Wednesday, December 1, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाश्रीनगर के रामबाग में सुरक्षाबलों ने मेहरान, बासित समेत तीन आतंकियों को किया ढेर,...

श्रीनगर के रामबाग में सुरक्षाबलों ने मेहरान, बासित समेत तीन आतंकियों को किया ढेर, विरोध में सड़कों पर उतरे लोग

इस मुठभेड़ में मारे गए दो आतंकियों के नाम मेहरान और बासित है। दोनों ही 'द रजिस्टेंस फ्रंट' के लिए काम करते थे। फिलहाल तीसरे आतंकी की शिनाख्त करने की कोशिश की जा रही है।

जम्मू-कश्मीर में श्रीनगर के रामबाग इलाके से सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ की खबर सामने आई है। इस मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को ढेर कर दिया है। अच्छी बात यह है कि सुरक्षाबलों को कोई नुकसान नहीं हुआ। फिलहाल, ऑपरेशन लगातार जारी है।

रिपोर्ट के मुताबिक, बुधवार (24 नवंबर 2021) की दोपहर को सुरक्षाबलों को श्रीनगर के राजबाग में आतंकियों के होने की सूचना मिली थी। सिक्योरिटी इनपुट मिलते ही जम्मू-कश्मीर पुलिस और सुरक्षाबलों की टुकड़ी ने इलाके को घेर लिया और ज्वाइंट सर्च ऑपरेशन छेड़ दिया। सुरक्षाबलों ने पूरे ट्रैफिक और लोगों की आवाजाही को रोक दिया। जब आतंकियों ने खुद को जवानों के चंगुल में फंसता देखा तो उन्होंने फायरिंग करते हुए वहाँ से भागने की कोशिश की। हालाँकि, बाद में तीनों को ढेर कर दिया गया।

सूत्रों ने खबर दी है कि इस मुठभेड़ में मारे गए दो आतंकियों के नाम मेहरान और बासित है। दोनों ही ‘द रजिस्टेंस फ्रंट’ के लिए काम करते थे। फिलहाल तीसरे आतंकी की शिनाख्त करने की कोशिश की जा रही है। खास बात ये है कि अभी तक सुरक्षाबलों की ओर से आतंकियों को लेकर कोई जानकारी नहीं जारी की गई है। फिलहाल, मुठभेड़ खत्म होने के बाद भी सुरक्षाबलों की टीम इलाके में सर्च ऑपरेशन चला रही है।

वहीं आतंकियों के मारे जाने के बाद श्रीनगर में आतंकियों के समर्थकों ने सेना के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन भी शुरू कर दिया है।

एक सप्ताह पहले ही टीआरएफ कमांडर समेत पाँच को किया था ढेर

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने करीब एक सप्ताह पहले ही कुलगाम सेक्टर के पोंबे और जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को लगातार दूसरे दिन बड़ी कामयाबी हासिल हुई है। सेना ने कुलगाम के पोंबे और गोपालपुरा में बड़ी कार्रवाई करते हुए पाँच आतंकियों को मार गिराया था। मुठभेड़ में मारे गए आतंकियों में TRF का टॉप कमांडर अफाक सिकंदर, शकीर, हैदर और इब्राहिम शामिल है और एक अन्य था।

पहली मुठभेड़ पोंबे इलाके में हुई थी, जहाँ सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों को ढेर किया। इसके बाद गोपालपुरा इलाके में भी सुरक्षाबलों ने दो आतंकियों को भी मार गिराया गया।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,754FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe