Wednesday, May 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाहिमंता सरकार का आतंकियों के खिलाफ अभियान तेज: असम पुलिस ने बोंगाईगाँव से अल-कायदा...

हिमंता सरकार का आतंकियों के खिलाफ अभियान तेज: असम पुलिस ने बोंगाईगाँव से अल-कायदा के एक और आतंकी को किया गिरफ्तार, मदरसे में था मौलवी

बता दें AQIS और ABT से जुड़े आतंकियों की यह पहली गिरफ्तारी नहीं है। गत शनिवार (20 अगस्त 2022) को पुलिस ने गोलपारा जिले से अब्दुस सुभान और जलालुद्दीन शेख नामक दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया था। ये दोनों ही अलग-अलग मस्जिदों में इमाम थे।

पुलिस ने शुक्रवार (26 अगस्त 2022) को असम ने बोंगाईगाँव जिले से एक संदिग्ध आतंकी को गिरफ्तार किया है। शुरुआती जाँच में इस आतंकी का संबंध अल-कायदा भारतीय उपमहाद्वीप (AQIS) और अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (ABT) से जुड़ा पाया गया है। फिलहाल यह आतंकी पुलिस हिरासत में है, जहाँ इससे कड़ी पूछताछ की जा रही है।

पुलिस ने यह गिरफ्तारी गोलपारा जिला पुलिस द्वारा बोंगाईगाँव जिले के जोगीघोपा इलाके से की है। गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी की पहचान हाफिजुर रहमान मुफ्ती के रूप में हुई है। हाफिजुर इलाके के एक मदरसे में पढ़ाता है।

गोलपारा के SP वीवी राकेश रेड्डी ने बताया, “गोलपारा जिला पुलिस ने बोंगाईगाँव जिले के जोगीघोपा इलाके से एक्यूआईएस/एबीटी से जुड़े हाफिजुर रहमान मुफ्ती को गिरफ्तार किया है। वह एक मदरसे में शिक्षक है। एक सप्ताह के भीतर AQIS/ABT से संबंध के मामले में यह चौथी गिरफ्तारी है।”

गौरतलब है कि असम पुलिस अल-कायदा भारतीय उपमहाद्वीप (AQIS) और अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (ABT) से जुड़े आतंकियों के खिलाफ लगातार अभियान चला रही है। इस अभियान में एक के बाद आतंकी पुलिस के हत्थे चढ़ रहे हैं।

बता दें AQIS और ABT से जुड़े आतंकियों की यह पहली गिरफ्तारी नहीं है। गत शनिवार (20 अगस्त 2022) को पुलिस ने गोलपारा जिले से अब्दुस सुभान और जलालुद्दीन शेख नामक दो संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया था। ये दोनों ही अलग-अलग मस्जिदों में इमाम थे।

इन संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी पर पुलिस ने बताया था कि ये दोनों बांग्लादेश से आए जिहादी आतंकियों को रहने और खाने-पीने का इंतजाम करते थे। इसके साथ ही ये AQIS की ओर से गोलपारा जिले में स्लीपर सेल की भर्ती कर रहे थे।

इसी प्रकार, 28 जुलाई 2022 को भी असम पुलिस ने 11 संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद हुई पूछताछ में इनके संबंध AQIS और ABT से जुड़े पाए गए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जम्मू-कश्मीर में फिर से 370 बहाल करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, कहा- फैसला सही था: CJI की बेंच ने पुनर्विचार याचिकाओं को किया...

सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर दिए गए निर्णय को लेकर दाखिल पुनर्विचार याचिकाओं को खारिज कर दिया।

‘दिखाता खुद को सेकुलर है, पर है कट्टर इस्लामी’ : हिंदू पीड़िता ने बताया आकिब मीर ने कैसे फँसाया निकाह के जाल में, ठगे...

पीड़िता ने ऑपइंडिया को बताया कि आकिब खुद को सेकुलर दिखाता है, लेकिन असल में वो है इस्लामवादी। उसने महिला से कहा हुआ था वह हिंदू देवताओं को न पूजे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -