Monday, November 29, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाआतंकी ठिकाने में कंडोम, वियाग्रा का भंडार: कश्मीर में इस्लाम के नाम पर सेक्सुअल...

आतंकी ठिकाने में कंडोम, वियाग्रा का भंडार: कश्मीर में इस्लाम के नाम पर सेक्सुअल टेरर, बंदूक की नोंक पर यौन शोषण

सीमा पार से आतंकी इस्लाम और कश्मीर के लोगों की 'आजादी' के नाम पर आते हैं। मगर इसकी आड़ में वे कश्मीर के युवा लड़कों, लड़कियों, असहाय महिलाओं को अगवा करते हैं। उनका यौन शोषण करते हैं।

जम्मू-कश्मीर के शोपियॉं में आतंकी ठिकाने से भारी मात्रा में कंडोम, वियाग्रा, गर्भनिरोधक गोलियॉं और पोर्न बरामद किया गया है। इससे पता चलता है कि कश्मीर में इस्लाम के नाम पर जारी ‘जिहाद’ की आड़ में सेक्सुअल टेरर को अंजाम दिया जा रहा है। आतंकी कश्मीरी महिलाओं का यौन शोषण करते हैं।

यह कुछ ऐसा ही है जैसा सीरिया में आईएस आतंकी यजीदी महिलाओं के साथ करते हैं। घाटी में चल रहे इस सेक्सुअल टेरर (Sexual terror) को लेकर टाइम्स नाउ ने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं।

न्यूज चैनल के मुताबिक शोपियाँ में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकाने से कंडोम के 19 पैकेट, वियाग्रा टैबलेट के 5 पैकेट, पोर्न, गर्भनिरोधक गोलियों के 10 पैकेट आदि बरामद हुए हैं।

सीमा पार से आतंकी इस्लाम और कश्मीर के लोगों की ‘आजादी’ के नाम पर आते हैं। मगर इसकी आड़ में वे कश्मीर के युवा लड़कों, लड़कियों, असहाय महिलाओं को अगवा करते हैं। उनका यौन शोषण करते हैं।

पाकिस्तान समर्थित आतंकी अपनी यौन तृप्ति के लिए कश्मीरी लड़कियों को जबरन उनके घर से उठा लेते हैं। ऐसी ही एक पीड़िता ने आपबीती टाइम्स नाउ के साथ साझा की। उसे जैश के आतंकियों ने अगवा किया था।

उसने बताया कि बंदूक की नोंक पर उसे अगवा किया गया। अपहरण कर जैश के आतंकी से जबरन निकाह करवा दिया गया।

पीड़िता ने बताया कि वह पहले से ही शादीशुदा थी। उसकी शादी तनवीर अहमद के साथ हुई थी। जैश आतंकियों ने उसके पति तनवीर को काफी मारा-पीटा और पीड़िता को तलाक देने के लिए मजबूर किया। जिस दिन पीड़िता का अपहरण किया गया उसके पिता हॉस्पिटल में थे। वो कहती है कि जब उसने जैश के आतंकियों के साथ जाने इनकार कर दिया तो उन लोगों ने जबरन अगवा कर लिया।

पीड़िता के पिता ने भी टाइम्स नाउ से बात करते हुए इसकी पुष्टि की। उन्होंने कहा, “हमने तो इसकी शादी तनवीर के साथ की थी। फिर दाऊद जबरदस्ती मेरी लड़की को ले गया। उसने मार-पीट करके हमारी लड़की को ले लिया। हमने उसे छुड़ाने की कोशिश की तो बंदूक दिखाकर धमकाया और मारा भी। हम लाचार थे, हम क्या करते।”

उन्होंने बताया कि दाऊद धमकी देता था कि अगर उन्होंने लड़की को उसे नहीं सौंपा तो वो उसे मार देगा। वो लड़की को लेने के लिए किसी भी वक्त वहाँ पर चला आता था।

गौरतलब है कि हाल ही में, जम्मू और कश्मीर का शोपियाँ जिला इस्लामिक आतंकवादियों के केंद्र के रूप में उभरा है। पिछले दो हफ्तों में, छह शीर्ष कमांडरों सहित लगभग 22 आतंकवादियों को इस क्षेत्र में नौ अलग-अलग अभियानों में ढेर किया गया है। जम्मू और कश्मीर में इस साल अब तक सुरक्षा बल सौ से अधिक आतंकियों को ढेर कर चुके हैं।

गौरतलब है कि हाल ही में अनंतनाग में हिंदू सरपंच अजय पंडिता की हिजबुल के आतंकवादियों ने गोली मार कर हत्या कर दी थी। अजय पंडिता की बेटी ने अपने पिता की हत्या करने वाले आतंकवादियों के खिलाफ प्रतिशोध लेने की बात कहते हुए कहा था कि जिसने भी ये किया है, उसको वो जिंदा नहीं छोड़ेंगी। एक गोली तो मारेंगी ही।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

राजस्थान के मंत्री का स्वागत कर रहे थे कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता, तभी इमरान ने जड़ दिया एक मुक्का: बाद में कहा – ये मेरे आशीर्वाद...

राजस्थान में एक अजोबोग़रीब वाकया हुआ, जब मंत्री और कॉन्ग्रेस नेता भँवर सिंह भाटी को एक युवक ने मुक्का जड़ दिया।

‘मीलॉर्ड्स, आलोचक ट्रोल्स नहीं होते’: भारत के मुख्य न्यायाधीश के नाम एक बिना नाम और बिना चेहरा वाले ट्रोल का पत्र

हमें ट्रोल्स ही क्यों कहा जाता है, आलोचक क्यों नहीं? ऐसा इसलिए, क्योंकि हम उन लोगों की आलोचना करते हैं जो अपनी आलोचना पसंद नहीं करते।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,346FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe