Saturday, April 17, 2021
Home देश-समाज NRC में नाम नहीं होने भर से नहीं जाएगी नागरिकता, कानूनी सहायता उपलब्ध कराएगी...

NRC में नाम नहीं होने भर से नहीं जाएगी नागरिकता, कानूनी सहायता उपलब्ध कराएगी सरकार

जिनके नाम NRC में नहीं हैं, वे नागरिकता नियमावली, 2003 के अंतर्गत अपील दायर कर सकते हैं। केंद्र सरकार ने समय सीमा बढ़ाकर 60 से 120 दिन कर दी है।

NRC की अंतिम सूची 31 अगस्त को प्रकाशित होनी है। इसमें जिस किसी ज़रूरतमंद का नाम नहीं है, उन्हें असम सरकार की ओर से कानूनी सहायता प्रदान की जाएगी। असम के अपर मुख्य सचिव (गृह और राजनीतिक विभाग) कुमार संजय कृष्णा ने मंगलवार को यह जानकारी दी।

उन्होंने इस भ्रान्ति का भी स्पष्टीकरण दिया कि NRC में जिसका नाम नहीं होगा, उसे हिरासत में लिया जाएगा। उन्होंने साफ़ किया कि ऐसी कोई कार्रवाई केवल फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल के ही आदेश पर हो सकती है। उन्होंने कहा, “राज्य सरकार NRC से बाहर होने वाले लोगों के लिए ज़रूरी बंदोबस्त करेगी। उन्हें हर सम्भव सहायता जिला कानूनी सहायता प्राधिकरण [District Legal Services Authorities (DLSA)] के ज़रिए मुहैया कराई जाएगी।”

उन्होंने इस तथ्य की ओर भी ध्यान आकर्षित किया कि Foreigners’ Act, 1946 और Foreigners (Tribunals) Order, 1964 के अंतर्गत केवल फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल को ही किसी को विदेशी करार देने की शक्ति है। अतः NRC से बाहर होने भर से अपने-आप कोई विदेशी नहीं बन जाता।”

60 से 120 दिन की समय-सीमा

जिनके नाम NRC में नहीं हैं, वे नागरिकता (नागरिकों का पंजीकरण और राष्ट्रीय पहचान पत्र जारी करना) नियमावली, 2003 की अनुसूची के 8वें खंड के अंतर्गत अपील दायर कर सकते हैं। इसके लिए केंद्र सरकार ने समय-सीमा बढ़ाकर 60 से 120 दिन कर दी है। इसके लिए Foreigners’ (Tribunals) Amendment Order, 2019 में आवश्यक परिवर्तन भी किए गए हैं।

200 ट्रिब्यूनल

NRC में नहीं शामिल लोगों के मामलों पर सुनवाई के लिए 200 फॉरेनर्स ट्रिब्यूनल का गठन जारी है, जिसके लिए अधिसूचना जल्दी ही जारी कर दी जाएगी। कृष्णा के मीडिया को जारी कथन में इसका भी ज़िक्र था। 1951 में प्रकाशित पहली NRC को अपडेट करने की यह कवायद सुप्रीम कोर्ट की सीधी निगरानी में हो रही है।

उपर्युक्त 200 ट्रिब्यूनलों के अलावा 200 अतिरिक्त ट्रिब्यूनल और गठित की जाएंगी। कृष्णा के अनुसार इन्हें लोगों के लिए सुविधाजनक स्थानों पर गठित किया जाएगा, ताकि अपील दायर करने से लेकर फैसले तक सभी चीज़ें आसानी से हो सकें।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

PM मोदी की अपील पर कुंभ का विधिवत समापन, स्वामी अवधेशानंद ने की घोषणा, कहा- जनता की जीवन रक्षा हमारी पहली प्राथमिकता

पीएम मोदी ने आज ही स्वामी अवधेशानंद गिरी से बात करते हुए अनुरोध किया था कि कुंभ मेला कोविड-19 महामारी के मद्देनजर अब केवल प्रतीकात्मक होना चाहिए।

TMC ने माना ममता की लाशों की रैली वाला ऑडियो असली, अवैध कॉल रिकॉर्डिंग पर बीजेपी के खिलाफ कार्रवाई की माँग

टीएमसी नेता के साथ ममता की बातचीत को पार्टी ने स्वीकार किया है कि रिकॉर्डिंग असली है। इस मामले में टीएमसी ने पश्चिम बंगाल के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखकर भाजपा पर गैरकानूनी तरीके से कॉल रिकॉर्ड करने का आरोप लगाया है।

Pak की मायरा, भारत का हिन्दू लड़का, US में प्यार… ‘इस्लाम कबूल करो’ पर लड़की ने दिखाया ठेंगा: पक्का लव जिहाद?

अंततः फारुकी ने वही कहा जो उसे कहना था - शादी करने के लिए लड़के को अपना धर्म बदलना होगा और इस्लाम अपनाना होगा।

’47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार सिर्फ मेरे क्षेत्र में’- पूर्व कॉन्ग्रेसी नेता और वर्तमान MLA ने कबूली केरल की दुर्दशा

केरल के पुंजर से विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि अकेले उनके निर्वाचन क्षेत्र में 47 लड़कियाँ लव जिहाद का शिकार हुईं हैं।

रात में काम, सिर्फ पुरुष करें अप्लाई: महिलाओं को नौकरी के लिए केरल हाईकोर्ट का विज्ञापन के उलट फैसला

केरल हाईकोर्ट ने कहा कि अगर कोई महिला योग्य है तो उसे कार्य की प्रकृति के आधार पर रोजगार के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता।

बंगाल: बूथ पर ही BJP पोलिंग एजेंट की मौत, TMC गुंडों ने ‘भाजपा को वोट क्यों’ कह शर्ट पकड़ धक्का दिया

उत्तर 24 परगना के कमरहटी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा पोलिंग एजेंट की मतदान केंद्र के अंदर ही मौत हो गई। कमरहटी में...

प्रचलित ख़बरें

‘वाइन की बोतल, पाजामा और मेरा शौहर सैफ’: करीना कपूर खान ने बताया बिस्तर पर उन्हें क्या-क्या चाहिए

करीना कपूर ने कहा है कि वे जब भी बिस्तर पर जाती हैं तो उन्हें 3 चीजें चाहिए होती हैं- पाजामा, वाइन की एक बोतल और शौहर सैफ अली खान।

सोशल मीडिया पर नागा साधुओं का मजाक उड़ाने पर फँसी सिमी ग्रेवाल, यूजर्स ने उनकी बिकनी फोटो शेयर कर दिया जवाब

सिमी ग्रेवाल नागा साधुओं की फोटो शेयर करने के बाद से यूजर्स के निशाने पर आ गई हैं। उन्होंने कुंभ मेले में स्नान करने गए नागा साधुओं का...

जहाँ इस्लाम का जन्म हुआ, उस सऊदी अरब में पढ़ाया जा रहा है रामायण-महाभारत

इस्लामिक राष्ट्र सऊदी अरब ने बदलते वैश्विक परिदृश्य के बीच खुद को उसमें ढालना शुरू कर दिया है। मुस्लिम देश ने शैक्षणिक क्षेत्र में...

बेटी के साथ रेप का बदला? पीड़ित पिता ने एक ही परिवार के 6 लोगों की लाश बिछा दी, 6 महीने के बच्चे को...

मृतकों के परिवार के जिस व्यक्ति पर रेप का आरोप है वह फरार है। पुलिस ने हत्या के आरोपित को हिरासत में ले लिया है।

कोरोना का इस्तेमाल कर के राम मंदिर पर साधा निशाना: AAP की IT सेल वाली ने करवा ली अपने ही नेता केजरीवाल की बेइज्जती

जनवरी 2019 में दिल्ली के मस्ज़िदों के इमामों के वेतन को ₹10,000 से बढ़ा कर ₹18,000 करने का ऐलान किया गया था। मस्जिदों में अज़ान पढ़ने वाले मुअज़्ज़िनों के वेतन में भी बढ़ोतरी कर इसे ₹9,000 से ₹16,000 कर दिया गया था।

‘उस किताब का नाम ले सकते हो जो असल में वायरस है’: जानें कैसे कॉन्ग्रेस के ‘वैक्सीन’ मीम्स ने किया उसका ही छीछालेदर

कर्नाटक कॉन्ग्रेस के ट्विटर हैंडल से कुछ ट्वीट किए गए। इसमें एक तरफ वायरस और दूसरी तरफ वैक्सीन दिखा कर पार्टी ने अपनी हिंदूविरोधी, भाजपा विरोधी, आरएसएस विरोधी मानसिकता का खूब प्रदर्शन किया।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,228FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe