Monday, October 26, 2020
Home रिपोर्ट मीडिया युद्ध के हालात लेकिन चीन का प्रचार, आँकड़ों से खेल और फेक न्यूज... आखिर...

युद्ध के हालात लेकिन चीन का प्रचार, आँकड़ों से खेल और फेक न्यूज… आखिर PTI पर कार्रवाई क्यों नहीं कर रहा प्रसार भारती

सुदर्शन समाचार मामले की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हो रही है, वहीं PTI पर इतने गंभीर आरोपों के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं। क्या पुरानी लिबरल लॉबी PTI को बचाने का काम कर रही है? क्या वो लॉबी प्रसार भारती पर दबाव बना रही है?

अभी से लगभग 3 महीने पहले एक ख़बर सामने आई थी कि प्रसार भारती समाचार एजेंसी पीटीआई के साथ संबंध ख़त्म कर सकता है। यह ख़बर ठीक उस घटना के बाद आई, जब पीटीआई ने लद्दाख सीमा विवाद मुद्दे पर चीन के राजदूत को प्रचार-प्रसार करने का मंच दिया था। समाचार एजेंसी पीटीआई को दिए साक्षात्कार में सून वीडाँग ने गलवान घाटी में हुए टकराव के लिए भारत को ज़िम्मेदार ठहरा दिया। 

इस मुद्दे पर विरोध करते हुए प्रसार भारती ने पीटीआई को पत्र लिखा और इस बात पर असहमति जताई। साथ ही यह भी कहा कि प्रसार भारती पीटीआई के साथ संबंधों की समीक्षा करेगा। इस तरह की कोई कार्रवाई होने का एक मतलब यह भी है कि प्रसार भारती पीटीआई को दिया जाने वाला आर्थिक सहयोग भी बंद कर सकता है जो कि करोड़ों में है। 

हालाँकि इस मुद्दे पर अभी तक कोई स्पष्ट नतीजा निकल कर नहीं आया है। बीते कुछ दिनों में भारत सरकार ने भारत चीन सीमा मुद्दे से संबंधित हर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष मुद्दे पर कड़े फैसले लिए हैं। चाहे वह चीनी एप्लिकेशन पर पाबंदी लगाना हो या चाहे चीन का समर्थन करने वाले संदिग्ध लोगों जैसे पत्रकार राजीव शर्मा की गिरफ्तारी हो, जो रक्षा क्षेत्र से जुड़े खुफ़िया दस्तावेज़ चीन से साझा कर रहा था। 

सरकारी संस्थाओं से लेकर अर्ध सरकारी संस्थाओं तक, महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले समय लेकर सोच-विचार हर जगह किया जाता है। लेकिन ऐसा मुद्दा जो राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा हुआ है, उस पर निर्णय लेने में देरी करना तर्क पूर्ण नहीं कहा जा सकता। जिस तरह के हालात बने हैं, ऐसे में यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि प्रसार भारती इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण जारी करे कि आखिर किन कारणों और वजहों से समाचार एजेंसी (पीटीआई) से इस मुद्दे पर सख्ती से बात नहीं कर रहा है। वह भी ऐसी समाचार एजेंसी, जिसका रवैया इतने संवेदनशील मुद्दों पर संदिग्ध है। 

पीटीआई का फ़र्ज़ी और भ्रामक समाचारों से रिश्ता बहुत पुराना है। इस साल अगस्त महीने में पीटीआई ने कोरोना वायरस के आँकड़ों पर प्रधानमंत्री को मिसकोट (गलत उद्धरण) किया था। इस साल हुए दिल्ली विधानसभा चुनावों में भी पीटीआई ने कई राजनीतिक दलों और उम्मीदवारों के आपराधिक रिकॉर्ड को लेकर गलत रिपोर्ट पेश की थी।

आम आदमी पार्टी के कुल 51 फ़ीसदी उम्मीदवारों पर गंभीर आपराधिक मामले चल रहे थे, जबकि पीटीआई ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि सिर्फ 25 फ़ीसदी उम्मीदवारों पर गंभीर मामले दर्ज थे। ऐसे ही पीटीआई ने एसोसिएशन ऑफ़ डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की रिपोर्ट में कई बड़े बदलाव किए थे। ठीक इसी तरह समाचार एजेंसी ने भाजपा और कॉन्ग्रेस के उम्मीदवारों के गलत आँकड़े पेश किए थे। इन दोनों घटनाक्रमों से साफ़ हो जाता है कि इतने संवेदनशील मामलों में पीटीआई का रवैया कैसा रहा है। 

पिछले साल जुलाई महीने में पीटीआई ने एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी। उस रिपोर्ट में पीटीआई ने दावा किया था कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने संसद में कहा, “विमुद्रीकरण का अर्थव्यवस्था पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा।” इसके बाद कई समाचार समूहों ने इस मुद्दे पर भ्रामक ख़बरें फैलाना शुरू कर दिया, जिसके बाद वित्त मंत्री ने खुद इस मुद्दे पर सफाई दी कि उन्होंने इस तरह का कोई भी बयान नहीं दिया है। 

प्रसार भारती देश की लोक सेवा प्रसारक एजेंसी है, जिसे संसद द्वारा बनाए गए अधिनियम के अंतर्गत बनाया गया है। दूरदर्शन टेलीविज़न नेटवर्क और आकाशवाणी (ऑल इंडिया रेडियो) भी प्रसार भारती के तहत ही आते हैं।

ऑपइंडिया से बात करते हुए सूत्रों ने बताया कि 1980 से लेकर अभी तक पीटीआई को जनता के प्रति ज़िम्मेदारी के बगैर 200 करोड़ रूपए की पब्लिक फंडिंग (चंदा) मिल चुकी है। आज के समय में उतनी धनराशि की कीमत 400 से 800 करोड़ रुपए (ब्याज दर के हिसाब से) है।

ऑपइंडिया को इस मामले की जाँच के दौरान एक और हैरान करने वाली बात पता चली। पीटीआई को सिर्फ प्रसार भारती से आर्थिक सहयोग नहीं मिलता है बल्कि वह बिना आधिकारिक अनुबंध के भी आर्थिक सहयोग उठा रहा है। पिछला अनुबंध साल 2005 में हुआ था जो कि साल 2006 में ख़त्म हो गया था। तभी से इस मुद्दे पर बातचीत जारी है लेकिन स्थायी अनुबंध पर कोई नतीजा निकल कर नहीं आया है। 

ऑपइंडिया को यह भी पता चला कि साल 2006 के बाद से प्रसार भारती पीटीआई की सारी सेवाएँ एड हॉक आधार पर ही ले रहा है। साल 2011 और साल 2013 के दौरान रेट रिवीज़न भी एड हॉक आधार पर था। साल 2011 के पहले रिवीज़न रेट को लेकर पीटीआई ने माँग की थी कि यह 56 करोड़ होना चाहिए। यानी पीटीआई के मुताबिक़, प्रसार भारती को यह धनराशि बतौर सालाना सब्सक्रिप्शन देनी चाहिए थी। 

साल 2014 में प्रसार भारती बोर्ड ने फैसला किया कि पीटीआई को दी जाने वाली राशि घटा कर 2 करोड़ रुपए कर दी जाए। साल 2019 को लिखे गए एक पत्र में भी यही बात दोहराई गई। पीटीआई से संबंधित तमाम कागज़ी कार्रवाई प्रबंधन निर्णयों के अंतर्गत आती है, जो लोक सेवा प्रसारक द्वारा लिए जाते हैं। वहीं प्रशासनिक विभाग, प्रबंधन द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देशों के आधार पर संवाद करता है। कुल मिला कर पीटीआई से संबंध समाप्त करने को लेकर अंतिम निर्णय बोर्ड ही ले सकता है, जब भी वह लेना चाहे (ऑपइंडिया द्वारा इकट्ठा की गई जानकारी के अनुसार)। 

नतीजा यह निकलता है कि प्रसार भारती और पीटीआई के बीच साल 2006 के बाद से कोई आधिकारिक अनुबंध नहीं हुआ है। यहाँ तक कि पीटीआई द्वारा चीन के समर्थन में किए गए प्रचार प्रसार और फ़र्ज़ी ख़बरें प्रकाशित करने के बावजूद एड हॉक समझौता ख़त्म नहीं किया गया। एक चेतावनी पत्र ज़रूर भेजा गया था, जो अभी तक विचाराधीन है। ऑपइंडिया ने इस दौरान अधिकारियों से भी बात करने का प्रयास किया लेकिन कोई आधिकारिक तौर पर बयान देने को तैयार नहीं हुआ।

यह बात खुद में कितनी चिंताजनक है कि सुदर्शन समाचार संबंधी मामले की सुनवाई देश की सबसे बड़ी अदालत में हो रही है, वहीं पीटीआई पर इतने गंभीर आरोपों के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। इसका एक मतलब यह भी हो सकता है कि क्या पुरानी लिबरल लॉबी पीटीआई को बचाने के लिए काम कर रही है? साथ ही क्या वो लॉबी प्रसार भारती पर दबाव बना रही है, जिससे पीटीआई को मिलने वाला आर्थिक सहयोग जारी रहे?  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Editorial Deskhttp://www.opindia.com
Editorial team of OpIndia.com

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बुलंदशहर की चुनावी रैली में भिड़े भीम-AIMIM: दिलशाद पर हाजी यामीन समर्थकों का जानलेवा हमला

बुलंदशहर में भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के काफिले पर फायरिंग की खबर के साथ ही AIMIM प्रत्याशी दिलशाद अहमद पर भी जानलेवा हमले की खबर सामने आई हैं।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

‘मिया म्यूजियम’ चाहिए कॉन्ग्रेसी MLA शेरमन अली को, असम सरकार ने खारिज की माँग

“...कोई मिया संग्रहालय स्थापित नहीं किया जाएगा। संग्रहालयों के प्रबंध विभाग किसी भी मिया संग्रहालय की स्थापना नहीं करेंगे।"

नवरात्रि में महिलाओं की पूजा, अन्य दिन रेप: कार्टून से हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने वाली वकील दीपिका पर FIR

जम्मू कश्मीर पुलिस ने दीपिका राजावत के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज की है। उनके ख़िलाफ़ धारा 505 (बी)(2), 294 और 295 के तहत मामला दर्ज हुआ है।

लालू यादव के 3 बकरों की बलि, मुझे मारने के लिए कराई थी तांत्रिक पूजा: सुशील मोदी

"लालू को जनता पर भरोसा नहीं, इसलिए वे तंत्र-मंत्र, पशुबलि और प्रेत साधना जैसे कर्म-कांड कराते रहे हैं।" - सुशील मोदी के इस ट्वीट के बाद...

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

प्रचलित ख़बरें

जब रावण ने पत्थर पर लिटा कर अपनी बहू का ही बलात्कार किया… वो श्राप जो हमेशा उसके साथ रहा

जानिए वाल्मीकि रामायण की उस कहानी के बारे में, जो 'रावण ने सीता को छुआ तक नहीं' वाले नैरेटिव को ध्वस्त करती है। रावण विद्वान था, संगीत का ज्ञानी था और शिवभक्त था। लेकिन, उसने स्त्रियों को कभी सम्मान नहीं दिया और उन्हें उपभोग की वस्तु समझा।

Video: मजार के अंदर सेक्स रैकेट, नासिर उर्फ़ काले बाबा को लोगों ने रंगे-हाथ पकड़ा

नासिर उर्फ काले बाबा मजार में लंबे समय से देह व्यापार का धंधा चला रहा था। स्थानीय लोगों ने वहाँ देखा कि एक महिला और युवक आपत्तिजनक हालत में लिप्त थे।

वो इंडस्ट्री का डॉन है.. कितनों की जिंदगी बर्बाद की, भाँजा ड्रग्स-लड़कियाँ सप्लाई करता है: महेश भट्ट की रिश्तेदार का आरोप

लवीना लोध ने वीडियो शेयर करके दावा किया है महेश भट्ट और उनका पूरा परिवार गलत कामों में लिप्त रहता है। लवीना ने महेश भट्ट को इंडस्ट्री का डॉन बताया है।

मजार के अंदर सेक्स रैकेट, मौलाना नासिर पकड़ाया भी रंगे-हाथ… लेकिन TOI ने ‘तांत्रिक’ (हिंदू) लिख कर फैलाया भ्रम

पूरी खबर में एक बात शुरू से ही स्पष्ट है कि आरोपित मजार में रहता है और उसका नाम नासिर है। लेकिन टाइम्स ऑफ इंडिया उसे तांत्रिक लिख कर...

फ्रांस के राष्ट्रपति ने इस्लाम के बारे में जो कहा, वही बात हर राष्ट्राध्यक्ष को खुल कर बोलनी चाहिए

इमैनुअल मैक्राँ ने वह कहा जो सत्य है। इस्लाम को उसके मूल रूप में जानना और समझना, उससे घृणा करना कैसे हो गया!

AajTak बड़े-बड़े अक्षरों में लिख कर और बोल कर Live माफी माँगे: सुशांत के फेक ट्वीट पर NBSA का आदेश

सुशांत मामले में फेक न्यूज़ चलाने के लिए 'न्यूज़ ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (NBSA)' ने 'आज तक' न्यूज़ चैनल को निर्देश दिया है कि वो माफ़ी माँगे।
- विज्ञापन -

बुलंदशहर की चुनावी रैली में भिड़े भीम-AIMIM: दिलशाद पर हाजी यामीन समर्थकों का जानलेवा हमला

बुलंदशहर में भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर के काफिले पर फायरिंग की खबर के साथ ही AIMIM प्रत्याशी दिलशाद अहमद पर भी जानलेवा हमले की खबर सामने आई हैं।

नवरात्र में ‘हिंदू देवी’ की गोद में शराब और हाथ में गाँजा, फोटोग्राफर डिया जॉन ने कहा – ‘महिला आजादी दिखाना था मकसद’

“महिलाओं को देवी माना जाता है लेकिन उनके साथ किस तरह का व्यवहार किया जाता है? उनके व्यक्तित्व को निर्वस्त्र किया जाता है।"

‘मिया म्यूजियम’ चाहिए कॉन्ग्रेसी MLA शेरमन अली को, असम सरकार ने खारिज की माँग

“...कोई मिया संग्रहालय स्थापित नहीं किया जाएगा। संग्रहालयों के प्रबंध विभाग किसी भी मिया संग्रहालय की स्थापना नहीं करेंगे।"

माँ बीमार, दिहाड़ी न कटे इसलिए 15 साल की बेटी को भेजा काम पर… लेकिन मालिक मो. मुक्तजीर ने किया रेप

नाबालिग पीड़िता की माँ मोहम्मद मुक्तजीर नामक व्यक्ति के गोदाम में काम करती थीं। अचानक से उनकी तबियत खराब हो गई, जिसकी वजह से...

नवरात्रि में महिलाओं की पूजा, अन्य दिन रेप: कार्टून से हिंदुओं की भावनाओं को ठेस पहुँचाने वाली वकील दीपिका पर FIR

जम्मू कश्मीर पुलिस ने दीपिका राजावत के ख़िलाफ़ शिकायत दर्ज की है। उनके ख़िलाफ़ धारा 505 (बी)(2), 294 और 295 के तहत मामला दर्ज हुआ है।

₹250 में 10-16 साल के बच्चों के sexual acts वाले वीडियो, TV कलाकार करता था इंस्टाग्राम-टेलीग्राम पर यह काम

CBI ने मुंबई के एक TV कलाकार के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया। आरोपित के ऊपर विदेशी नाबालिग बच्चों की यौन संबंधी सामग्री बेचने का आरोप...

लालू यादव के 3 बकरों की बलि, मुझे मारने के लिए कराई थी तांत्रिक पूजा: सुशील मोदी

"लालू को जनता पर भरोसा नहीं, इसलिए वे तंत्र-मंत्र, पशुबलि और प्रेत साधना जैसे कर्म-कांड कराते रहे हैं।" - सुशील मोदी के इस ट्वीट के बाद...

कंगना जब हवाई जहाज में थीं तो 9 रिपोर्टर-कैमरामैन टूट पड़े थे कुछ बुलवाने को, इंडिगो ने लगाया सभी पर बैन

डीजीसीए ने विमानन कंपनी को कहा था कि चंडीगढ़ से मुंबई जा रही फ्लाइट में हंगामा करने वाले लोगों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाए। कंगना इसी से...

Xitler: ओलम्पिक को चीन से बाहर कराने की माँग, लोगों को सता रहा 1936 के हिटलर का डर

वैश्विक शक्ति घोषित करने की होड़ में चीन ने हर उस आवाज़ को दबाने का प्रयास किया है, जो उसके विरोध में उठाई गई। यहाँ तक कि...

मंदिर तोड़ कर मूर्ति तोड़ी… नवरात्र की पूजा नहीं होने दी: मेवात की घटना, पुलिस ने कहा – ‘सिर्फ मूर्ति चोरी हुई है’

2016 में भी ऐसी ही घटना घटी थी। तब लोगों ने समझौता कर लिया था और मुस्लिम समुदाय ने हिंदुओं के सामने घटना का खेद प्रकट किया था

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,187FollowersFollow
337,000SubscribersSubscribe