Sunday, November 27, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाहाफिज सईद के बहनोई से लेकर मुंबई धमाकों के आरोपितों तक: केंद्र ने UAPA...

हाफिज सईद के बहनोई से लेकर मुंबई धमाकों के आरोपितों तक: केंद्र ने UAPA के तहत 18 को घोषित किया आतंकी

“राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने और आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति के प्रति प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए, सरकार ने UAPA अधिनियम 1967 (2019 में संशोधित) के प्रावधानों के तहत अठारह और आतंकी सरगनाओं को आतंकवादी घोषित किया है।”

केंद्र सरकार आतंकवाद के खिलाफ अपनी जीरो टॉलरेंस की नीति पर पूरी तरह से कायम है। राष्ट्रीय सुरक्षा को और मजबूत करने के लिए सरकार ने UAPA अधिनियम के प्रावधानों के तहत 18 और व्यक्तियों को आतंकवादी घोषित किया है। इसमें पाकिस्तान की जमीन पर पल रहे कई आतंकवादी भी शामिल हैं। हिजबुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सैयद सलाहुद्दीन, इंडियन मुजाहिद्दीन के भटकल बंधुओं को यूएपीए के तहत आतंकवादी घोषित किया गया है।

गृह मंत्रालय ने बताया, “राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने और आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति के प्रति प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुए, सरकार ने UAPA अधिनियम 1967 (2019 में संशोधित) के प्रावधानों के तहत अठारह और आतंकी सरगनाओं को आतंकवादी घोषित किया है।”

सरकार द्वारा जारी इस सूची में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी भी शामिल हैं। इसमें 26/11 मुंबई हमले में आरोपित आतंकी संगठन लश्कर का यूसुफ मुजम्मिल, लश्कर चीफ हाफिज सईद का बहनोई अब्दुर रहमान मक्की, 1999 में कंधार lC-814 विमान अपहरण में शामिल यूसुफ अजहर, मुंबई धमाकों के साजिशकर्ता टाइगर मेमन और छोटा शकील भी शामिल है।

बता दें कि पहले सिर्फ आतंकवादी संगठनों को इसमें शामिल किया जा सकता था, लेकिन फिर अगस्त 2019 में इसमें बदलाव हुआ था। अब किसी अकेले व्यक्ति को भी आतंकवादी वाली लिस्ट में सूचित कर सकते हैं। सितंबर 2019 में 4 और फिर जुलाई 2020 में 9 नामों को गैरकानूनी गतिविधियाँ (रोकथाम) अधिनियम के तहत आतंकवादी वाली लिस्ट में शामिल किया गया था।

गौरतलब है कि गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) संशोधन बिल, 2019 को गृह मंत्री अमित शाह ने 8 जुलाई, 2019 को लोकसभा में पेश किया था जिसे 24 जुलाई को लोकसभा द्वारा पास कर दिया गया था। यह बिल गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) एक्ट, 1967 में संशोधन करता है। यह एक्ट आतंकी और नक्सलवादी गतिविधियों को काबू में करने के लिए पुराने एक्ट में कुछ बदलाव करता है ताकि भारत के खिलाफ होने वाली आतंकी गतिविधियों से कड़ाई से निपटा जा सके। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमें PCR टेस्ट नहीं, आजादी चाहिए’ : चीन की सड़कों पर देर रात लगे वामपंथी सरकार के खिलाफ नारे, राष्ट्रपति शी जिनपिंग से कुर्सी...

चीन की वामपंथी सरकार की नीतियों से भड़के स्थानीय लोगों ने सड़कों पर आकर गुस्सा जाहिर किया और 'शी जिनपिंग कुर्सी छोड़ो' जैसे नारे लगाए।

पहले बिजनेसमैन संग बिताई रात, फिर रेप केस की धमकी देकर ₹80 लाख वसूले: दिल्ली की यूट्यूबर नामरा कादिर पर FIR दर्ज, तलाश जारी

दिल्ली के शालीमार की रहने वाली नामरा कादिर ने अपने सहयोगी के साथ मिलकर गुरुग्राम के बिजनेसमैन को हनीट्रैप में फँसाया और 80 लाख रुपए वसूले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
235,629FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe