Tuesday, April 20, 2021
Home रिपोर्ट मीडिया पिछले 6 महीनों में दक्षिणपंथी न्यूज़ वेबसाइटों पर बढ़ा ट्रैफिक, वामपंथी में उतार-चढ़ाव

पिछले 6 महीनों में दक्षिणपंथी न्यूज़ वेबसाइटों पर बढ़ा ट्रैफिक, वामपंथी में उतार-चढ़ाव

मोदी-विरोध में नकारात्मकता और निराशा का एजेंडा आगे बढ़ाने का काम आज ज़्यादातर वामपंथी पोर्टल कर रहे हैं। इसी नकारात्मकता से देश के उकताने का परिणाम है कि देश एक वैकल्पिक नैरेटिव की तलाश में है, जो कि दक्षिणपंथी मीडिया में उसे मिल रहा है।

दक्षिणपंथी न्यूज़ पोर्टलों का बेहतरीन प्रदर्शन

यदि वेबसाइटों पर रहे ट्रैफिक को जनता के मूड के पैमाने के तौर पर देखें तो दक्षिणपंथी विचारधारा आम भारतीय जनमानस में तेज़ी से जगह बना रही है। वेब ट्रैफिक को इकठ्ठा कर उसमें रुझानों का विश्लेषण करने वाली वेब एनालिटिक्स कंपनी सिमिलरवेब द्वारा जारी फरवरी तक के वेब ट्रैफिक डेटा से इसकी पुष्टि होती है।

सिमिलरवेब द्वारा इकट्ठे किए गए आँकड़ों के अनुसार भारत के शीर्ष दक्षिणपंथी न्यूज़ पोर्टलों स्वराज्य और ऑपइंडिया ने बीते 6 महीनों (सितम्बर 2018 से फ़रवरी 2019 तक) में वेब ट्रैफिक में बेहतरीन बढ़ोतरी दर्ज की है। स्वराज्य पोर्टल पर उपरोक्त समय में मासिक ट्रैफ़िक जहाँ बढ़कर 17 लाख से 30 लाख तक जा पहुँची, वहीं ऑपइंडिया ने 10 लाख (सितम्बर 2018) से बढ़कर लगभग 17 लाख (फ़रवरी 2019) मासिक ‘विज़िटर्स’ तक छलाँग लगाई। इसी बीच ऑपइंडिया ने अंग्रेज़ी के साथ-साथ अपना हिंदी संस्करण हिंदी पइंडिया भी शुरू किया।

वामपंथी न्यूज़ पोर्टलों में उतार-चढ़ाव का माहौल

वहीं इसी समय सीमा के दौरान वामपंथी रुझान वाले न्यूज़ पोर्टलों पर ट्रैफ़िक या तो सुस्त या उतार चढ़ाव वाला रहा। वामपंथी रुझान वाले न्यूज़ पोर्टलों में शीर्ष पर मौजूद ‘द वायर’ में जहाँ नवम्बर के बाद से वेब ट्रैफिक लगातार ढलान पर है, वहीं दूसरे पायदान पर मौजूद द क्विन्ट इस साल (वर्ष 2019 में ) वेब ट्रैफ़िक में बढ़ोतरी देखने वाले चुनिंदा पोर्टलों में शामिल है। पर सिमिलरवेब द्वारा संज्ञान में लिए गए पूरे छः महीनों की समयसीमा पर यदि गौर करें तो ‘द क्विन्ट’ का भी मासिक ट्रैफ़िक ~65 लाख से गिरकर ~50-55 लाख हो जाना एक सुरक्षित अनुमान होगा।

रामायण के वर्तमान भारत नहीं बल्कि वर्तमान ईरान-अफ़ग़ानिस्तान में घटित होने जैसे विवादस्पद लेख छापने वाला पोर्टल ‘स्क्रॉल’ लगातार उतार-चढ़ाव के बीच सितम्बर, 2018 में 50 लाख से थोड़े कम से बढ़कर फ़रवरी, 2019 में 50 लाख से ज़रा ही ऊपर तक पहुँचने में सफल रहा।

आजतक चैनल चलाने वाले इंडिया टुडे ग्रुप का ‘डेली-ओ’ भी उतार-चढ़ाव भरी छमाही के अंत में अंततोगत्वा लगभग उतना ही ट्रैफ़िक (~9 लाख) जुटा पाया जितना कि छमाही के शुरू में था।

पुलवामा में हताहत हुए सीआरपीएफ जवानों की जातिगत गणना करने व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल के पुत्र पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाने को लेकर विवादों का केंद्रबिंदु बने “कारवाँ” न्यूज़ पोर्टल को सबसे तगड़ा झटका लगा है। 5 महीनों में 2 लाख मासिक से बढ़कर 4.4 लाख मासिक तक पहुँचा कारवाँ का वेब ट्रैफ़िक फरवरी में लगभग 1 लाख का गोता लगाने के पश्चात् 3.4 लाख पर जा टिका।

नकारात्मक पत्रकारिता को नकारा

इसमें कोई दोराय नहीं कि मोदी सरकार न रामराज्य है और न ही उसकी वैचारिक भिन्नता के चलते आलोचना करना गलत या आपराधिक है, पर वामपंथी समाचार पोर्टलों ने मोदी-विरोध और देश-विरोध में कोई अंतर ही नहीं छोड़ा है। मोदी-विरोध में सच-झूठ का अंतर भुला देने और ख़बरों की यथास्थिति रिपोर्टिंग करने की बजाय एक नकारात्मकता और निराशा का एजेंडा आगे बढ़ाने का काम आज ज़्यादातर वामपंथी न्यूज़ पोर्टल कर रहे हैं।

और इसी नकारात्मकता से देश के उकताने का परिणाम है कि देश एक वैकल्पिक नैरेटिव की तलाश में है, जो कि दक्षिणपंथी मीडिया में उसे मिल रहा है।

एक बात और गौर करने लायक है कि अधिकांश दक्षिणपंथी मीडिया आउटलेट अपना वैचारिक आग्रह (ideological bias) खुल कर घोषित कर देते हैं (और जनता भी हमारी बातों पर विश्वास-अविश्वास उसी परिमाण में करती है जितने कि हम निष्पक्ष असल में रह पाते हैं)।

इसके ठीक उल्टे शायद ही कोई वामपंथी समाचार पोर्टल अपना वैचारिक आग्रह सर्वप्रथम आगे रखता है। आप, प्रिय वामपंथियो, अपना एजेंडा निष्पक्षता की ओट में चलाते हैं, जब कि अधिकांश दक्षिणपंथी पत्रकार और मीडिया संस्थान घोषित आग्रह के बावजूद यथासंभव निष्पक्षता-पूर्वक ख़बरों का विश्लेषण करने का प्रयास करते हैं, और खबर व अपनी राय को अलग-अलग परोसते हैं।

सिमिलरवेब और आंकड़ों के बारे में

वेब ट्रैफ़िक के आंकड़ों को इकठ्ठा और विश्लेषित करने वाली सिमिलरवेब इकलौती कंपनी नहीं है, और न ही इन आंकड़ों को ‘अंतिम तौर पर’ निर्णायक माना जा सकता है, चूँकि यह आँकड़े सिमिलरवेब की सीमित, मुफ़्त सेवा का प्रयोग कर इकट्ठे किए गए हैं।

पर इन तमाम सीमाओं के भीतर भी यह आंकड़े किसी भी विवेकशील व्यक्ति को यथास्थिति का भान कराने के लिए पर्याप्त हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना से लड़ाई में मजबूत कदम बढ़ाती मोदी सरकार: फर्जी प्रश्नों के सहारे फिर बेपटरी करने निकली गिद्धों की पाँत

गिद्धों की पाँत फिर से वैसे ही बैठ गई है। फिर से हेडलाइन के आगे प्रश्नवाचक चिन्ह के सहारे वक्तव्य दिए जा रहे हैं। फिर से श्मशान घाट की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की जा रही हैं। नेताओं द्वारा फ़र्ज़ी प्रश्न उठाए जा रहे हैं। शायद फिर उसी आकाँक्षा के साथ कि भारत कोरोना के ख़िलाफ़ अपनी लड़ाई हार जाएगा।

‘कॉन्ग्रेसी’ साकेत गोखले ने पूर्व CM के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत, शिवसेना नेता कहा- ‘फडणवीस के मुँह में डाल देता कोरोना’

शिवसेना के विधायक संजय गायकवाड़ ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को लेकर विवादित बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि अगर उन्हें कहीं कोरोना वायरस मिल जाता, तो वह उसे भाजपा नेता देवेंद्र फडणवीस के मुँह में डाल देते।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 26 अप्रैल तक 5 शहरों में लगाए कड़े प्रतिबन्ध, योगी सरकार ने पूर्ण लॉकडाउन से किया इनकार

योगी आदित्यनाथ सरकार ने शहरों में लॉकडाउन लगाने से इंकार कर दिया है। यूपी सरकार ने कहा कि प्रदेश में कई कदम उठाए गए हैं और आगे भी सख्त कदम उठाए जाएँगे। गरीबों की आजीविका को भी बचाने के लिए काम किया जा रहा है।

वामपंथियों के गढ़ जेएनयू में फैला कोरोना, 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित: 4 की हालत गंभीर

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, दिल्ली में भी कोविड ने एंट्री मार ली है। विश्वविद्यालय के स्वास्थ्य केंद्र से मिली जानकारी के मुताबिक 74 छात्र और स्टाफ संक्रमित पाए गए हैं।

‘मई में दिखेगा कोरोना का सबसे भयंकर रूप’: IIT कानपुर की स्टडी में दावा- दूसरी लहर कुम्भ और रैलियों से नहीं

प्रोफेसर मणिन्द्र और उनकी टीम ने पूरे देश के डेटा का अध्ययन किया। अलग-अलग राज्यों में मिलने वाले कोरोना के साप्ताहिक आँकड़ों को भी परखा।

‘कुम्भ में जाकर कोरोना+ हो गए CM योगी, CMO की अनुमति के बिना कोविड मरीजों को बेड नहीं’: प्रियंका व अलका के दावों का...

कॉन्ग्रेस नेता प्रियंका गाँधी ने CMO की अनुमति के बिना मरीजों को अस्पताल में बेड्स नहीं मिल रहे हैं, अलका लाम्बा ने सीएम योगी आदित्यनाथ के कोरोना पॉजिटिव होने और कुम्भ को साथ में जोड़ा।

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

‘छोटा सा लॉकडाउन, दिल्ली छोड़कर न जाएँ’: इधर केजरीवाल ने किया 26 अप्रैल तक कर्फ्यू का ऐलान, उधर ठेकों पर लगी कतार

केजरीवाल सरकार ने 26 अप्रैल की सुबह 5 बजे तक तक दिल्ली में लॉकडाउन की घोषणा की है। इस दौरान स्वास्थ्य सुविधाओं को दुरुस्त कर लेने का भरोसा दिलाया है।

SC के जज रोहिंटन नरीमन ने वेदों पर की अपमानजनक टिप्पणी: वर्ल्ड हिंदू फाउंडेशन की माफी की माँग, दी बहस की चुनौती

स्वामी विज्ञानानंद ने SC के न्यायाधीश रोहिंटन नरीमन द्वारा ऋग्वेद को लेकर की गई टिप्पणियों को तथ्यात्मक रूप से गलत एवं अपमानजनक बताते हुए कहा है कि उनकी टिप्पणियों से विश्व के 1.2 अरब हिंदुओं की भावनाएँ आहत हुईं हैं जिसके लिए उन्हें बिना शर्त क्षमा माँगनी चाहिए।

जिसने उड़ाया साधु-संतों का मजाक, उस बॉलीवुड डायरेक्टर को पाकिस्तान का FREE टिकट: मिलने के बाद ट्विटर से ‘भागा’

फिल्म निर्माता हंसल मेहता सोशल मीडिया पर विवादित पोस्ट को लेकर अक्सर चर्चा में रहते हैं। इस बार विवादों में घिरने के बाद उन्होंने...

ईसाई युवक ने मम्मी-डैडी को कब्रिस्तान में दफनाने से किया इनकार, करवाया हिंदू रिवाज से दाह संस्कार: जानें क्या है वजह

दंपत्ति के बेटे ने सुरक्षा की दृष्टि से हिंदू रीति से अंतिम संस्कार करने का फैसला किया था। उनके पार्थिव देह ताबूत में रखकर दफनाने के बजाए अग्नि में जला देना उसे कोरोना सुरक्षा की दृष्टि से ज्यादा ठीक लगा।

रोजा वाले वकील की तारीफ, रमजान के बाद तारीख: सुप्रीम कोर्ट के जज चंद्रचूड़, पेंडिग है 67 हजार+ केस

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने याचिककर्ता के वकील को राहत देते हुए एसएलपी पर हो रही सुनवाई को स्थगित कर दिया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,231FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe