Thursday, August 5, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षापाकिस्तान के लिए जासूसी करने वाला कॉन्स्टेबल गिरफ्तार, सेना से रिटायर होने के बाद...

पाकिस्तान के लिए जासूसी करने वाला कॉन्स्टेबल गिरफ्तार, सेना से रिटायर होने के बाद पुलिस में हुआ था भर्ती

आरोपित पहले सेना में ही था और 2018 में रिटायर होने के बाद एक्स सर्विसमैन कोटे से हरियाणा पुलिस में भर्ती हुआ था।

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआईए (ISI) के लिए जासूसी करने के आरोप में हबीब खान की गिरफ्तारी के बाद अब हरियाणा की पलवल पुलिस ने एक कॉन्स्टेबल को आईएसआई के लिए जासूसी के आरोप में गिरफ्तार किया है। आरोपित पहले सेना में ही था और 2018 में रिटायर होने के बाद एक्स सर्विसमैन कोटे से हरियाणा पुलिस में भर्ती हुआ था।

आरोपित कॉन्स्टेबल की पहचान अंबाला जिले के सुरेंद्र के रूप में हुई है। वह बोह गाँव का रहने वाला है और जिला पुलिस कार्यालय में गार्ड की ड्यूटी पर तैनात था। पुलिस ने उसके पास से दो मोबाइल फोन जब्त किया है। वह व्हाट्सएप के जरिए भारतीय सेना से संबंधित खुफिया सूचनाएँ पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को देता था।

बताया जाता है कि आरोपित सुरेंद्र फेसबुक के जरिए पाकिस्तान की किसी लड़की के संपर्क में था। रिपोर्ट के मुताबिक, पूछताछ में पता चला है कि आरोपित सुरेंद्र 2018 से ही सेना के सीक्रेट्स को दुश्मन देश को बेच रहा था। इसके एवज में आईएसआई ने उसे अब तक 70,000 रुपए दिए हैं। फिलहाल, पुलिस ने आरोपित कॉन्स्टेबल के जब्त किए गए फोन को साइबर टीम के पास भेज दिया है, ताकि पाकिस्तानी महिला के साथ की गई बातचीत का पता लगाया जा सके और अन्य डेटा को रिकवर किया जा सके।

इस मामले में पलवल जिले के एसपी दीपक गहलावत ने कहा है कि मामले की गहनता से जाँच की जा रही है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के बाद ये पता चलेगा कि आरोपी ने अभी तक कितनी और किस तरह सूचनाएँ पाकिस्तान को दे चुका है और भविष्य की क्या योजनाएँ थीं?

एसपी गहलावत ने बताया कि आरोपी सुरेंद्र को भारतीय सेना के हवाले करने संबंधी उन्हें अभी तक कोई आदेश नहीं मिला है और अगर भविष्य में इस तरह का आदेश मिलता है तो उसका पालन किया जाएगा।

गौरतलब है कि इससे पहले बीते मंगलवार (13 जुलाई 2021) को दिल्ली पुलिस ने हबीब खान नाम के जासूस को राजस्थान के पोखरण से गिरफ्तार किया था। आरोपित हबीब सेना को कई वर्षों से सब्जी की सप्लाई करता था और इसी की आड़ में वो गोपनीय दस्तावेजों को हासिल कर उन्हें पाकिस्तान भेज देता था। पूछताछ के दौरान उसने ये कबूल किया था कि आगरा कैंट में तैनात जवान परमजीत कौर से उसे सेना की खुफिया जानकारियाँ मिलती थीं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अफगानिस्तान: पहले कॉमेडियन और अब कवि, तालिबान ने अब्दुल्ला अतेफी को घर से घसीट कर निकाला और मार डाला

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने भी अब्दुल्ला अतेफी की हत्या की निंदा की और कहा कि अफगानिस्तान की बुद्धिमत्ता खतरे में है और तालिबान इसे ख़त्म करके अफगानिस्तान को बंजर बनाना चाहता है।

‘5 अगस्त की तारीख बहुत विशेष’: PM मोदी ने हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन और 370 हटाने का किया जिक्र

हॉकी में ओलंपिक मेडल, राम मंदिर भूमिपूजन, आर्टिकल 370 हटाने का जिक्र कर प्रधानमंत्री मोदी ने 5 अगस्त को बेहद खास बताया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,121FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe