Tuesday, August 3, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाआतंकवादियों को मस्जिदों का उपयोग न करने दें, J&K में 1 महीने में दूसरी...

आतंकवादियों को मस्जिदों का उपयोग न करने दें, J&K में 1 महीने में दूसरी बार मस्जिद से हुई गोलीबारी: IG विजय कुमार

"पिछले साल जनवरी से जून के बीच 129 युवा आतंकी संगठनों में शामिल हुए। इस साल 6 महीने में 67 युवा आतंकी बने हैं। जिसमें से 24 मारे गए हैं। 12 गिरफ्तार कर लिए गए हैं, जबकि बाकी अभी भी सक्रिय हैं। हम युवाओं के माता-पिता से अपील करते हैं कि उन्हें मुख्य धारा से जोड़ने के लिए कदम उठाएँ।"

जम्मू कश्मीर में भारतीय सशस्त्र बल आतंकियों का तेज़ी से सफाया कर रहे हैं। इससे बौखलाए आतंकी अब आम नागरिकों को निशाना बना रहे हैं। इसी बीच सीआरपीएफ (CRPF) के गश्ती दल पर आतंकी हमला हुआ, जिसमें सीआरपीएफ का एक जवान वीरगति को प्राप्त हो गया। तीन अन्य जवान घायल हो गए और एक आम नागरिक की मौत हो गई है।

कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने बताया कि आतंकियों ने सीआरपीएफ दस्ते पर मस्जिदों से गोलीबारी की थी। उन्होंने बताया कि पिछले एक महीने में आतंकवादियों ने दूसरी बार अपने नापाक ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए मस्जिदों का इस्तेमाल किया है। आईजी विजय कुमार ने कहा, “मैं मस्जिद समितियों से अनुरोध करता हूँ कि आतंकवादियों को धार्मिक स्थलों का उपयोग न करने दें।”

उन्होंने आगे कहा, “पिछले साल जनवरी से जून के बीच 129 युवा आतंकी संगठनों में शामिल हुए। इस साल 6 महीने में 67 युवा आतंकी बने हैं। जिसमें से 24 मारे गए हैं। 12 गिरफ्तार कर लिए गए हैं, जबकि बाकी अभी भी सक्रिय हैं। हम युवाओं के माता-पिता से अपील करते हैं कि उन्हें मुख्य धारा से जोड़ने के लिए कदम उठाएँ।”

बता दें कि आम नागरिक की मौत के बाद उनकी लाश के पास फँसे ती साल के बच्चे को सीआरपीएफ के जवान और जम्मू कश्मीर पुलिस ने अपनी जान पर खेल कर बचाया। बच्चे को आतंकियों की गोलियों की बौछार के बीच बचाना चुनौती भरा काम था, जिसके लिए CRPF और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अपनी ज़िंदगी दाँव पर लगा दी। वायरल तस्वीरों में उक्त बच्चे को अपने नाना जी की लाश पर बैठा देखा जा सकता है। उसके बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस के एक जवान की गोद में रेस्क्यू किए गए बच्चे को देखा जा सकता है।

आईजी ने कहा कि अलग-अलग स्थानों पर हुईं मुठभेड़ में हमने 121 हथियार बरामद किए हैं। जिनमें से 62 एके-47, एक एम-4 राइफल, एक पीका गन और 44 पिस्टल बरामद किए गए हैं। इस साल अबतक 22 आतंकी ठिकाने ध्वस्त किए गए हैं। 22 हार्डकोर आतंकी भी पकड़े गए हैं। साथ ही 309 आतंकियों के मददगारों को पकड़ने में सफलता मिली है। वहीं 15 नागरिकों की जान गई है। 

उन्होंने कहा कि पिछले छह महीनों में कश्मीर में 118 आतंकवादी मारे गए हैं। जिसमें से 57 हिजबुल के हैं। इस अवधि में रियाज नायकू समेत कई शीर्ष कमांडरों को मार गिराया गया है। अब हमारा लक्ष्य जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों का सफाया करना है। कई शीर्ष आतंकी हमारी सूची में शामिल हैं। लश्कर के भी कई आतंकी निशाने पर हैं। आतंकी संगठनों में शामिल होने वालों की संख्या में कमी आई है। जोकि कश्मीर घाटी के लिए अच्छा संकेत है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुख्तार अंसारी की बीवी और उसके सालों की ₹2 करोड़ 18 लाख की संपत्ति जब्त: योगी सरकार ने गैंगस्टर एक्ट के तहत की कार्रवाई

योगी सरकार द्वारा कुख्यात माफिया और अपराधी मुख्तार अंसारी की लगभग 2 करोड़ 18 लाख रुपए मूल्य की संपत्ति की कुर्की की गई। यह संपत्ति अंसारी की बीवी और उसके सालों के नाम पर थी।

अमित शाह ने बना दी असम-मिजोरम के बीच की बिगड़ी बात, अब विवाद के स्थायी समाधान की दरकार

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के प्रयासों के पश्चात दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने जिस तरह की सतर्कता और संयम दिखाया है उसका स्वागत होना चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,804FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe