Wednesday, September 22, 2021
Homeरिपोर्टएयर स्ट्राइक से ख़फ़ा 'इस्लामिक स्कॉलर' ने शेयर की मोदी की एडिट की हुई...

एयर स्ट्राइक से ख़फ़ा ‘इस्लामिक स्कॉलर’ ने शेयर की मोदी की एडिट की हुई भद्दी तस्वीरें, गिरफ़्तार

आबिद को एफआईआर फाइल होने के तुरंत बाद गिरफ़्तार कर लिया गया। उसे 2012 में जलालपुर गाँव स्थित मस्ज़िद का इमाम बनाया गया था।

उत्तर प्रदेश के मिर्ज़ापुर जिला स्थित चुनार में एक मस्ज़िद के इमाम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर न सिर्फ़ भद्दी टिप्पणी की बल्कि उनकी कई फोटो को भी आपत्तिजनक रूप से एडिट कर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया। वो खुद को ‘इस्लामिक स्कॉलर’ बताता है। सोशल मीडिया पर उसके द्वारा की गई अभद्र टिप्पणी को लेकर लोगों ने उसका विरोध किया। लोगों द्वारा मना किए जाने व विरोध दर्ज कराने के बावजूद इमाम ने वो पोस्ट हटाने से मना कर दिया। बाद में थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस ने उसे गिरफ़्तार कर लिया है। इमाम का नाम आबिद अली हुसैन है।

पीएम का अपमान करने वाले आबिद की फेसबुक प्रोफाइल

ख़बरों के अनुसार, पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत द्वारा पाकिस्तान पर किए गए एयर स्ट्राइक के खिलाफ इस व्यक्ति ने कई आपत्तिजनक तस्वीरें पोस्ट की थीं, जो कि भद्दी और अश्लील होने के साथ प्रधानमंत्री मोदी के चरित्र तक उँगली उठा रही थीं। ये तस्वीरें किसी सॉफ़्टवेयर की मदद से मैनिपुलेट की गई थीं।

इस मामले को लेकर चुनार पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया है। उसने पीएम मोदी का अपमान करने के लिए उनकी फोटो को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान की फोटो के साथ एडिट कर फेसबुक पर पोस्ट किया। उसने एक के बाद एक ऐसी कई भद्दी फोटोज शेयर की। मूल रूप से बिहार का रहने वाला इमाम आबिद पर निम्नलिखित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है:

  • आईपीसी की धारा 153 ए (धर्म, नस्ल, जन्म स्थान, निवास, भाषा आदि के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना, और सद्भाव बनाए रखने के ख़िलाफ़ पूर्वाग्रहपूर्ण कार्य करना।)
  • 295 ए (जानबूझकर किया गया दुर्भावनापूर्ण कृत्य।)
  • किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को चोट पहुँचाने के उद्देश्य से, उसके धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करना।
  • 505 (सार्वजनिक उपद्रव को बढ़ावा देने वाला बयान देना।)

27 वर्षीय इमाम आबिद के ख़िलाफ़ चुनार थाने में भाजपा जिला युवा मोर्चा के अध्यक्ष मोहन यादव व अन्य की शिकायतों के बाद ये मामले दर्ज किए गए। आबिद को एफआईआर फाइल होने के तुरंत बाद गिरफ़्तार कर लिया गया। वह लगभग एक दशक पूर्व बिहार से मिर्ज़ापुर आ कर बस गया था। उसे 2012 में जलालपुर गाँव स्थित मस्ज़िद का इमाम बनाया गया था।

उधर एक अन्य मामले में बाराबंकी के एक प्राथमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक को भी पुलवामा हमले को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी करने के कारण उसके पद से ससपेंड कर दिया गया। उसने एक व्हाट्सएप्प ग्रुप के माध्यम से यह ओछी हरकत की थी। इस बारे में विशेष जानकारी देते हुए शिक्षाधिकारी वीपी सिंह ने कहा:

“बड़वन के सरकारी प्राइमरी स्कूल के हेडमास्टर सुरेंद्र कुमार ने मंगलवार रात को एक व्हाट्सएप ग्रुप में पुलवामा हमले को लेकर पर आपत्तिजनक टिप्पणी की। बुधवार को मुझे जानकारी मिली और संबंधित खंड शिक्षा अधिकारी (बीईओ) को इस पर गौर करने के लिए कहा गया। बीईओ द्वारा उसे (हेडमास्टर को) दोषी पाए जाने के बाद हमने यह कार्रवाई की।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सोहा ने कब्र पर किया अब्बू को याद: भड़के कट्टरपंथियों ने इस्लाम से किया बाहर, कहा- ‘शादियाँ हिंदुओं से, बुतों की पूजा, फिर कैसे...

कुणाल खेमू से शादी करने वाली सोहा अली खान हाल में अपने अब्बू की कब्र पर अपनी माँ शर्मिला टैगोर और बेटी इनाया के साथ पहुँचीं। लेकिन कट्टरपंथी यह देख भड़क गए।

न जुबान चढ़ी और न आँख…फाँसी कैसे? नरेंद्र गिरि को भू-समाधि: सुसाइड लेटर में दो पेन के प्रयोग से गहराया संदेह, उत्तराधिकारी पर टला...

निरंजनी अखाड़ा के रविंद्र पुरी ने कहा कि जो सुसाइड नोट मिला है, वह उनके (महंत नरेंद्र गिरि) द्वारा नहीं लिखा गया है। इस मामले की जाँच होनी चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,766FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe