Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टमीडियाबंद होने के कगार पर 'द हिन्दू' मुंबई संस्करण, 3 माह की सैलेरी देकर...

बंद होने के कगार पर ‘द हिन्दू’ मुंबई संस्करण, 3 माह की सैलेरी देकर पत्रकारों से माँगा इस्तीफ़ा

कई कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों पर वेतन कटौती या इस्तीफा देने के लिए दबाव बनाया गया है। यही वजह है कि विगत कुछ समय में 'द हिंदू', द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स और 'द टेलीग्राफ' ने भी अपने कर्मचारियों की छँटनी की है।

समाचार पत्र ‘द हिन्दू’ का मुंबई संस्करण बंद होने के कगार पर है। ‘द हिन्दू’ ने 3 माह की सैलेरी देकर अपनी आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए अपने पत्रकारों से इस्तीफ़ा माँगा है। कोरोना वायरस महामारी और उसके बाद देशव्यापी लॉकडाउन ने कई व्यवसायों को अपनी चपेट में लिया है। सार्वजानिक आवाजाही के बंद होने के चलते बड़े स्तर पर लोगों को रोजगार से हाथ धोना पड़ रहा है और इसका असर समाचार और मीडिया घरानों पर भी नजर आया है।

कई कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों पर वेतन कटौती या इस्तीफा देने के लिए दबाव बनाया गया है। यही वजह है कि विगत कुछ समय में ‘द हिंदू’, द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स और ‘द टेलीग्राफ’ ने भी अपने कर्मचारियों की छँटनी की है।

‘द हिंदू’ अखबार के विभिन्न संस्करणों में 100 से अधिक पत्रकार, सब-एडिटर्स और अन्य कर्मचारियों से उनके मैनेजमेंट द्वारा इस्तीफा माँगा गया है। अब ‘द हिंदू’ के मुंबई संस्करण के 20 से अधिक पत्रकारों को संस्थान द्वारा 25 जून से 30 जून तक इस्तीफा देने को कहा गया है। ये कर्मचारी अभी भी अपने संस्थान से इस सम्बन्ध में स्पष्ट बयान की प्रतीक्षा कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि ‘द हिन्दू’ समाचार पत्र का मुंबई संस्करण बंद होने के कगार पर है।

ज्ञात हो कि ‘द हिन्दू’ ने मुंबई संस्करण 2015 में ही शुरू किया था, जिसमें कई सीनियर पत्रकार भी काम कर रहे थे। सोशल मीडिया पर एक ईमेल की प्रति शेयर की जा रही है।

‘द हिंदू’ द्वारा अपने पत्रकारों को भेजा गया पत्र, जिसमें इस्तीफ़े की बात कही गई है

बताया जा रहा है कि यह 22 जून को निकाले जा रहे पत्रकारों को ‘द हिन्दू’ समूह के ह्यूमन रिसोर्स विभाग की ओर से भेजा गया था। इसमें संस्थान की कमजोर आर्थिक स्थिति का हवाला देते हुए आधिकारिक तौर पर कहा गया कि उन्हें 3 माह का वेतन और डीए (डियरनेस अलाउंस) दिया जाएगा और उनकी सेवा अवधि जुलाई 1, 2020 को समाप्त हो जाएगी।

हालाँकि, कुछ लोगों का यह भी कहना है कि लिखित के अलावा मौखिक तौर पर भी कई कर्मचारियों की सेवा समाप्ति की बात कही गई है।

भारतीय प्रेस परिषद ने मुंबई से प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र हिंदू के ब्यूरो कार्यालय में काम करने वाले पत्रकारों की सेवाओं को समाप्त करने की धमकी के संबंध में स्वतः संज्ञान लिया है।

भारतीय प्रेस परिषद के अध्यक्ष न्यायमूर्ति सीके प्रसाद ने इस मामले में स्वतः संज्ञान लेते हुए चिंता व्यक्त करते हुए कहा है कि दैनिक समाचार पत्र ‘द हिंदू’ और मुंबई ब्यूरो में काम करने वाले बड़ी संख्या में पत्रकारों को अपने पद से इस्तीफा देने के लिए कहा गया है। साथ ही, प्रेस काउंसिल ने इस संबंध में संपादक, द हिंदू और क्षेत्रीय महाप्रबंधक द हिंदू, मुंबई से बयान जारी करने के लिए भी कहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,042FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe