Wednesday, June 19, 2024
Homeरिपोर्टमीडिया'...अब भी BJP को वोट न दें तो लोग बेवकूफ हैं' : NDTV प्रोपगेंडे...

‘…अब भी BJP को वोट न दें तो लोग बेवकूफ हैं’ : NDTV प्रोपगेंडे को 12वीं की लड़की और मजदूर ने किया तार-तार, फजीहत के बाद Video डिलीट

वीडियो में 12 वीं कक्षा में पढ़ने वाली लड़की से पूछा जाता है कि कैसा चल रहा है सब? इस पर लड़की जवाब देती है कि सब अच्छा चल रहा है जबसे मोदी आए तब से सब अच्छा है।

उत्तर प्रदेश में चल रहे चौथे चरण के मतदान के बीच सोशल मीडिया पर NDTV की एक वीडियो शेयर हो रही है। इस वीडियो में NDTV न्यूज एंकर श्रीनिवासन ग्राउंड रिपोर्टिंग करने के लिए यूपी गए और सरकार द्वारा दी जा रही सुविधानओं के बारे में ग्रामीणों से बात की। वीडियो में एंकर द्वारा राशन, महंगाई, विकास और नौकरी जैसे मुद्दों को लेकर सवाल किए गए, जिन्हें सुन जनता ने उन्हें जवाब ऐसे दिए कि आखिर में एनडीटीवी को ये वीडियो अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से डिलीट करनी पड़ी।

इस वीडियो में श्रीनिवासन 12 वीं में पढ़ने वाली एक लड़की से मिले, जिसने उन्हें उनके हर सवाल का जवाब दिया। फिर उनकी मुलाकात एक मजदूर से हुई जिसने उन्हें बताया कि अगर सरकार के इतना करने के बावजूद भी वोट नहीं दे तो सिर्फ बेवकूफी है।

12 वीं की लड़की ने NDTV को बताए UP में बदलाव

वीडियो में 12 वीं कक्षा में पढ़ने वाली लड़की से पूछा जाता है कि कैसा चल रहा है सब? इस पर लड़की जवाब देती है कि सब अच्छा चल रहा है जबसे मोदी आए तब से सब अच्छा है। लड़की बताती है कि उन्हें किसी चीज की कोई कमी नहीं हो रही है। हर महीने किसानों का पैसा आ रहा है। राशन महीने में दो बार मिलता है।

पत्रकार लड़की की ये सारी बात सुन उससे पूछते हैं कि आप क्या करती हैं? इस पर लड़की का जवाब आता है- इंटरमीडिएट। ये सुन पहले दोनों पत्रकार कुछ सेकेंड की चर्चा करते हैं कि आखिर ये 10 वीं होता है या 12 वीं। बाद में तय होता है कि लड़की 12 वीं की है। इस पर लड़की से पूछा जाता है कि वो जॉब करेगी? लड़की ‘हाँ’ में जवाब देती है और श्रीनिवासन कहते हैं कि जब यहाँ जॉब नहीं है तो आप कैसे जॉब करेंगी। इस सवाल पर लड़की कहती है कि अगर काम करना होगा तो वारणसी जाकर कर लेंगे, जरूरी नहीं है कि यहाँ जॉब नहीं है तो काम ही नहीं है। 

मजदूर ने कहा- बीजेपी को जो वोट न तो बेवकूफी है

इसी तरह एनडीटीवी द्वारा एक मजदूर से जब मोदी कार्यकाल के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि वो ईंट-पत्थर ढोते हैं और कभी मुंबई होते हैं, सूरत में होते हैं। उन्होंने जानकारी दी कि वो कोरोना से पहले अपने गाँव लौट आए थे। श्रीनिवासन ने कहा कि यहाँ जॉब नहीं थी इसलिए तो उन्हें गाँव छोड़ना पड़ा। इस पर मजदूर ने उन्हें जवाब दिया कि जॉब तो मिलती है, करने वाले कहीं भी कर लेते हैं। मजदूर कहता है कि राशन मिलने की वजह से वो भारतीय जनता पार्टी से खुश हैं और अगर जनता अब भी उन्हें लाइक न करे तो ये बेवकूफी है। उन्होंने बताया ये सरकार आटा, दाल से लेकर तेल और नमक भी देती है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -