‘अल्लाह जो फैसला करेगा, वो मोदी करेगा’ – PM से प्रभावित एक मुसलमान के शब्द, वीडियो Viral

अब्दुल जब्बार ने कहा कि मोदी जी अल्लाह तो नहीं है। मोदी जी इंसान है और इंसान अल्लाह से बढ़कर तो नहीं होता। लेकिन अल्लाह जो फैसला करेगा, मोदी वही करेगा।

पटना के ऐतिहासिक गाँधी मैदान में हुई एनडीए की संकल्प रैली कई मायनों में अहम रही। सबसे अहम तो यह रहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने करीब नौ साल बाद किसी चुनाव रैली में एक साथ मंच साझा किया।

इस दौरान पीएम मोदी ने अपने भाषण से विपक्ष को तो करारा जवाब दिया ही, साथ ही एयर स्ट्राइक का सबूत माँगने वाले लोगों को भी आइना दिखाया। लोग पीएम मोदी के भाषण से काफी प्रभावित दिखे। यहाँ प्रधानमंत्री ने 850 भारतीय बंदियों को सऊदी अरब से छोड़े जाने और पूरे विश्व में सिर्फ भारत का हज कोटा बढ़ा कर दो लाख करने की भी बात भी कही।

संकल्प रैली के दौरान अपनी प्रतिक्रिया रखते लोग (साभार: प्रभात ख़बर)

मोदी की इस बात पर यहाँ भाषण सुनने आए लोगों ने अपने विचार रखे। इन्हीं में से एक थे अब्दुल जब्बार कासमी। इन्होंने पीएम मोदी की तुलना अल्लाह से कर दी। अब्दुल जब्बार ने कहा कि मोदी जी अल्लाह तो नहीं है। मोदी जी इंसान है और इंसान अल्लाह से बढ़कर तो नहीं होता। लेकिन अल्लाह जो फैसला करेगा, मोदी वही करेगा। वहीं जब उनसे प्रधानमंत्री बनने के बारे में पूछा गया कि मोदी और राहुल में से किसे पीएम बनना चाहिए तो उन्होंने इसे भी अल्लाह के ऊपर छोड़ते हुए कहा जो अल्लाह चाहेगा, वही होगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस मौके पर एक महिला भी पीएम मोदी का पूर्ण समर्थन करती दिखीं। महिला का कहना था कि जब पीएम मोदी ने इतनी बड़ी बात सुलझा दी तो हम उन्हें एक बार नहीं, पाँच बार जिताएँगे और आगे बढ़ाएँगे। उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी पर पूरा भरोसा है और उन्हें ही आगे भी जिताना चाहिए।

बता दें कि पीएम मोदी ने भाषण देते हुए कहा कि 50 सालों में ऐसा पहली बार हुआ है, जब भारत को इस्लामिक कॉन्फ्रेंस में गेस्ट ऑफ ऑनर का सम्मान मिला है। पीएम ने कहा कि हाल में भारत दौरे पर आए सऊदी अरब के प्रिंस क्राउन से अरब के जेलों में छोटी-मोटी गलती के कारण बंद भारतीय बंदियों की रिहाई पर बात हुई। जिसके बाद उन्होंने 850 बंदियों को छोड़ने का फैसला भी कर लिया है। इसके साथ ही हज पर जाने वाले भारतीय मुसलमानों का कोटा बढ़ाते हुए दो लाख कर दिया गया। ऐसा सिर्फ भारत के लिए ही हुआ है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू छात्र विरोध प्रदर्शन
गरीबों के बच्चों की बात करने वाले ये भी बताएँ कि वहाँ दो बार MA, फिर एम फिल, फिर PhD के नाम पर बेकार के शोध करने वालों ने क्या दूसरे बच्चों का रास्ता नहीं रोक रखा है? हॉस्टल को ससुराल समझने वाले बताएँ कि JNU CD कांड के बाद भी एक-दूसरे के हॉस्टल में लड़के-लड़कियों को क्यों जाना है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,491फैंसलाइक करें
22,363फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: