Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाSEBI ने NDTV के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और विक्रम चंद्रा समेत 2...

SEBI ने NDTV के प्रमोटरों प्रणय रॉय, राधिका रॉय और विक्रम चंद्रा समेत 2 अन्य को किया ट्रेडिंग से प्रतिबंधित, जानिए क्या है मामला

प्रणय रॉय और राधिका रॉय के अलावा, एनडीटीवी के पूर्व सीईओ विक्रमादित्य चंद्रा, वरिष्ठ सलाहकार ईश्वरी प्रसाद बाजपेयी, ग्रुप सीएफओ सौरव बनर्जी को भी इनसाइडर ट्रेडिंग का दोषी पाया गया है। इसके साथ ही वित्तीय अपराध के लिए दंड के रूप में SEBI ने उन्हें प्रतिभूति बाजार में दो साल के लिए व्यापार करने से रोक दिया है।

भारत के पूँजी बाजार नियामक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) ने विवादास्पद मीडिया नेटवर्क NDTV के प्रवर्तकों प्रणय रॉय और राधिका रॉय को इनसाइडर ट्रेडिंग से अनुचित लाभ उठाने का दोषी पाया है। इसके बाद वित्तीय अपराध के लिए दंड के रूप में SEBI ने उन्हें प्रतिभूति बाजार में दो साल के लिए व्यापार करने से रोक दिया है। इसके साथ ही दोनों को 12 साल पहले की इनसाइडर ट्रेडिंग के जरिए अवैध तरीके से कमाए गए ₹16.97 करोड़ रुपए लौटाने के लिए भी कहा है।

प्रणय रॉय और राधिका रॉय के अलावा, एनडीटीवी के पूर्व सीईओ विक्रमादित्य चंद्रा, वरिष्ठ सलाहकार ईश्वरी प्रसाद बाजपेयी, ग्रुप सीएफओ सौरव बनर्जी को भी इनसाइडर ट्रेडिंग का दोषी पाया गया है।

SEBI द्वारा की गई जाँच के अनुसार उन्होंने इनसाइडर ट्रेडिंग (PIT) विनियमों का उल्लंघन किया। उन पर 2007-2008 के दौरान अप्रकाशित मूल्य संवेदनशील जानकारी (UPSI) रखने का आरोप है, जो न्यू इंडिया टेलीविजन लिमिटेड के पुनर्गठन से संबंधित है। सेबी ने सितंबर, 2006 से जून, 2008 के दौरान कंपनी के शेयरों में कारोबार की जाँच करने के बाद यह कदम उठाया है। 

सेबी ने पाया कि नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड (NDTV) में प्राइस को लेकर संवेदनशील जानकारियाँ रखने योग्य पदों पर रहते हुए प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने कंपनी के शेयरों का कारोबार किया। 

जाँच लगभग दो वर्षों की अवधि से संबंधित थी, जिसे दो भागों में विभाजित किया गया था। 31 जुलाई 2016 से 7 सितंबर 2007 की अवधि मूल्य संवेदनशील जानकारी (PSI) की अवधि थी, जबकि 7 सितंबर 2007 से 16 अप्रैल 2008 तक अप्रकाशित मूल्य संवेदनशील जानकारी (UPSI) थी। बता दें कि PSI के दौरान, स्टॉक एक्सचेंजों में मूल्य संवेदनशील जानकारी का खुलासा किया जाता है, जबकि UPSI के दौरान इसका खुलासा नहीं किया जाता है।

UPSI की अवधि 7 सितंबर 2007 से 16 अप्रैल 2008 तक थी और रॉय ने 17 अप्रैल 2008 को 16,97,38,335 रुपए का लाभ कमाते हुए कंपनी के शेयर बेचे थे। यह पीआईटी विनियमों का उल्लंघन था, क्योंकि स्टॉक एक्सचेंजों को जानकारी का खुलासा करने से 24 घंटे की समाप्ति से पहले यूपीएसआई रखने वाले लोगों को शेयरों में व्यापार करने से रोक है। उन्होंने यूपीएसआई अवधि के दौरान भी 26 दिसंबर 2007 को शेयर खरीदे थे।

उन्होंने 26 दिसंबर 2007 को ₹400 प्रति शेयर की दर से 48,35,850 एनडीटीवी शेयर खरीदे थे। 17 अप्रैल, 2008 को उन्होंने ₹435.10 प्रति शेयर की दर से 49,13,676 शेयर बेचे। इस तरह उन्होंने यूपीएसआई अवधि के दौरान खरीदे गए 48,35,850 शेयरों पर ₹16,97,38,335 का लाभ कमाया।

यह न केवल पीआईटी नियमों का उल्लंघन था, बल्कि एनडीटीवी के अपने ‘इनसाइडर ट्रेडिंग की रोकथाम के लिए आचार संहिता’ का भी उल्लंघन था। PIT विनियम, 1992 की अनुसूची 1 में निर्दिष्ट मॉडल कोड के खंड 3.2.2 और खंड 3.2.4 के अनुसार, जब ट्रेडिंग विंडो बंद होती है, तो कर्मचारी / निदेशक कंपनी के शेयरों में व्यापार नहीं करेंगे और ट्रेडिंग विंडो यूपीएसआई के सार्वजनिक किए जाने के 24 घंटे बाद खोली जाती है।

NDTV ने 16 अप्रैल 2008 को पुनर्गठन पर चर्चा के बारे में जानकारी का खुलासा किया था, ट्रेडिंग विंडो को 17 अप्रैल तक बंद कर दिया गया था। लेकिन प्रणय रॉय और राधिका रॉय ने इस बंद विंडो की अवधि के दौरान शेयर बेचे, जिससे उनके द्वारा बनाए गए ₹16.97 करोड़ का लाभ कानूनन अवैध माना जाता है।

Part of SEBI order

अब उन्हें लाभ राशि को संयुक्त रूप से या व्यक्तिगत रूप से 6% ब्याज के साथ प्रति वर्ष देना होगा।

प्रणय रॉय और राधिका रॉय के अलावा, इनसाइडर ट्रेडिंग का दोषी पाए गए एनडीटीवी के पूर्व सीईओ विक्रमादित्य चंद्रा, वरिष्ठ सलाहकार ईश्वरी प्रसाद बाजपेयी, ग्रुप सीएफओ सौरव बनर्जी ने हालाँकि जाँच अवधि के दौरान NDTV के किसी भी शेयर को नहीं खरीदा था, लेकिन पीएसआई और यूपीएसआई को पकड़े हुए उस अवधि के दौरान ESOPs जारी किए गए थे। इन तीनों ने इन अवधि के दौरान शेयरों की बिक्री की, जिससे उन्हें इनसाइडर ट्रेडिंग का दोषी पाया गया।

सेबी ने पाया कि विक्रमादित्य चंद्रा ने ₹6,67,385 का अवैध लाभ कमाया, ईश्वरी प्रसाद बाजपेयी ने ₹882,780 प्राप्त किए, और सौरव बनर्जी ने प्रतिबंधित अवधि के दौरान शेयरों को बेचने से ₹47,000 का नुकसान उठाया।

चंद्रा और बाजपेयी को 6% ब्याज के साथ अवैध लाभ राशि को लौटाने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही तीनों को प्रतिभूति बाजार में एक वर्ष की अवधि के लिए व्यापार करने से रोक दिया गया है।

सेबी द्वारा जारी तीसरे आदेश में एनडीटीवी के सलाहकार संजय दत्त, उनकी पत्नी प्रनीता दत्त और उनसे जुड़ी तीन संस्थाओं को भी दोषी पाया गया है। ये तीन फर्म हैं- क्वांटम सिक्योरिटीज प्राइवेट लिमिटेड, एसएएल रियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड और ताज कैपिटल पार्टनर्स प्राइवेट लिमिटेड। संजय दत्त, प्रनीता दत्त और तीनों कंपनियों के पास NDTV के शेयर हैं और उन्होंने भी प्रतिबंधित अवधि के दौरान शेयरों में कारोबार किया था। उन्हें अवैध लाभ राशि 2.2 करोड़ को लौटाने आदेश दिया गया है और साथ ही 2 साल के लिए पूँजी बाजार में कारोबार करने से रोक दिया गया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मंदिर से माथे पर तिलक लगाकर स्कूल जाता था छात्र, टीचर निशात बेगम ने बाहरी लड़कों से पिटवाया: वीडियो में बच्चे ने बताई पूरी...

टीचर निशात बेगम का कहना है कि ये सब छात्रों के आपसी झगड़े में हुआ। पीड़ित छात्र को बाहरी लड़कों ने पीटा है। अब उसके परिजन कार्रवाई की माँग कर रहे हैं।

सोहा ने कब्र पर किया अब्बू को याद: भड़के कट्टरपंथियों ने इस्लाम से किया बाहर, कहा- ‘शादियाँ हिंदुओं से, बुतों की पूजा, फिर कैसे...

कुणाल खेमू से शादी करने वाली सोहा अली खान हाल में अपने अब्बू की कब्र पर अपनी माँ शर्मिला टैगोर और बेटी इनाया के साथ पहुँचीं। लेकिन कट्टरपंथी यह देख भड़क गए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,766FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe