुनिया को उनकी पूर्व अनुमति के बिना देश से बाहर नहीं जाने का निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा, "आरोपित जमानत पर रिहाई के दौरान इस प्रकार का कोई अपराध या कोई अन्य अपराध नहीं करेगा। आरोपित किसी भी तरह सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करेगा।"

दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार (फरवरी 02, 2021) को फ्रीलांस जर्नलिस्ट मनदीप पुनिया को जमानत दे दी। पुनिया द कारवाँ और जनपथ के लिए काम करता है। शनिवार (जनवरी 30, 2021) रात सिंघू बॉर्डर पर स्टेशन हाउस ऑफिसर (SHO) के साथ दुर्व्यवहार करने के बाद दिल्ली पुलिस ने मनदीप पुनिया को हिरासत में लिया था। 

25,000 के निजी मुचलके पर दी गई जमानत

न्यायालय ने कहा कि शिकायतकर्ता, पीड़ित और गवाह सभी पुलिसकर्मी हैं। इसलिए इस बात की कोई संभावना नहीं है कि आरोपित / प्रार्थी किसी पुलिस अधिकारी को प्रभावित कर सकता है। इसके बाद अदालत ने उसे 25 हजार रुपए के निजी मुचलके पर जमानत दे दी। वहीं पुलिस ने उस पर लोगों को भड़काने व कामकाज में बाधा पहुँचाने का आरोप लगाते हुए जमानत आवेदन पर विरोध जताया था। रोहिणी अदालत के मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट सतवीर सिंह लांबा ने दोनों पक्षों के तर्क सुनने के बाद फैसला मंगलवार को सुनने का निर्णय किया था, जिस पर फैसला सुनाते हुए उन्होंने मनदीप को जमानत दे दी।

अदालत ने पुनिया को उनकी पूर्व अनुमति के बिना देश से बाहर नहीं जाने का निर्देश दिया। कोर्ट ने कहा, “आरोपित जमानत पर रिहाई के दौरान इस प्रकार का कोई अपराध या कोई अन्य अपराध नहीं करेगा। आरोपित किसी भी तरह सबूतों से छेड़छाड़ नहीं करेगा।” अदालत ने निर्देश दिया कि जब जाँच एजेंसी को आवश्यकता होगी, तब आरोपित पेश होगा।

वहीं अभियोजन पक्ष ने उसकी जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि उसने अपनी पहचान छुपाई और अपने सहयोगियों के साथ जबरन बैरिकेड तोड़ने की कोशिश की। आरोपित अपने सहयोगियों के साथ नारेबाजी करता रहा। 

इस दौरान हुई हिंसा व मारपीट में कई पुलिसकर्मियों को भी चोटें आई हैं। ऐसे में उसे जमानत पर रिहा नहीं किया जाए क्योंकि वह साक्ष्य को मिटाने की कोशिश कर सकता है और फिर से गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त हो सकता है।

मनदीप पुनिया की रिहाई के लिए ‘पत्रकारों’ का पुलिस मुख्यालय पर जेएनयू टाइप स्टंट

पुनिया की गिरफ्तारी के बाद उसके समर्थन में ‘पत्रकारों’ को रविवार को दिल्ली पुलिस मुख्यालय में नारेबाजी करते हुए देखा गया। वो लोग ‘तानाशाही नहीं चलेगी’ के नारे लगा रहे थे। पुनिया कथित तौर पर बैरिकेड हटाने की कोशिश कर रहा था और उसने पुलिस के साथ दुर्व्यवहार किया, जिसके कारण उसे हिरासत में लिया गया था।

गिरफ्तारी के बारे में बताते हुए एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुनिया प्रदर्शनकारियों के साथ खड़ा था और उसके पास प्रेस आईडी कार्ड नहीं था। वह उन बैरिकेड के माध्यम से जाने की कोशिश कर रहा था जो सुरक्षा के लिहाज से लगाए गए थे। इस दौरान पुलिसकर्मियों और उनके बीच विवाद शुरू हो गया। दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर के विरोध ने यह स्पष्ट कर दिया कि कुछ ‘पत्रकारों’ के लिए, पुलिस के साथ दुर्व्यवहार ‘प्रेस स्वतंत्रता’ के दायरे में आता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

ईसाई बने तो नहीं ले सकते SC वर्ग के लिए चलाई जा रही केंद्र की योजनाओं का फायदा: संसद में मोदी सरकार

रिपोर्ट्स बताती हैं कि आंध्र प्रदेश में ईसाई धर्म में कन्वर्ट होने वाले 80 प्रतिशत लोग SC वर्ग से आते हैं, जो सभी तरह की योजनाओं का लाभ उठाते हैं।

‘इस महीने का चेक नहीं पहुँचा या पेमेंट रोक दी गई?’: केजरीवाल के 2047 वाले विज्ञापन के बाद ट्रोल हुए ‘क्रांतिकारी पत्रकार’

सोशल मीडिया पर लोग 'क्रांतिकारी पत्रकार' पुण्य प्रसून बाजपेयी को ट्रोल कर रहे हैं। उन्होंने दिल्ली के CM अरविंद केजरीवाल की आलोचना की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,912FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe