Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतितिहाड़ में चिदंबरम की हालत पतली: जेल में चाहिए तकिया और कुर्सी, सिब्बल ने...

तिहाड़ में चिदंबरम की हालत पतली: जेल में चाहिए तकिया और कुर्सी, सिब्बल ने कोर्ट से लगाई गुहार

"अगर चिदंबरम को किसी चीज की आवश्यकता है, तो वो तिहाड़ जेल प्रशासन को अर्जी दे सकते हैं। कोर्ट में यह सब बोलकर वो सहानुभूति लेना चाहते हैं।"

आईएनएक्स मीडिया मामले में तिहाड़ जेल में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री और कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता पी चिदंबरम के वकीलों ने गुरुवार (सितंबर 19, 2019) को कोर्ट में पेशी के दौरान बताया कि चिदंबरम को तिहाड़ में सोने के लिए न ही तकिया दिया जा रहा है और न ही उन्हें बैठने के लिए कुर्सी मिल रही है, जिसके कारण उन्हें जमीन पर बैठना पड़ता है।

पी चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल की ओर से इस दौरान कहा गया कि चिदंबरम को तिहाड़ जेल में लेटने के लिए बिस्तर तो मिला है, लेकिन तकिया नहीं दिया गया है। ऐसे में आखिर कोई पूरे दिन कैसे बिस्तर पर बैठ सकता है।

तिहाड़ में हुई परेशानियों की सूची कोर्ट को थमाते हुए कपिल सिब्बल ने बताया कि कई तरह की बीमारियाँ होने के कारण चिदंबरम का वजन तेजी से घट रहा है और पूरे दिन बिस्तर पर बैठने के कारण उनके कमर का दर्द बढ़ गया है, साथ ही उनके पेट में भी दर्द है। इन दलीलों के आधार पर कपिल सिब्बल के साथ वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कोर्ट से अपील की कि चिदंबरम का मेडिकल चेकअप करवाया जाए।

विशेष न्यायाधीश अजय कुमार कुहाड़ ने इसके बाद चिदंबरम की मेडिकल जाँच की अनुमति दे दी और कहा कि उनका मेडिकल चेकअप एम्स, सफदरजंग या आरएमएल हॉस्पिटल में करवाया जाए। इसके अलावा कोर्ट ने तिहाड़ जेल के सुपरिटेंडेंट को निर्देश दिया कि जेल के नियमों के हिसाब से चिदंबरम को तकिया और कुर्सी उपलब्ध कराने पर विचार किया जाए।

हालाँकि, इस सुनवाई के दौरान सीबीआई की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने न्यायिक हिरासत बढ़ाने की माँग की और कहा कि चिदंबरम को तकिया और कुर्सी नहीं दिए जाने की उनको कोई जानकारी नहीं है। जेल में जो नियम है, उनका पालन हो रहा है।

सॉलिस्टर मेहता ने ये भी कहा कि चिदंबरम के वकील इस मामले को सनसनीखेज बनाने की कोशिश न करें। अगर चिदंबरम को किसी चीज की आवश्यकता है, तो वो तिहाड़ जेल प्रशासन को अर्जी दे सकते हैं या फिर मुझे बताया जा सकता था। जबकि ऐसा कुछ भी पी चिदंबरम की तरफ से नहीं बताया गया है। कोर्ट में यह सब बोलकर चिदंबरम सहानुभूति लेना चाहते हैं।

गौरतलब है कि कल सीबीआई के सॉलिस्टर द्वारा चिदंबरम की न्यायिक हिरासत बढ़ाने की माँग के बाद दिल्ली स्थित राउज एवेन्यू कोर्ट ने चिदंबरम की 14 दिन की न्यायिक हिरासत बढ़ा दी है। जिसका मतलब है कि अब कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता और आईएनएक्स मामले में आरोपित चिदंबर 3 अक्टूबर तक के लिए तिहाड़ में बंद रहेंगे।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe