Tuesday, April 16, 2024
Homeविविध विषयअन्यHealth बजट: देश की सेहत के लिए मोदी सरकार बढ़ा सकती है दायरा!

Health बजट: देश की सेहत के लिए मोदी सरकार बढ़ा सकती है दायरा!

जन आरोग्य योजना के अंतर्गत 10 करोड़ परिवारों के 50 करोड़ लोगों को ₹5,00000 की स्वास्थ्य बीमा देने पर भी विचार किया जा सकता है। इस योजना पर ₹12,000 करोड़ खर्च किया जाना है।

2019 का बजट कई मायनों में ख़ास होने वाला है चूँकि ये बजट 2019 लोकसभा चुनाव से पहले और सरकार के पाँच साल के अंत में पेश किया जाएगा। सरकार 1 फरवरी को अंतरिम बजट 2019-20 पेश करेगी। बजट में सरकार की प्रमुखता में स्वच्छता, निवेश, रेलवे, टैक्स, सड़कों के साथ किसानों की आय बढ़ाना है।

स्वच्छता और स्वास्थ्य को लेकर हमेशा से गंभीर रही मोदी सरकार इस बार भी लोगों के स्वास्थ्य का ख़याल रखते हुए देश के लोगों को कई सौगात दे सकती है। कहते हैं कि जिस राष्ट्र में लोग स्वस्थ्य होते हैं उस राष्ट्र का विकास तेजी से होता है। देश के नागरिकों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए मोदी सरकार स्वास्थ्य योजनाओं के दायरे में बदलाव कर सकती है, ऐसी सम्भावना व्यक्त की जा रही है।

‘आयुष्मान भारत योजना’ का बढ़ सकता है दायरा

मोदी सरकार अंतरिम बजट में प्राथमिक हेल्थ केयर के लिए आवंटित रकम में बढ़ोतरी कर सकती है। साथ ही ‘आयुष्मान भारत योजना’ के तहत 5,500 हेल्थ केयर सेंटरों की शुरुआत भी किया जा सकता है। बता दें कि सरकार 2017-18 के ₹52,800 करोड़ के स्वास्थ्य बजट में 5% की बढ़ोतरी कर सकती है। इसके अलावा निजी और सार्वजनिक क्षेत्र में ट्रॉमा और इमर्जेंसी सेवाओं की मजबूती को लेकर बड़ा कदम उठा सकती है।

‘जन आरोग्य योजना’ के बजट में भी हो सकता है इजाफ़ा

पिछले बजट की तुलना में इस बार प्रधानमंत्री ‘जन आरोग्य योजना’ के बजट को भी बढ़ाया जा सकता है। बता दें कि इस योजना के अंतर्गत 10 करोड़ परिवारों के 50 करोड़ लोगों को ₹5,00000 की स्वास्थ्य बीमा देने पर भी विचार किया जा सकता है। इस योजना पर ₹12,000 करोड़ खर्च किया जाना है। बता दें कि सरकार ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य पॉलिसी के अनुसार स्वास्थ्य पर होने वाले खर्च को साल 2025 तक GDP के 1.15% हिस्से से बढ़ाकर 2.25% करने का लक्ष्य रखा है।

100 दिनों में 6 लाख से ज्यादा लोगों को मिल चुका है लाभ

बता दे कि योजना के लागू होने के लगभग 4 महीने के अंदर ही इस योजना के परिणाम दिखने शुरू हो गए थे। प्रमाण स्वरुप दुनिया की दिग्गज टेक्नॉलजी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक और गेट्स फाउंडेशन के को-चेयरमैन बिल गेट्स ने केंद्र सरकार की इस महत्वाकांक्षी ‘आयुष्मान भारत योजना’ की तारीफ़ की थी। बिल गेट्स ने इस योजना की लॉन्चिंग के 100 दिनों में 6 लाख से ज़्यादा मरीजों द्वारा लाभ उठाए जाने पर सुखद आश्चर्य प्रकट किया। उन्होंने सोशल मीडिया साइट ट्विटर पर स्वास्थ्य मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा था लिखा था, “आयुष्मान भारत के पहले 100 दिन के मौके पर भारत सरकार को बधाई। यह देखकर अच्छा लग रहा है कि कितनी बड़ी तादाद में लोग इस योजना का फ़ायदा उठा चुके हैं।”

ग़ौरतलब है कि मीडिया संस्थानों ने इसे ‘मोदीकेयर’ का नाम भी दिया है। आयुष्मान भारत के सीईओ डॉ. इंदु भूषण ने ट्वीट कर कहा था कि (जनवरी 16, 2019) तक तक़रीबन 8.50 लाख लोग आयुष्मान भारत योजना के तहत लाभान्वित हुए हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अरविंद केजरीवाल नं 1, दिल्ली CM की बीवी सुनीता नं 2… AAP की स्टार प्रचारकों की लिस्ट जिसने देखी वही हैरान, पूछ रहे- आत्मा...

आम आदमी पार्टी के स्टार प्रचारकों की लिस्ट में तिहाड़ जेल में ही बंद मनीष सिसोदिया का भी नाम है, तो हर जगह से जमानत खारिज करवाकर बैठे सत्येंद्र जैन का भी।

‘कन्हैया लाल तेली का क्या?’: ‘मुस्लिमों की मॉब लिंचिंग’ पर याचिका लेकर पहुँचा वकील निजाम पाशा तो सुप्रीम कोर्ट ने दागा सवाल, कहा –...

इस याचिका में अल्पसंख्यकों के खिलाफ मॉब लिंचिंग के अपराध बढ़ने का दावा करते हुए गोरक्षकों पर निशाना साधा गया था और तथाकथित पीड़ितों के लिए त्वरित वित्तीय मदद की व्यवस्था की माँग की गई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe