Sunday, August 1, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाTRP के लिए न्यूज़ चैनल्स की रिपोर्टिंग पर केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा- TV...

TRP के लिए न्यूज़ चैनल्स की रिपोर्टिंग पर केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा- TV रेटिंग पर पुनर्विचार की जरूरत

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि सरकार किसी का अधिकार नहीं हथियाना चाहती है, आजादी पर आँच नहीं आने देना चाहती। लेकिन एक रिस्पांसिबल जर्नलिज्म हो। वो रिस्पांसिबिलिटी खुद तय करनी होती है इसके लिए किसी के हुक्म की जरूरत नहीं होती है।

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को टीवी चैनलों के TRP रेस को लेकर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि हमें टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट या टीआरपी-उन्मुख कार्यक्रमों की वर्तमान प्रणाली पर पुनर्विचार की आवश्यकता है। सरकार को मीडिया और प्रेस की स्वतंत्रता में विश्वास है, लेकिन मीडिया को यह सुनिश्चित करने के लिए एक तरीके से काम करना चाहिए कि इसकी स्वतंत्रता कैसे सुनिश्चित की जाती है।

बता दें टीआरपी एक टूल है जिसका उपयोग इम्प्रूवमेंट को मापने के लिए कुछ हज़ार दर्शकों के घरों में टेलीविज़न सेट से जुड़े डिवाइस के माध्यम से प्रोग्राम की लोकप्रियता को देखा जाता है।

संघ प्रमुख मोहन राव भागवत की मौजूदगी में बुधवार को पत्रकार और साहित्यकार माणिकचंद वाजपेयी ‘मामाजी’ के जन्मशताब्दी वर्ष के समापन समारोह में केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा, “पहले पीत पत्रकारिता ऐसा एक शब्द होता था। फिर पेड न्यूज, फिर फेक न्यूज हुआ। अब टीआरपी पत्रकारिता हो गई है। पहले एक प्राइवेट संस्था टैम टीआरपी निकालती थी जो बताती थी कि कौन से चैनल पर कौन सा कार्यकम ज्यादा देखा जा रहा है। ​फिर टीवी वालों ने अपना सिस्टम बनाया जिसे बार्क नाम दिया। तब मैंने कहा था कि ये एक अच्छा सेल्फ ​रेग्युलेशन है। इसे करना चाहिए लेकिन अब उसमें शामिल लोग ही आकर शिकायत कर रहे हैं। जो संस्थापक थे वो ही शिकायर्ता हो गए हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “आज टीआरपी के हमले के कारण पिछले दो सप्ताह या दो महीने में कैसी रिपोर्टिंग हुई है। पत्रकारिता कहाँ तक पहुँच गई है। ये टीआरपी का अनावश्यक बोझ मीडिया को कभी न कभी बंद करना पड़ेगा, सुधारना पड़ेगा या उसे कुछ अच्छा रूप देना पड़ेगा।”

जावड़ेकर ने कहा, “लोकप्रियता गिनने की मशीन और तरीका होना चाहिए। लेकिन उसके कारण लोग अपना कार्यक्रम बदलें। उकसाने वाली खबरें चलाएँ ये तो पत्रकारिता नहीं होगी। सरकार मीडिया और मीडिया की आजादी पर विश्वास रखती है। मीडिया अपनी स्वतत्रंता पर संयम से कैसे काम करे, इस पर नियंत्रण खुद तैयार करे।”

उन्होंने कहा, सरकार किसी का अधिकार नहीं हथियाना चाहती है, आजादी पर आँच नहीं आने देना चाहती। लेकिन एक रिस्पांसिबल जर्नलिज्म हो। वो रिस्पांसिबिलिटी खुद तय करनी होती है इसके लिए किसी के हुक्म की जरूरत नहीं होती है। हमारी इच्छा है एक रिस्पांसिबल जर्नलिज्म हो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पीवी सिंधु ने ओलम्पिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता: वेटलिफ्टिंग और बॉक्सिंग के बाद बैडमिंटन ने दिलाया देश को तीसरा मेडल

भारत की बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने टोक्यो ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता। चीनी खिलाड़ी को 21-13, 21-15 से हराया।

PM मोदी रचने जा रहे एक और इतिहास: 75 साल में सुरक्षा परिषद बैठक की अध्यक्षता करने वाले बनेंगे पहले भारतीय प्रधानमंत्री

75 साल में ये पहला मौका है, जब एक भारतीय प्रधानमंत्री संयुक्त राष्ट्र के 15 सदस्यीय निकाय के एक कार्यक्रम की अध्यक्षता करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,477FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe