Wednesday, July 28, 2021
Homeरिपोर्टमीडिया'हम आ रहे हैं': रिपब्लिक ने बंगाली में टीवी चैनल लाने का किया ऐलान,...

‘हम आ रहे हैं’: रिपब्लिक ने बंगाली में टीवी चैनल लाने का किया ऐलान, बहाली भी शुरू

चैनल ने लिखा, “रिपब्लिक टीवी सक्षम समाचार संपादकों की तलाश में है। रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क युवा और स्मार्ट पत्रकारों की भी तलाश कर रहा है, जो बांग्ला भाषा जानते हों और उन्हें पश्चिम बंगाल राज्य के किसी भी बंगाली समाचार चैनल में काम करने का अनुभव हो।”

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों से पहले रिपब्लिक टीवी ने बड़ी घोषणा करते हुए बताया है कि अब वह अपना एक चैनल बांग्ला भाषा में भी लेकर आ रहे हैं। हिंदी और अंग्रेजी भाषा में सर्वश्रेष्ठ स्थान प्राप्त करने के बाद रिपब्लिक टीवी ने बांग्ला चैनल को लेकर घोषणा शुक्रवार (दिसंबर 11, 2020) को की।

एक ट्वीट में न्यूज चैनल ने “हम आ रहे हैं!”  लिखते हुए बताया कि वह नए चैनल के लिए स्टाफ हायर कर रहे हैं। चैनल ने लिखा, “रिपब्लिक टीवी सक्षम समाचार संपादकों की तलाश में है। रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क युवा और स्मार्ट पत्रकारों की भी तलाश कर रहा है, जो बांग्ला भाषा जानते हों और उन्हें पश्चिम बंगाल राज्य के किसी भी बंगाली समाचार चैनल में काम करने का अनुभव हो।”

बता दें कि वर्तमान में रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क दो न्यूज चैनल चलाता है। एक अंग्रेजी में- रिपब्लिक टीवी और दूसरा हिंदी में- रिपब्लिक भारत। मीडिया समूह के दोनों चैनलों ने व्यूअरशिप के मामले में पिछले दिनों कई चैनलों को पछाड़ा है। अब बंगाली न्यूज चैनल इस संस्थान का पहला स्थानीय भाषी चैनल होगा।

दिलचस्प बात यह है कि अर्णब गोस्वामी ने अपने करियर की शुरुआत कोलकाता से ही की थी। वह बंगाल में ‘द टेलीग्राफ’ के लिए काम किया करते थे। वे बंगाली बोलना भली-भाँति जानते हैं, इसलिए हो सकता है बांग्ला चैनल पर भी वह एंकरिंग करते दिखें। उन्होंने जब रिपब्लिक भारत पर आना शुरू किया था तो वो भी अंग्रेजी की तरह बहुत पॉपुलर हुआ था।

याद दिला दें कि इससे पहले रिपब्लिक टीवी के एडिटर इन चीफ अर्णब गोस्वामी ने इस बात की ओर इशारा किया था कि वह रिपब्लिक चैनल को हर भाषा में खोलने का प्लान कर रहे हैं और यह भी घोषणा की थी कि वह जल्द ही एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया परियोजना शुरू करेंगे।

तलोजा जेल से रिहा होने के बाद रिपब्लिक टीवी पर बोलते हुए, अर्नब गोस्वामी ने कहा था, “अगले 11 से 12 महीनों में, हम भारत के हर राज्य में रिपब्लिक नेटवर्क लॉन्च करेंगे। रिपब्लिक आने वाले 16 से 17 महीनों में एक अंतरराष्ट्रीय मीडिया परियोजना भी शुरू करेगा।”

इसके अलावा उन्होंने यह ऐलान भी किया था:

“अगर तुम मुझे जेल में डालते हैं, तो मैं वहाँ से एक चैनल लॉन्च करूँगा। तुम कुछ नहीं कर सकते। मैं अकेला नहीं हूँ, देश मेरे साथ है। यदि मैं अगले 16 महीनों में वैश्विक मीडिया नेटवर्क लॉन्च नहीं करता हूँ, तो अपना नाम बदलूँगा।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe