Tuesday, September 21, 2021
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाकश्मीर की मस्जिद में ईद पर लश्कर आतंकियों ने पढ़ाया जिहादी-आतंकी पाठ, तंजीम के...

कश्मीर की मस्जिद में ईद पर लश्कर आतंकियों ने पढ़ाया जिहादी-आतंकी पाठ, तंजीम के नाम पर जुटाए फंड

वीडियो में आतंकी कह रहे हैं कि वे कश्मीर की आजादी की लड़ाई लड़ रहे हैं। वह खुलेआम वहाँ जिहाद का पाठ पढ़ा रहे हैं। लेकिन अभी तक किसी भी सेक्युलर नेता, पत्रकार या पक्षकार का इस पर न कोई बयान आया है और न ही ममता बनर्जी, महबूबा मुफ़्ती, उमर अब्दुल्ला, केजरीवाल जैसे नेताओं ने इसकी कोई आलोचना की है।

कश्मीर में मस्जिदों का इस्तेमाल भारत विरोधी गतिविधियों के लिए होना नई बात नहीं है लेकिन अब यहाँ खुले तौर पर आतंकवादी मस्जिद में भारत के खिलाफ जहरीले भाषण देकर युवाओं को आतंक एवं हिंसा के लिए भड़का रहे हैं। टाइम्स नाउ के खुलासे के अनुसार कुलगाम की एक मस्जिद का एक ऐसा ही वीडियो सामने आया है जिसमें लश्कर ए-तैयबा के दो आतंकवादी मस्जिद में दाखिल होकर वहाँ के लोगों को भारत के खिलाफ भड़काते हैं। वीडियो में इनमें से एक आतंकवादी को खुले में पिस्टल लहराते और भारत विरोधी बातें करते हुए देखा जा सकता है। यह वीडियो ईद-उल-फ़ितर के दिन का बताया जा रहा है।

टाइम्स नाउ के इस वीडियो में साफ सुना जा सकता है कि मस्जिद में दाखिल हुए दोनों आतंकवादी पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाते और कश्मीरी युवकों को आतंकवाद के रास्ते पर चलने के लिए उकसाते नजर आ रहे हैं। यही नहीं दोनों आतंकियों ने तंजीम के नाम पर वहाँ मौजूद जमात से दान करने के लिए भी कहा।

वीडियो में आतंकी कह रहे हैं कि वे कश्मीर की आजादी की लड़ाई लड़ रहे हैं। वह खुलेआम वहाँ जिहाद का पाठ पढ़ा रहे हैं। लेकिन अभी तक किसी भी सेक्युलर नेता, पत्रकार या पक्षकार का इस पर न कोई बयान आया है और न ही ममता बनर्जी, महबूबा मुफ़्ती, उमर अब्दुल्ला, केजरीवाल जैसे नेताओं ने इसकी कोई आलोचना की है। जय श्री राम के नारे में भी भयंकर आतंक देख लेने वाले ये नेता आज आतंकियों के मस्जिद में खुलेआम ऐलान पर भी चुप हैं।

यह वीडियो राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति चिंतित किसी भी सच्चे नागरिक को परेशान कर सकता है। क्योंकि, कश्मीर में बेशक आतंकी गतिविधियाँ वर्षों से संरक्षण पाती आ रही हों लेकिन पाकिस्तान की तरह खुलेआम आतंक और जिहाद के नाम पर उकसाते और चंदा इकठ्ठा करते आतंकी आने वाले किसी बड़े खतरे की आहट हैं।

बता दें कि सेना के ऑपरेशन ‘ऑल आउट’ में बड़ी संख्या में करीब 102 के आस-पास आतंकियों को मार गिराया है। जिससे आतंकियों की कमर टूट चुकी है। हाल ही में सुरक्षाबलों ने लश्कर के आतंकी जाकिर मूसा को भी ढेर कर दिया था। अपने कमांडरों के मारे जाने के बाद आतंकी हताश हो गए हैं।

मोदी सरकार की आतंक के प्रति जीरो टॉलरेंस नीति के कारण आज घाटी में पत्थरबाजी और भारत विरोधी गतिविधियों के लिए कश्मीरी युवाओं को ISI से प्राप्त पैसे देकर उन्हें उकसाने वाले ज्यादातर अलगाववादी या तो नजरबंद हैं या जेल में हैं। कश्मीरी नेताओं के लाख अपील के बाद भी यहाँ तक की रमजान के महीने में भी सेना ने आतंकियों के खिलाफ अपने अभियान को बंद नहीं किया और कई आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया।

यहाँ तक कि मोदी के शपथ लेने के बाद गृहमंत्री अमित शाह ने सबसे पहले कश्मीर के टॉप टेन आतंकियों की लिस्ट तैयार करवाई है। अब देखना यह है कि कैसे प्रशासन जम्मू-कश्मीर में फैले इन आतंकियों से निपटती है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

आज पाकिस्तान के लिए बैटिंग, कभी क्रिकेट कैंप में मौलवी से नमाज: वसीम जाफर पर ‘हनुमान की जय’ हटाने का भी आरोप

पाकिस्तान के साथ सहानुभूति रखने के कारण नेटिजन्स के निशाने पर आए वसीम जाफर पर मुस्लिम क्रिकेटरों को तरजीह देने के भी आरोप लग चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,586FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe