Saturday, June 22, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षागलवान घाटी में शान से लहरा रहा तिरंगा, भारतीय सैनिकों की तस्वीरें भी आईं:...

गलवान घाटी में शान से लहरा रहा तिरंगा, भारतीय सैनिकों की तस्वीरें भी आईं: चीन के प्रोपेगंडा की पोल खुली, राहुल गाँधी की भी फजीहत

रक्षा मंत्रालय के सूत्रों का स्पष्ट कहना है कि ये वीडियो चीन के प्रोपेगंडा का हिस्सा है और उनके ही इलाके में शूट किया गया है।

गलवान घाटी से भारतीय सेना की तस्वीर सामने आई है, जहाँ वो राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा के साथ दिख रहे हैं। इसके साथ ही चीन के प्रोपेगंडा की पोल भी खुल गई है। समाचार एजेंसी ANI ने सुरक्षा प्रतिष्ठानों में अपने सूत्रों के हवाले से दो तस्वीरें जारी की हैं। एक तस्वीर में भारतीय सेना के जवान हाथ में राष्ट्रीय ध्वज लिए दिख रहे हैं तो दूसरे में उनके पीछे एक छोटा सा बंकर और वहाँ लगा तिरंगा भी दिख रहा है। इसके साथ-साथ डोगरा रेजिमेंट का झंडा भी दिख रहा है।

बता दें कि उक्त स्थान पर डोगरा रेजिमेंट को ही तैनात किया गया है। रक्षा सूत्रों ने स्पष्ट किया है कि चीन ने अपने झंडे के साथ जो तस्वीर जारी की थी, वो भारत नहीं बल्कि उनके ही इलाके की थी। इसीलिए, चीन के उस प्रोपेगंडा वीडियो का भारत सरकार खंडन नहीं करेगी। केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeiTY) के सूत्रों का कहना है कि चूँकि ये वीडियो चीन के क्षेत्र का है, जहाँ वो अपना झंडा फहरा रहे हैं – इसीलिए, इस वीडियो को इंटरनेट पर ब्लॉक करने की आवश्यकता नहीं है।

चीन ने भी इस पर कोई आधिकारिक बयान नहीं दिया है, लेकिन वहाँ के कई हैंडल्स ने इस वीडियो को 1 जनवरी, 2021 को सोशल मीडिया पर डाला था। उसी दौरान नववर्ष के मौके पर भारत और चीन के जवानों ने ‘लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC)’ पर कई जगह तोहफों का आदान-प्रदान भी किया था। MeiTY गृह मंत्रालय, सुरक्षा एजेंसियों या अपने आंतरिक जाँच के आधार पर किसी कंटेंट को भारत में इंटरनेट पर ब्लॉक कर सकता है। अगर कंटेंट भारत की सम्प्रभुता या अखंडता या खिलाफ हो अथवा इससे हिंसा का खतरा हो, तो उसे हटा दिया जाता है।

रक्षा मंत्रालय के सूत्रों का स्पष्ट कहना है कि ये वीडियो चीन के प्रोपेगंडा का हिस्सा है और उनके ही इलाके में शूट किया गया है। ये भी कहा जा रहा है कि उक्त वीडियो में गलवान नदी का मोड़ नहीं दिख रहा है, ऐसे में ये हाल के दिनों का न होकर पुराना भी हो सकता है। मई 2020 के बाद से दोनों देशों में 13 राउंड की बातचीत हो चुकी है और आगे भी होनी है। चीन ने इस साल सीमाओं पर ‘सामरिक मजबूती और आर्थिक-सामाजिक विकास’ के नाम पर एक नया कानून भी बनाया है।

कई मीडिया संस्थानों ने गलवान में चीनी झंडा फहराए जाने के प्रोपेगंडा को आगे बढ़ाया (तस्वीर में दिख रही Times Now की खबर ताज़ा है, जो इसका खंडन करती है)

चीनी सोशल मीडिया हैंडल्स ने उस वीडियो को जारी करते हुए कैप्शन में लिखा था, “नववर्ष 2022 के मौके पर गलवान घाटी में चीन का झंडा फहरता हुआ”। साथ ही लिखा गया था कि बीजिंग के तियानानमेन चौक (1989 में छात्रों के विद्रोह का दमन) के बाद ये इस झंडे के लिए सबसे बड़ा क्षण है। चीन के इस प्रोपेगंडा को आगे बढ़ाते हुए कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने भी अपनी ट्वीट में लिखा था, “गलवान पर हमारा तिरंगा ही अच्छा लगता है। चीन को जवाब देना होगा। मोदी जी, चुप्पी तोड़ो!”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -