Monday, July 15, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाईरान, पाक और अफगान से आने वाले कार्गो से अडानी ग्रुप के बंदरगाहों ने...

ईरान, पाक और अफगान से आने वाले कार्गो से अडानी ग्रुप के बंदरगाहों ने बनाई दूरी, 3000Kg हेरोइन बरामद होने के बाद समूह का बड़ा फैसला

APSEZ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुब्रत त्रिपाठी द्वारा हस्ताक्षरित एडवाइजरी में कहा गया है, ''आपको सूचित किया जाता है कि 15 नवंबर, 2021 से APSEZ ईरान, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आने वाले EXIM कंटेनर कार्गो को नहीं सँभालेगा।

अडानी ग्रुप ने सोमवार (11 अक्टूबर 2021) को बड़ा फैसला लेते हुए घोषणा की है कि अब से वह अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन लिमिटेड (APSEZ) पोर्ट पर पाकिस्तान, ईरान और अफगानिस्तान से आने वाले कार्गो को नहीं सँभालेगा। अडानी ग्रुप ने मुंद्रा पोर्ट पर दो कंटेनरों से लगभग 3,000 किलोग्राम हेरोइन जब्त किए जाने के लगभग एक महीने बाद यह फैसला लिया है। यह फैसला 15 नवंबर से प्रभावी हो जाएगा।

APSEZ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सुब्रत त्रिपाठी द्वारा हस्ताक्षरित एडवाइजरी में कहा गया है, ”आपको सूचित किया जाता है कि 15 नवंबर, 2021 से APSEZ ईरान, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से आने वाले EXIM कंटेनर कार्गो को नहीं सँभालेगा। ये सलाह अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन (APSEZ) की तरफ से ऑपरेट किए जा रहे सभी टर्मिनल्स और थर्ड पार्टी पर लागू होगी।”

दरअसल, APSEZ 16 सितंबर 2021 को ड्रग्स जब्त किए जाने के बाद से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लगातार आलोचनाओं का सामना कर रहा है। इसके बाद कंपनी को 21 सितंबर 2021 को एक बयान जारी करना पड़ा था, जिसमें स्पष्ट किया गया था कि APSEZ एक पोर्ट ऑपरेटर है, जो शिपिंग लाइंस को सेवाएँ प्रदान करता है। कंपनी ने आगे कहा कि मुंद्रा पर कंटेनरों या अडानी पोर्ट्स द्वारा प्रबंधित किसी भी पोर्ट पर पुलिसिंग अधिकार उसके पास नहीं है।

उल्लेखनीय है कि अफगानिस्तान पर तालिबान के शासन के बाद से इस बात को लेकर अधिक चिंता व्यक्त की जा रही है कि इस्लामिक कट्टरपंथी भारतीय और अन्य बाजारों में ड्रग्स की आपूर्ति बढ़ाएँगे। यह सर्वविदित है कि तालिबान की कमाई का प्रमुख स्रोत अफीम है।

राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने 16 सितंबर को मुंद्रा बंदरगाह पर करीब 3,000 किलोग्राम मूल्य की हेरोइन जब्त की थी। तभी से अडानी ग्रुप सोशल मीडिया यूजर के निशाने पर आ गया था। जाँच के दौरान पता चला कि ईरान के अब्बास बंदरगाह के रास्ते अफगानिस्तान से आया माल आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा स्थित आशी ट्रेडिंग फर्म के नाम से था।

बता दें कि डीआरआई को इस खेप के बारे में एक गुप्त सूचना मिली थी। जाँच एजेंसियों ने पाया कि विजयवाड़ा स्थित फर्म द्वारा इस खेप को ‘टैल्कम पाउडर’ बताया गया था। मीडिया के सूत्रों के अनुसार, इसे निर्यात करने वाली फर्म की पहचान अफगानिस्तान के कंधार में स्थित हसन हुसैन लिमिटेड के रूप में की गई है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

98 दिन ASI ने किया सर्वे, 2000 पन्नों की रिपोर्ट हाई कोर्ट में पेश: भोजशाला में ब्रम्हा-गणेश-नरसिंह-भैरव सबकी प्रतिमाएँ मिलीं, हिन्दू पक्ष ने कहा-...

मध्य प्रदेश के धार जिले में स्थित भोजशाला में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) की सर्वे रिपोर्ट को मध्य प्रदेश हाई कोर्ट में जमा कर दिया गया है।

मात्र 2 किलोग्राम ही घटा अरविंद केजरीवाल का वजन, AAP कह रही – कोमा में चले जाएँगे, ब्रेन स्ट्रोक हो जाएगा: जेल प्रशासन ने...

10 मई को जब उन्हें जमानत पर रिहा किया गया, तब उनका वजन 64 किलो था। यानी, 1 महीने 10 दिन में अरविंद केजरीवाल का वजन मात्र 1 किलोग्राम घटा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -