Thursday, November 26, 2020
Home विविध विषय मनोरंजन देश को बेचने वाले वामपंथियों को जरूर देखनी चाहिए 'द ताशकंद फाइल्स': ऑपइंडिया से...

देश को बेचने वाले वामपंथियों को जरूर देखनी चाहिए ‘द ताशकंद फाइल्स’: ऑपइंडिया से बोले विवेक अग्निहोत्री

जेएनयू और जाधवपुर सहित सभी जगहों के लेफ्ट लिबरल्स को ये फ़िल्म ज़रूर देखनी चाहिए क्योंकि हमारे देश की सारी बर्बादी के पीछे वही लोग हैं। भारत की बर्बादी के पीछे पूरा का पूरा एक लेफ्टिस्ट और कम्युनिस्ट सिस्टम है।

फ़िल्म ‘द ताशकंद फाइल्स’ का ट्रेलर रिलीज हो चुका है और इसे सोशल मीडिया पर अच्छा रिस्पॉन्स मिल रहा है। पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु के कारणों को ढूँढती इस थ्रिलर फ़िल्म का निर्माण विवेक रंजन अग्निहोत्री ने किया है। वो एक तरफ़ चॉकलेट, हेट स्टोरी और ज़िद जैसी कमर्शियल फ़िल्में बनाते हैं तो दूसरी तरफ़ ‘बुद्धा इन अ ट्रैफिक जाम’ और ‘द ताशकंद फाइल्स’ जैसी फ़िल्में भी बनाते हैं, जो समाज को जागरूक करने का कार्य करती हैं। सामाजिक रूप से काफ़ी जागरूक विवेक अग्निहोत्री ट्विटर पर ख़ासे सक्रिय हैं और वामपंथी अक्सर उन्हें निशाना बनाते रहते हैं। हाल ही में स्वरा भास्कर भी उनसे उलझ गई थी। लेफ्ट लिबरल इकोसिस्टम के विरुद्ध उन्होंने कई बार ट्विटर पर अभियान चलाया है। उनकी ताज़ा फ़िल्म के ट्रेलर के रिलीज के मौक़े पर उन्होंने ऑपइंडिया से बातचीत की और अपनी बात रखी।

इस दौरान विवेक अग्निहोत्री ने तमाल सवालों के जवाब दिए और अपनी फ़िल्म के साथ-साथ लाल बहादुर शास्त्री के बारे में किए गए अपने रिसर्च से भी हमें अवगत कराया। आइए देखते हैं ‘द ताशकंद फाइल्स’ के निर्माता-निर्देशक-लेखक विवेक रंजन अग्निहोत्री से ऑपइंडिया की बातचीत के प्रमुख अंश।

“Who Killed Shastri” का कैप लिए विवेक अग्निहोत्री, अभिनेत्री श्वेता, पल्लवी जोशी व शास्त्रीजी के परिजन

लाल बहादुर शास्त्री की समाधि विजय घाट पर फ़िल्म शूटिंग के दौरान आपका कैसा अनुभव रहा?

वहाँ एकदम सुनसान वातावरण था। वो जगह ऐसी लग रही थी, जहाँ कभी कोई आता न ही न हो। गाहे-बगाहे अगर टूरिस्ट वाले बसों में भर कर आ गए तो आ गए, वरना वहाँ कोई जाता ही नहीं। वहाँ काम कर रहे लोगों ने हमें बताया कि पहले तो कभी-कभार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जैसे नेतागण आ भी जाया करते थे, अब तो कोई भी नहीं आता। 2 अक्टूबर के मौके पर भी यहाँ शायद ही कोई आता हो। ऐसा इसीलिए हुआ है क्योंकि हमने लाल बहादुर शास्त्री को अपनी स्मृति से ही हटा दिया है। विधिवत तरीके से हम उन्हें भूलते चले गए। इसीलिए आज उनकी समाधि का ये हाल है।

लेकिन हाँ, विजय घाट पर जाकर हमें एक बात तो समझ में आ ही गई कि सरलता क्या होती है। अगर इस चीज को आप समझना चाहते हैं तो शास्त्री जी की समाधि पर जाकर अनुभव कीजिए।

आपकी ट्विटर पर अक्सर स्वरा भास्कर टाइप लोगों से बहस होती रहती है। लेफ्ट लिबरल्स को आपसे आख़िर दिक्कत क्या है? आपको क्या लगता है कि आपने ऐसा कौन सा गुनाह किया है जो वो आपसे इतने ख़फ़ा-ख़फ़ा रहते हैं?

अच्छा आप मुझे एक बात बताइए। (हँसते हुए…) चोर सबसे अधिक किससे डरता है? (Interviewer: चोर तो आजकल चौकीदार से डरता है। चौकीदार वाला ट्रेंड चल रहा है आजकल)। (फिर हँसी) हाँ, चोर को सबसे ज्यादा पुलिस से डर लगता है। इन लोगों का खुलेआम नंगा नाच चल रहा था। कोई रोकने-टोकने वाला नहीं था। इनके गिरोह के पत्रकारों ने जो भी लिख दिया, वही अकाट्य सत्य हो जाता है। अगर उन्होंने कह दिया कि Feminism की यही परिभाषा है, फलाँ चीज Feminism है, तो वही उसकी परिभाषा बन जाती है।

आजतक लोग इन पर सवाल नहीं उठाया करते थे। मैंने आकर सीधा कहा कि तुमलोग जिस Feminism की बात करते हो, वो फेक है। अरे, तुमलोग (गिरोह विशेष) तो भारत की माँओं को भी Empowered नहीं मानते। अरे, जो भारतीय माताएँ अपने बच्चों का पालन-पोषण करती हैं, बच्चों और परिवार के लिए इतना सारा त्याग करती हैं, उन्हें Empowered क्यों नहीं मानते हैं ये लोग? ये सारे के सारे फेक हैं। ये आदमी और औरत के बीच दरार खड़ा करना चाहते हैं।

ये सारी की सारी पाश्चात्य बातें हैं, फेक बातें हैं, वेस्टर्न ढकोसले हैं। अगर समस्या भारत की है तो समाधान भी भारतीय ही होगा। मैंने इन सब बातों को उठाया, जिस से इन्हे मुझ से दिक्कतें हो गई।

प्रेस को सम्बोधित करते विवेक अग्निहोत्री (उनके बगल में लाल बहादुर शास्त्री के पुत्र सुनील शास्त्री)

क्या आपको लगता है कि लेफ्ट लिबरल इकोसिस्टम के लोग पाश्चात्य (western) विचारधारा को हम पर जबरन थोप रहे हैं?

जी हाँ, बिलकुल। भारत की समस्याओं का निदान के लिए भारतीय सलूशन चाहिए जबकि ये लोग वेस्टर्न कॉन्सेप्ट्स लेकर आ रहे हैं। ऐसा इसीलिए है, क्योंकि ये हिंदुस्तान को समझते ही नहीं हैं। इन्हे हिंदुस्तान क्या है, इस बारे में ज़रा भी आईडिया ही नहीं है। इन्होने भारत को देखा ही नहीं है। हिंदुस्तान का अर्थ है- त्याग और संघर्ष। इनमें से किसी से न तो आज तक त्याग किया है और न ही संघर्ष किया है, (हँसते हुए) ये क्या जानें हिन्दुस्तान को।

आज लाल बहादुर शास्त्री के बेटे सुनील शास्त्री ने ऑपइंडिया के सवालों का जवाब देते हुए कहा कि उनके पिता की तरह नरेंद्र मोदी के कारण भी भारतीयों का मस्तक गर्व से ऊँचा हो जाता है। क्या आपको भी लगता है कि शास्त्री और मोदी में समानताएँ हैं?

मुझे ऐसा लगता है कि जब भी कोई ज़मीन से जुड़ा राष्ट्रवादी व्यक्ति इस देश में सर उठा कर चलने की कोशिश करता है, उनके कारण पूरे विश्व में भारत का नाम ऊपर होता है। लेकिन, इसे दुर्भाग्य कहिए या कुछ और, जब भी कोई ज़मीन से जुड़ा साधारण, ईमानदार और राष्ट्रवादी व्यक्ति जब इस देश में सर उठाकर चलने की कोशिश करता है, उसका गला घोंटने के लिए पूरा का पूरा एक इकोसिस्टम आ जाता है।

जेएनयू और जाधवपुर यूनिवर्सिटी में ‘बुद्धा इन अ ट्रैफिक जाम’ की स्क्रीनिंग के दौरान आप पर हमले किए गए थे। आपको चोटें भी आई थी। क्या ‘द ताशकंद फाइल्स’ की भी वहाँ स्क्रीनिंग करेंगे?

अभी तो फ़िल्म 12 अप्रैल 2019 को बॉक्स ऑफिस पर रिलीज होगी। जेएनयू और जाधवपुर सहित सभी जगहों के लेफ्ट लिबरल्स को ये फ़िल्म ज़रूर देखनी चाहिए क्योंकि हमारे देश की सारी बर्बादी के पीछे वही लोग हैं। भारत की बर्बादी के पीछे पूरा का पूरा एक लेफ्टिस्ट और कम्युनिस्ट सिस्टम है। मैं ऐसा बिलकुल नहीं कह रहा हूँ कि उस सिस्टम का हर एक व्यक्ति गलत है लेकिन ‘इस देश को बेच देना’ वाली लाइन उन पर चरितार्थ होती है। आपने ट्रेलर में भी देखा होगा कि एक डायलॉग है, ‘India For Sale’, ये डायलॉग किस परिपेक्ष्य में था?

उस समय भारत के जितने भी वामपंथी थे, वो सभी के सभी KGB को बिके हुए थे। और हाँ, वो आज भी बिके हुए हैं। (बता दें कि केजीबी 1991 तक सोवियत यूनियन की प्रमुख सुरक्षा एजेंसी थी। इसे आर्मी के नियम-कायदों के तहत शासित किया जाता था। ये रूस की विदेशी इंटेलिजेंस की चीजों को देखती थी।)

आपने इस फ़िल्म में नसीरुद्दीन शाह के साथ काम किया है। वो भी तो अक़्सर असहिष्णुता टाइप के बयानों के कारण विवादों में आते हैं? ‘द ताशकंद फाइल्स’ की शूटिंग के दौरान उनके साथ Coordinate करना कैसा रहा? क्योंकि, वो आपके विरोधी विचारधारा के हैं?

देखिए, ऐसा है कि लाल बहादुर शास्त्री का नाम आते ही सारी विचारधाराएँ मिल जाती हैं। हर व्यक्ति को पता है कि शास्त्री जी एक अच्छे एवं ईमानदार नेता थे। सबको पता है कि उनके साथ गलत हुआ है। वहाँ जाकर सब जुड़ जाते हैं।

साल भर से भी ज्यादा समय तक फ़िल्म की शूटिंग चली। क्या आप हमें इस बात की गारंटी दे सकते हैं कि अब नसीरुद्दीन शाह को Intolerance नज़र नहीं आता?

देखिए, किसी के व्यक्तिगत विवाद से तो मेरा कोई लेना-देना नहीं है। हालाँकि, मैं अपने लेवल पर ये ज़रूर कहूँगा कि भारत विश्व का सबसे सहिष्णु (Tolerant) राष्ट्र है। और हाँ, मैं तो इतना ज्यादा सहिष्णु हूँ कि हमेशा अपने से विपरीत विचारधारा वाले लोगों के साथ ही बात करना चाहता हूँ। और मैं ऐसा करता भी हूँ।

एक वेबसाइट है, जिसका नाम है…क्या नाम है…? हाँ, न्यूज़लॉन्ड्री। वे हमेशा मेरी बुराई करते रहते हैं। लेकिन फिर भी जब उन्होंने मुझे बुलाया तो मैं उनके यहाँ गया। एक बार वो आए थे और उन्होंने झूठ बोला। बाद में उन्होंने कैमरे के सामने एक-दो नहीं बल्कि तीन बार माफ़ी माँगी।

न्यूज़लॉन्ड्री वालों ने मेरे वीडियो को गलत तरीके से एडिट कर मुझे बदनाम करने की कोशिश की। तब जाकर मुझे समझ आया कि कुछ लोग ऐसे होते हैं, कुत्ते की तरह जिनकी पूँछ आप कभी सीधी नहीं कर सकते।इस तरह के लोगों से थोड़ा दूर भी रहना चाहिए। वरना मेरे को किसी भी चीज से कोई समस्या नहीं है। बात कीजिए, बातचीत में क्या प्रॉब्लम है? कोई हम एक-दूसरे को मार तो नहीं रहे…

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फरीदी, जफर द्वारा संचालित 2 मेडिकल कॉलेज पर अंग तस्करी के आरोप, CM योगी ने दिए जाँच के आदेश

इंटिग्रल मेडिकल इंस्टिट्यूट के डीन हैं - जफर इदरिस और एरा मेडिकल कॉलेज के डीन हैं - डॉ फरीदी। इन दोनों मेडिकल कॉलेज पर...

क्या है अर्णब-अन्वय नाइक मामला? जानिए सब-कुछ: अजीत भारती का वीडियो | Arnab Goswami Anvay Naik case explained in detail

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर मुंबई पुलिस का चेहरा 4 नवंबर को पूरे देश ने देखा। 20 सशस्त्र पुलिसकर्मी उनके घर में घुसे, घसीटकर उन्हें अलीबाग थाने ले गए।

Cyclone Nivar के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका: ट्रेनें, फ्लाइट रद्द, NDRF की टीम तैनात

“तमिलनाडु से लगभग 30,000 से अधिक लोगों को निकाला गया है और पुडुचेरी से 7,000 लोगों को निकाला गया है। केंद्र, राज्य और स्थानीय सरकारें मिलकर काम कर रही हैं। क्षति को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।”

आखिर CM रावत ने India Today से ये क्यों कहा- भ्रामक खबर फैलाने से बचें?

India Today ने अपने समाचार चैनल पर दावा किया कि उत्तराखंड सरकार ने देहरादून में रविवार, 29 नवम्बर से लॉकडाउन घोषित किया है।

#justiceforkirannegi: CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया गैंगरेप पीड़िता के परिवार को इंसाफ दिलाने का बीड़ा, कहा- अब चुप नहीं बैठेंगे

आज सोशल मीडिया के कारण किरण नेगी का यह मामला मुख्यधारा में आया है। उत्तराखंड की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इस पर स्वयं संज्ञान ले लिया है।

‘पहले सिर्फ ऐलान होते थे, 2014 के बाद हमने सोच बदली’: जानिए लखनऊ यूनिवर्सिटी के स्‍थापना दिवस पर क्या बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ ही अन्य मंत्री भी आनलाइन जुड़े रहे।

प्रचलित ख़बरें

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

ओवैसी को सूअर वाली स्वादिष्ट बिरयानी खिलाने का ऑफर, AIMIM नेता के बीफ बिरयानी पर BJP का पलटवार

"मैं आपको आज बिरयानी का निमंत्रण दे रहा हूँ। वाल्मिकी समुदाय के लोग पोर्क के साथ बिरयानी अच्छी बनाते हैं। आइए हम आपको स्वादिष्ट बिरयानी..."

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

अहमद पटेल की मौत का कॉन्ग्रेस को कितना दुख? सुबह किया पहले राहुल को कोट, फिर जताया अपने नेता की मृत्यु पर शोक

कॉन्ग्रेस के लिए पहला काम था-राहुल गाँधी का संदेश शेयर करना ताकि किसी मायने में उसकी गंभीरता सोशल मीडिया यूजर्स के सामने न दब जाए और लोग अहमद पटेल के गम में राहुल गाँधी के कोट को पढ़ना न भूल जाएँ।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।
- विज्ञापन -

फरीदी, जफर द्वारा संचालित 2 मेडिकल कॉलेज पर अंग तस्करी के आरोप, CM योगी ने दिए जाँच के आदेश

इंटिग्रल मेडिकल इंस्टिट्यूट के डीन हैं - जफर इदरिस और एरा मेडिकल कॉलेज के डीन हैं - डॉ फरीदी। इन दोनों मेडिकल कॉलेज पर...

‘मैं मध्य प्रदेश की धरती पर ‘लव जिहाद’ नहीं होने दूँगा, ये देश को तोड़ने का षड्यंत्र है’: CM शिवराज सिंह चौहान

“मेरे सामने ऐसे उदाहरण भी हैं कि शादी कर लो, पंचायत चुनााव लड़वा दो और फिर पंचायत के संसाधनों पर कब्जा कर लो। ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है।"
00:20:48

क्या है अर्णब-अन्वय नाइक मामला? जानिए सब-कुछ: अजीत भारती का वीडियो | Arnab Goswami Anvay Naik case explained in detail

रिपब्लिक टीवी के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर मुंबई पुलिस का चेहरा 4 नवंबर को पूरे देश ने देखा। 20 सशस्त्र पुलिसकर्मी उनके घर में घुसे, घसीटकर उन्हें अलीबाग थाने ले गए।
00:16:15

यूपी में लव जिहाद पर अध्यादेश पारित: अजीत भारती का वीडियो | UP passes ordinance on Love Jihad and conversions

नाम छिपाकर शादी करने वाले के लिए 10 साल की सजा का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा गैरकानूनी तरीके से धर्म परिवर्तन पर 1 से 10 साल तक की सजा होगी।

Cyclone Nivar के अगले 12 घंटे में अति विकराल रूप धरने की आशंका: ट्रेनें, फ्लाइट रद्द, NDRF की टीम तैनात

“तमिलनाडु से लगभग 30,000 से अधिक लोगों को निकाला गया है और पुडुचेरी से 7,000 लोगों को निकाला गया है। केंद्र, राज्य और स्थानीय सरकारें मिलकर काम कर रही हैं। क्षति को कम करने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं।”

आखिर CM रावत ने India Today से ये क्यों कहा- भ्रामक खबर फैलाने से बचें?

India Today ने अपने समाचार चैनल पर दावा किया कि उत्तराखंड सरकार ने देहरादून में रविवार, 29 नवम्बर से लॉकडाउन घोषित किया है।

#justiceforkirannegi: CM त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उठाया गैंगरेप पीड़िता के परिवार को इंसाफ दिलाने का बीड़ा, कहा- अब चुप नहीं बैठेंगे

आज सोशल मीडिया के कारण किरण नेगी का यह मामला मुख्यधारा में आया है। उत्तराखंड की बेटी को इंसाफ दिलाने के लिए सीएम त्रिवेंद्र रावत ने इस पर स्वयं संज्ञान ले लिया है।

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

‘पहले सिर्फ ऐलान होते थे, 2014 के बाद हमने सोच बदली’: जानिए लखनऊ यूनिवर्सिटी के स्‍थापना दिवस पर क्या बोले PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लखनऊ विश्वविद्यालय के शताब्दी वर्ष समारोह को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया। इस दौरान राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ ही अन्य मंत्री भी आनलाइन जुड़े रहे।

सरकार ने लक्ष्मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक में विलय को दी मंजूरी: निकासी की सीमा भी हटाई, 6000 करोड़ के निवेश को स्वीकृति

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक (Lakshmi Vilas Bank) के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (DBS Bank India Limited)के साथ विलय के प्रस्‍ताव को मंजूरी दे दी है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,385FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe