Tuesday, October 19, 2021
Homeबड़ी ख़बरCBI मामले में कॉन्ग्रेस को मोदी का करारा जवाब: संवैधानिक संस्थाओं को कॉन्ग्रेस कर...

CBI मामले में कॉन्ग्रेस को मोदी का करारा जवाब: संवैधानिक संस्थाओं को कॉन्ग्रेस कर रही है बर्बाद

प्रधानमंत्री ने यह भी कहा देश की आजादी के बाद 60 साल में बैंकों द्वारा ₹18 लाख करोड़ कर्ज बाँटा गया जबकि यूपीए सरकार के अंतिम 6 सालों में ₹34 लाख करोड़ कर्ज के रूप में बाँटा गया है।

दिल्ली के रामलीला मैदान में भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए देश के प्रधानमंत्री मोदी ने विरोधियों के पर जमकर हमला बोला। प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में कहा, “आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और छत्तीसगढ़ की सरकार ने अपने यहाँ सीबीआई जैसी संस्था के एंट्री पर रोक लगा दी है। उन्होंने ऐसा कहीं किसी डर की वजह से तो नहीं किया है? आज जो लोग सीबीआई के महत्व को नकार कर रहा हैं, हो सकता है कल वही लोग आर्मी, पुलिस, कैग, कैग जैसी संस्थाओं का भी नकारना शुरू कर दें।”

प्रधानमंत्री का यह बयान तब आया है, जब विपक्षी दल के नेताओं के द्वारा सीबीआई की प्रासंगिकता पर सवाल उठाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने अपने इस बयान के ज़रिए विपक्षी दलों द्वारा देश के प्रतिष्ठित संस्थानों पर उठाए जा रहे सवाल का करारा जवाब दिया है। प्रधानमंत्री ने इस कार्यक्रम के दौरान यह भी कहा कि जब गुजरात में हमारी सरकार थी, तो अमित जी को सीबीआई ने जेल में डाल दिया था। इसके बावजूद हमारी सरकार ने सीबीआई को राज्य में आने से मना नहीं किया था, क्योंकि हमें देश के कानून में भरोसा है।

इस बैठक के दौरान प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि कॉन्ग्रेस सरकार द्वारा बैंक पर दवाब देकर डिफ़ॉल्टरों को कर्ज दिलाया गया। देश की आजादी के बाद 60साल में बैंकों द्वारा 18 लाख करोड़ कर्ज बाँटा गया जबकि यूपीए सरकार के अंतिम 6 सालों में 34 लाख करोड़ रूपए कर्ज के रूप में बाँटा गया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि कॉन्ग्रेस की सरकार ने अपने अंतिम 6 साल के दौरान डिफ़ॉल्टरों को पैसा देने के लिए बैंकों पर दवाब बनाया है।

जानकारी के लिए बता दें कि सीबीआई मामले में भाजपा पर सवाल उठाते हुए कपिल सिब्बल ने पिछले दिनों बयान दिया था कि तोता पिंजड़े से उड़ जाता तो, सारे राज खोल देता। सिब्बल इस तरह के बयान के ज़रिए वर्तमान सरकार पर भले ही सवाल खड़ा करने के प्रयास कर रहे हों। लेकिन कपिल सिब्बल को ऐसा बोलने से पहले खुद और अपनी पार्टी के भी गिरेबान में झाँक कर देखना चाहिए। कॉन्ग्रेस पार्टी की सरकार में सिब्बल मंत्री थे, तब 2जी स्कैम, कोल आवंटन स्कैम, कॉमनवेल्थ खेल गाँव स्कैम जैसे कई बड़े घोटाले हुए। इन सभी घोटाले की जाँच में सीबीआई ने कपिल साहब के बयानों वाले तोते जैसी ही भूमिका निभाई थी।   

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘सहिष्णुता और शांति का स्तर ऊँचा कीजिए’: हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर जिस कर्मचारी को Zomato ने निकाला था, उसे CEO ने फिर बहाल...

रेस्टॉरेंट एग्रीगेटर और फ़ूड डिलीवरी कंपनी Zomato के CEO दीपिंदर गोयल ने उस कर्मचारी को फिर से बहाल कर दिया है, जिसे कंपनी ने हिंदी को राष्ट्रभाषा बताने पर निकाल दिया था।

बांग्लादेश के हमलावर मुस्लिम हुए ‘अराजक तत्व’, हिंदुओं का प्रदर्शन ‘मुस्लिम रक्षा कवच’: कट्टरपंथियों के बचाव में प्रशांत भूषण

बांग्लादेश में हिंदू समुदाय के नरसंहार पर चुप्पी साधे रखने के कुछ दिनों बाद, अब प्रशांत भूषण ने हमलों को अंजाम देने वाले मुस्लिमों की भूमिका को नजरअंदाज करते हुए पूरे मामले में ही लीपापोती करने उतर आए हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,963FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe