Tuesday, July 27, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'किसानों' की आड़ में साजिश रच रही ISI, 26 जून के प्रदर्शन के दौरान...

‘किसानों’ की आड़ में साजिश रच रही ISI, 26 जून के प्रदर्शन के दौरान हिंसा भड़काने के मँसूबे: रिपोर्ट

संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 जून को विभिन्न राज्यों में राजभवन के बाहर प्रदर्शन की योजना बनाई है। संयुक्त किसान मोर्चा में किसानों के 40 समूह शामिल हैं।

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ लंबे समय से कथित किसान दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन आंदोलनकारी ‘किसानों’ ने 26 जून 2021 को देशभर में बड़े पैमाने प्रदर्शन की योजना बनाई है। इसकी आड़ में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई भारत में अशांति फैलाने की साजिश रच रही है।

News18 की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि किसान आंदोलन में घुसपैठ की फिराक में लगे आईएसआई ने इस बार नई साजिश रची है। वह प्रदर्शन के दौरान कानून-व्यवस्था कायम रखने के लिए तैनात सुरक्षा बलों को भड़काकर गड़बड़ी फैलाने की फिराक में है। इससे पहले ISI ने ने किसानों को भड़काकर हिंसा और गड़बड़ी फैलाने की साजिश रची थी।

संयुक्त किसान मोर्चा ने 26 जून 2021 को विभिन्न राज्यों में राजभवन के बाहर प्रदर्शन की योजना बनाई है। संयुक्त किसान मोर्चा में किसानों के 40 समूह शामिल हैं। रिपोर्ट के अनुसार, आईएसआई भारत में सुरक्षा एजेंसियों और प्रदर्शनकारियों के बीच टकराव बढ़ाकर उसका फायदा उठाना चाहता है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएसआई पिछले कुछ महीनों से अपने एजेंटों के साथ ‘किसान’ आंदोलन में घुसपैठ करने की फिराक में है। यह बात सामने आई है कि आईएसआई किसानों के खिलाफ सुरक्षा एजेंसियों को भड़काना चाहती है। इस साजिश के खुलासे के बाद एजेंसियाँ सतर्क हो गई हैं। सुरक्षा-व्यवस्था और सख्त कर दी गई है। खुफिया एजेंसियाँ ​​तमिलनाडु और केरल में संदिग्ध गतिविधियों पर लगातार नजर रख रही हैं।

‘आपातकाल’ की 46वीं वर्षगाँठ पर प्रदर्शन

पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी द्वारा देश में आपातकाल लागू किए जाने की 46वीं वर्षगाँठ के मौके पर 26 जून 2021 को आंदोलनकारी किसानों ने देश भर में प्रदर्शनों की योजना बनाई है। इन्होंने सितंबर 2020 में केंद्र द्वारा पारित नए कृषि कानूनों को निरस्त करने की माँग को लेकर देशभर के सभी राज्यों के सभी राजभवनों में ज्ञापन सौंपने की योजना बनाई है।

हालाँकि, कथित किसानों का यह प्रदर्शन यौन उत्पीड़न, बलात्कार और हत्या के मामलों को लेकर सवालों के घेरे में है। इन घटनाओ पर किसान नेताओं ने भी चुप्पी साध रखी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe