Friday, August 12, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा370 का 'पावर' खत्म होने के बाद घाटी और आसपास के महत्वपूर्ण स्थानों पर...

370 का ‘पावर’ खत्म होने के बाद घाटी और आसपास के महत्वपूर्ण स्थानों पर 8000 अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की तैनाती

पुलिस और अर्धसैनिक बलों को घाटी में पहले से ही हाई अलर्ट पर रखा गया है। रविवार को ही, पुलिस स्टेशन में पारंपरिक टेलीकॉम नेटवर्क को बायपास करने के लिए सैटेलाइट फोन उपलब्ध कराए गए थे।

केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने की सिफ़ारिश की। अमित शाह ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने का संकल्प राज्यसभा में पेश किया। शाह ने कहा कि अनुच्छेद 370 का सिर्फ़ एक खंड लागू होगा और राष्ट्रपति ने इसे मंजूरी दे दी है। जिसके बाद से ही संसद से लेकर देश के कई जगहों पर हंगामा जारी है। हालाँकि, स्थिति सामान्य है फिर भी सावधानी बरतते हुए श्रीनगर में घाटी और आसपास के महत्वपूर्ण स्थानों जैसे, नागरिक सचिवालय, पुलिस मुख्यालय, हवाई अड्डे और विभिन्न केंद्र सरकार के प्रतिष्ठानों में 8000 अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है।

पुलिस और अर्धसैनिक बलों को घाटी में पहले से ही हाई अलर्ट पर रखा गया है। रविवार को ही, पुलिस स्टेशन में पारंपरिक टेलीकॉम नेटवर्क को बायपास करने के लिए सैटेलाइट फोन उपलब्ध कराए गए थे।

जानकारी के अनुसार, आज होने वाले वाले बड़े फैसले के मद्देनज़र केंद्र ने विभिन्न एयरलाइन्स के टिकट बढ़ते दाम पर रोक लगाते हुए उसकी क़ीमत 7,000 रुपए कर दी थी जिससे अमरनाथ यात्री और पर्यटक घाटी से निकलने में काफ़ी मदद मिली। क्रिकेट टीमों के मेंटर पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान पठान अपने घर सुरक्षित लौट गए थे। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा के मद्देनज़र श्रीनगर में चल रहे अंडर-16 और अंडर-19 ट्रायल्स स्थगित कर दिए गए थे। ग़ौरतलब है कि इरफान पठान अंडर-16 (विजय मर्चेंट ट्रॉफी) और अंडर-19 (कूच बेहार ट्रॉफी) के ट्रायल्स को देखने और संभावित खिलाड़ियों की सूची तैयार करने के लिए श्रीनगर में थे।

इरफान पठान ने रविवार को पीटीआई से कहा, ”हमने फ़िलहाल जूनियर टीम ट्रायल्स का दूसरा चरण स्थगित कर दिया है। हमारा पहला चरण जून और जुलाई में चला था। यह दूसरा चरण था। सरकार की तरफ से परामर्श जारी हुआ है और इसलिए जम्मू कश्मीर क्रिकेट संघ (जेकेसीए) सीईओ बुखारी और प्रशासक न्यायमूर्ति प्रसाद से मैंने मुलाकात की। इसके बाद लड़कों को वापस घर भेजने का फैसला किया गया।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘द सैटेनिक वर्सेज’ के लेखक सलमान रुश्दी पर जुमे के दिन चाकू से हमला, न्यूयॉर्क में हुई वारदात

'द सैटेनिक वर्सेज' के लेखक उपन्यासकार सलमान रुश्दी को न्यूयॉर्क में भाषण देने से पहले पर चाकू से हमला किया गया है।

‘मानसखण्ड मंदिर माला मिशन’ के जरिए प्राचीन मंदिरों को आपस में जोड़ेंगे CM धामी, माँ वाराही देवी मंदिर में पूजा-अर्चना कर बगवाल में हुए...

सीएम धामी ने कुमाऊँ के प्राचीन मंदिरों को भव्य बनाने और उन्हें आपस में जोड़ने के लिये मानसखण्ड मंदिर माला मिशन की शुरुआत की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,239FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe