Tuesday, June 18, 2024
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षा'यह अमित शाह को गिफ्ट': J&K के DG जेल का गला काटा, बॉडी को...

‘यह अमित शाह को गिफ्ट’: J&K के DG जेल का गला काटा, बॉडी को जलाने की कोशिश… आग देख सुरक्षाकर्मियों को लगी भनक

"यह हिंदुत्व शासन और उसके सहयोगियों को चेतावनी है कि हम कहीं भी किसी पर भी हमला कर सकते हैं। यह गृह मंत्री को उनके दौरे से पहले छोटा सा गिफ्ट है। हम भविष्य में भी ऐसे ऑपरेशन्स जारी रखेंगे।"

जम्मू-कश्मीर के डीजी जेल हेमंत कुमार लोहिया (DG HK Lohiya) की हत्या कर दी गई है। उनकी हत्या ऐसे समय में की गई है, जब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) केंद्रशासित प्रदेश के दौरे पर हैं। आतंकी संगठन पीपुल्स एंटी-फासिस्ट फ्रंट (PAFF) ने हत्या की जिम्मेदारी ली है। पुलिस लोहिया के नौकर यासिर अहमद की तलाश कर रही है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक घटना जम्मू के बाहरी इलाके उदयवाला की है। लोहिया की हत्या सोमवार (3 अक्टूबर 2022) को की गई। वे 1992 बैच के अधिकारी थे। उनकी उम्र 57 वर्ष थी।

कमरे में आग देखकर सुरक्षाकर्मियों को हत्या की भनक लगी। शुरुआती जाँच में पाया गया है कि उनके शरीर पर तेल लगा हुआ है। उनके पैर में सूजन थी। ऐसा लगता है कि पहले लोहिया की हत्या की गई। फिर केचप की बोतल से गला काटा गया। शरीर पर जलने के निशान हैं। इससे लग रहा है कि हत्या के बाद शव को जलाने की भी कोशिश की गई थी।

PAFF ने मंगलवार सुबह इस हत्या की जिम्मेदारी ली। बयान में कहा है कि उसके विशेष दस्ते ने जम्मू के उदयवाला में खुफिया ऑपरेशन को अंजाम देते हुए डीजी पुलिस जेल एचके लोहिया की हत्या कर दी। यह हाई प्रोफाइल ऑपरेशन्स की शुरुआत है। यह हिंदुत्व शासन और उसके सहयोगियों को चेतावनी है कि हम कहीं भी किसी पर भी हमला कर सकते हैं। यह गृह मंत्री को उनके दौरे से पहले छोटा सा गिफ्ट है। हम भविष्य में भी ऐसे ऑपरेशन्स जारी रखेंगे।

उल्लेखनीय है कि केंद्रीय गृह मंत्री शाह सोमवार से जम्मू-कश्मीर के तीन दिवसीय दौरे पर हैं। हत्या के बाद से फरार यासिर अहमद पिछले 6 माह से लोहिया के साथ था। DGP दिलबाग सिंह के मुताबिक हत्या से पहले यासिर ने पूरी प्लानिंग की थी। PAFF का नाम पिछले कुछ दिनों में हुई कई आतंकी गतिविधियों में सामने आया है। इसमें गैर कश्मीरी लोगों की हत्या की घटनाएँ भी शामिल हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बेल्ट से पीटते, सिगरेट से दागते, वीडियो बनाते… 10वीं-12वीं की लड़कियों को निशाना बनाता था मुजफ्फरपुर का गिरोह, पुलिस ने भी मानी FIR में...

कुछ लड़कियों को तो जबरन शादी के लिए मंजूर किया गया। कई युवतियों को गर्भपात के लिए भी मजबूर किया गया। पुलिस ने मामला दर्ज करने में आनाकानी की।

NEET-UG में 0.001% की भी लापरवाही हुई तो… : सुप्रीम कोर्ट ने NTA और केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर माँगा जवाब

सुप्रीम कोर्ट ने अहम टिप्पणी करते हुए कहा कि अगर 0.001 प्रतिशत भी किसी की खामी पाई गई तो हम उससे सख्ती से निपटेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -