Wednesday, July 6, 2022
Homeरिपोर्टमीडियादीपक चौरसिया को मिल रही धमकी और गाली, दर्ज कराई FIR: पालघर साधु लिंचिंग...

दीपक चौरसिया को मिल रही धमकी और गाली, दर्ज कराई FIR: पालघर साधु लिंचिंग पर आवाज उठाने की ‘सजा’

दीपक चौरसिया ने पुलिस को दी गई शिकायत में कहा है कि जब से उन्होंने 'रिपब्लिक टीवी' के पत्रकार अर्नब गोस्वामी के खिलाफ आवाज उठाने वालों के खिलाफ ट्वीट किया है, तब से उन्हें मिलने वाली धमकियों की संख्या बढ़ गई है।

‘न्यूज़ नेशन’ के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया को पालघर पर सच्चाई सामने लाने के कारण लगातार धमकियाँ मिल रही हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें पत्रकारिता में आए 30 साल हो गए लेकिन उन्हें अब तक कभी ऐसी धमकियाँ नहीं मिली हैं। पत्रकार दीपक चौरसिया ने बताया कि उन्होंने इन धमकियों को लेकर एफआईआर (FIR) भी दर्ज कराई है।

दीपक चौरसिया ने आशंका जताई है कि पालघर मुद्दे पर आवाज़ उठाने के लिए उनके विरुद्ध ऐसा किया जा रहा है। उन्होंने उन धमकियों के स्क्रीन शॉट्स भी शेयर किए। ट्विटर पर ये सब शेयर करते हुए दीपक ने लिखा कि वो न तो इन सबसे डरने वाले हैं और न ही रुकने वाले हैं।

उन्होंने कहा कि जब तक उनके भीतर साँस है, तब तक वो इन मुद्दों पर आवाज़ उठाते रहेंगे। उन्होंने उत्तर प्रदेश के गौतम बुद्ध नगर थाने में FIR दर्ज कराई है। उनका कहना है कि पिछले कुछ दिनों से उन्हें फोन पर लगातर धमकियाँ मिल रही हैं और इनमें से अधिकतर नम्बर महाराष्ट्र के हैं।

चौरसिया ने कहा कि पालघर की वीभत्स घटना पर उन्होंने कई शो किए हैं, इसीलिए उन्हें परेशान किया जा रहा है। व्हाट्सएप्प पर उन्हें अभद्र और आपत्तिजनक भाषा में धमकियाँ मिल रही हैं। उन्होंने दावा किया कि ‘न्यूज़ नेशन’ चैनल लगातार सच्चाई सामने ला रहा है, इसीलिए उनकी आवाज़ दबाने की कोशिश की जा रही है।

उन्होंने बताया कि उन्हें पत्रकारिता का धर्म निभाने और समाज के लिए उनके दायित्वों की पूर्ति करने से दूर करने के लिए ये सब किया जा रहा है।

दीपक चौरसिया ने पुलिस को दी गई शिकायत में कहा है कि जब से उन्होंने ‘रिपब्लिक टीवी’ के पत्रकार अर्नब गोस्वामी के खिलाफ आवाज उठाने वालों के खिलाफ ट्वीट किया है, तब से उन्हें मिलने वाली धमकियों की संख्या बढ़ गई है।

बता दें कि पालघर साधुओं की हत्या के बाद पुलिस ने कई घंटों तक शवों की सुध नहीं ली थी। शव उस रात करीब 9 घंटे तक सड़क पर लावारिस पड़े रहे। ‘न्यूज नेशन’ के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया ने इस बात का खुलासा पालघर मामले में चश्मदीद फॉरेस्ट गार्ड का हवाला देकर किया था।

उन्होंने दावा किया था, “पालघर संतों की क्रूर और निर्मम हत्या के बाद उनकी देह 9 घंटे तक सड़क पर लावारिस पड़ी रही। दरअसल पुलिस वाले हत्या के बाद भाग खड़े हुए थे। रात भर ड्राइवर और दो संतों की हत्या के बाद भी पुलिस ने सुध नहीं ली।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

SC/ST आरक्षण लागू नहीं कर रहा जामिया, आयोग ने कुलपति नजमा अख्तर को किया तलब: दलित शिक्षक से कहा – बर्तन धो, चाय बनाओ

जातिगत अत्याचार के मामले में 'राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग' ने जामिया मिलिया इस्लामिया के कुलपति को तलब किया है। SC/ST आरक्षण बंद करने का मामला।

‘बोल देना नशे में था…’: राजस्थान पुलिस का Video वायरल; अजमेर दरगाह के जिस खादिम ने माँगी नूपुर शर्मा की गर्दन, उसे बताया ‘बचाव...

खादिम सलमान चिश्ती कह रहा है कि वो नशा नहीं करता, लेकिन इसके बावजूद राजस्थान पुलिस उससे कहती है, "बोल देना नशे में था, ताकि बचाया जा सके।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,106FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe