Thursday, June 20, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'किसानों' की आड़ में साजिश रच रही ISI, 26 जून के प्रदर्शन के दौरान...

‘किसानों’ की आड़ में साजिश रच रही ISI, 26 जून के प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़काने के मँसूबे: रिपोर्ट

संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 जून को विभिन्न राज्यों में राजभवन के बाहर प्रदर्शन की योजना बनाई है। संयुक्त किसान मोर्चा में किसानों के 40 समूह शामिल हैं।

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लंबे समय से कथित किसान दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन आंदोलनकारी ‘किसानों’ ने 26 जून 2021 को देशभर में बड़े पैमाने प्रदर्शन की योजना बनाई है। इसकी आड़ में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई भारत में अशांति फैलाने की साजिश रच रही है।

News18 की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि किसान आंदोलन में घुसपैठ की फिराक में लगे आईएसआई ने इस बार नई साजिश रची है। वह प्रदर्शन के दौरान कानून-व्यवस्था कायम रखने के लिए तैनात सुरक्षा बलों को भड़काकर गड़बड़ी फैलाने की फिराक में है। इससे पहले ISI ने ने किसानों को भड़काकर हिंसा और गड़बड़ी फैलाने की साजिश रची थी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 जून 2021 को विभिन्न राज्यों में राजभवन के बाहर प्रदर्शन की योजना बनाई है। संयुक्त किसान मोर्चा में किसानों के 40 समूह शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार, आईएसआई भारत में सुरक्षा एजेंसियों और प्रदर्शनकारियों के बीच टकराव बढ़ाकर उसका फायदा उठाना चाहता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएसआई पिछले कुछ महीनों से अपने एजेंटों के साथ ‘किसान’ आंदोलन में घुसपैठ करने की फिराक में है। यह बात सामने आई है कि आईएसआई किसानों के खिलाफ सुरक्षा एजेंसियों को भड़काना चाहती है। इस साजिश के खुलासे के बाद एजेंसियाँ सतर्क हो गई हैं। सुरक्षा-व्यवस्था और सख्त कर दी गई है। खुफिया एजेंसियाँ ​​तमिलनाडु और केरल में संदिग्ध गतिविधियों पर लगातार नजर रख रही हैं।

‘आपातकाल’ की 46वीं वर्षगाँठ पर प्रदर्शन

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी द्वारा देश में आपातकाल लागू किए जाने की 46वीं वर्षगाँठ के मौके पर 26 जून 2021 को आंदोलनकारी किसानों ने देश भर में प्रदर्शनों की योजना बनाई है। इन्होंने सितंबर 2020 में केंद्र द्वारा पारित नए कृषि कानूनों को निरस्त करने की माँग को लेकर देशभर के सभी राज्यों के सभी राजभवनों में ज्ञापन सौंपने की योजना बनाई है।

हालाँकि, कथित किसानों का यह प्रदर्शन यौन उत्पीड़न, बलात्कार और हत्या के मामलों को लेकर सवालों के घेरे में है। इन घटनाओ पर किसान नेताओं ने भी चुप्पी साध रखी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

UGC-NET जून 2024 परीक्षा रद्द, 18 जून को 11.21 लाख छात्रों ने दी थी परीक्षा: साइबर क्राइम सेल से मिला सेंधमारी का इनपुट,...

परीक्षा प्रक्रिया की उच्चतम स्तर की पारदर्शिता और पवित्रता सुनिश्चित करने के लिए भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय ने निर्णय लिया है कि यूजीसी-नेट जून 2024 परीक्षा रद्द की जाए।

मंच से उड़ा रहे थे भगवान राम और माता सीता का मजाक, नीचे से बज रही थी सीटी: एक्शन में IIT बॉम्बे, छात्र पर...

भगवान का मजाक उड़ाने वाले छात्रों के खिलाफ 1.20 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया। वहीं कुछ छात्रों को हॉस्टल से निलंबित भी किया गया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -