Saturday, June 25, 2022
Homeरिपोर्टराष्ट्रीय सुरक्षाघाटी में आतंक फैलाने के लिए हाफिज सईद से करोड़ों लेते थे अलगाववादी कश्मीरी...

घाटी में आतंक फैलाने के लिए हाफिज सईद से करोड़ों लेते थे अलगाववादी कश्मीरी नेता: NIA दाखिल करेगी चार्जशीट

रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए कई अलगागवादी नेताओं को लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद से पैसा मिलता था। इस लिस्ट में अलगावदी नेता यासीन मलिक, शब्बीर अहमद शाह, आसिया अंद्राबी, मशरत आलम समेत 5 अलगाववादी नेताओं के नाम शामिल हैं।

राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (एनआईए) ने जम्मू-कश्मीर में आतंकी फंडिंग को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है। जिसमें एक बड़ा खुलासा किया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर में आतंक फैलाने के लिए कई अलगागवादी नेताओं को लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद से पैसा मिलता था। इस लिस्ट में अलगावदी नेता यासीन मलिक, शब्बीर अहमद शाह, आसिया अंद्राबी, मशरत आलम समेत 5 अलगाववादी नेताओं के नाम शामिल हैं।

अब राष्ट्रीय आतंक विरोधी कानून (UAPA) के नए कानून के तहत इन नेताओं के खिलाफ NIA चार्जशीट दाखिल करेगी। इसके लिए NIA ने 214 पन्नों की रिपोर्ट तैयार की है। NIA को हाफिज सईद से अलगाववादियों को आतंकियों को फंडिंग और पत्थरबाजी के लिए धन मिलने के सारे सबूत हैं। NIA ने यह खुलासा यासीन मलिक की डिजिटल डायरी से मिली जानकारी के आधार पर किया है।

बता दें कि आतंकी फंडिंग के मामले में कई अलगाववादी नेताओं की गिरफ्तारी के बाद जाँच एजेंसी NIA इस मामले को इन्वेस्टीगेट कर रही है। जिसमें एक के बाद एक कई बड़े खुलासे हुए हैं कि आतंकी फंडिंग का तार भारत के अलावा और किन देशों से जुड़ा है।

एनआईए की इंटेरोगेशन रिपोर्ट में यह भी पता चला है कि सैयद अली शाह गिलानी, यासीन मलिक, उमर फारूक के रिकमेंडेशन लेटर के जरिए पाकिस्तान लीगल वीजा देकर कश्मीर के युवाओं को पाक में आतंक की ट्रेनिंग देता था। साथ ही एनआईए की रिपोर्ट से यह भी पता चला है कि आसिया अंद्राबी ने यासीन मलिक के रिकमेंडेशन लेटर के जरिए पाकिस्तान में आतंक की ट्रेनिंग के लिए जाने वाले कश्मीरी युवाओं का कंफर्मेशन अपने इंटेरोगेशन रिपोर्ट में किया है।

खबर के मुताबिक, अधिकारियों ने बताया कि एनआईए होम मिनिस्ट्री की मंजूरी मिलने के बाद अक्टूबर के पहले हफ्ते में इनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर सकती है, जिसमें पाकिस्तान के जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद का नाम भी हो सकता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘…तो मुंबई जल जाती है’ – खत्म हो रही शिवसेना, रोते हुए धमकी दे रहे कॉन्ग्रेसी मंत्री: मुंबई पुलिस हाई अलर्ट

कॉन्ग्रेस नेता नितिन राउत ने आशंका जताई है कि अगर राज्य में शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने हिंसा की तो केंद्र को राष्ट्रपति शासन का बहाना मिलेगा।

‘द्रौपदी राष्ट्रपति तो पांडव और कौरव कौन हैं?’: राम गोपाल वर्मा के ओछे कमेंट पर हैदराबाद पुलिस ने दर्ज की शिकायत, बीजेपी नेता की...

पुलिस द्वारा एससी / एसटी अधिनियम लागू किया जाना चाहिए और निर्देशक को कड़ी सजा मिलनी चाहिए। पुलिस ने कहा कि कानूनी राय के बाद आवश्यक कार्रवाई की जाएगी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,159FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe