Sunday, June 23, 2024
Homeदेश-समाजजैन संतों का स्वागत कर रहे थे श्रद्धालु, ट्रक ने आकर रौंद दिया; कई...

जैन संतों का स्वागत कर रहे थे श्रद्धालु, ट्रक ने आकर रौंद दिया; कई की हालत नाजुक: Video वायरल, जैन समाज ने बताया षड्यंत्र

राजस्थान के पाली जिले के एक शहर में जैन श्रद्धालुओं के एक समूह पर मिनी ट्रक चढ़ाने का मामला सामने आया है। इस घटना में कुछ श्रद्धालु घायल हो गए हैं, जिनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। इस घटना से जैन समाज बेहद नाराज है और इसे 'अनूप मंडल' की साजिश बता रहा है। राजस्थान में एक महीने में जैन संतों पर हमले का यह दूसरा मामला है।

राजस्थान के पाली जिले के एक शहर में जैन श्रद्धालुओं के एक समूह पर मिनी ट्रक चढ़ाने का मामला सामने आया है। इस घटना में कुछ श्रद्धालु घायल हो गए हैं, जिनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। इस घटना से जैन समाज बेहद नाराज है और इसे ‘अनूप मंडल’ की साजिश बता रहा है। पुलिस ने ट्रक मालिक को गिरफ्तार कर लिया है। राजस्थान में एक महीने में जैन संतों पर हमले का यह दूसरा मामला है।

जानकारी के अनुसार, पाली जिले के तखतगढ़ में जैन संतों के नगर प्रवेश का कार्यक्रम 12 जनवरी 2024 को चल रहा था। यह कार्यक्रम तखतगढ़ के पीएल मिस्त्री सर्कल पर हो रहा था। यहाँ कई जैन श्रद्धालु इन संतों के नगर प्रवेश कार्यक्रम में भाग लेने के लिए आए हुए थे। ये कार्यक्रम जैन मुनि तपोरत्न सूरी आचार्य महाराज के नेतृत्व में पाली से जालौर के लिए निकला था।

जैसे ही जैन संन्यासी और श्रद्धालु यहाँ से आगे बढ़े, वैसे ही एक सफ़ेद रंग का मिनी ट्रक भीड़ को चीरता हुआ आया और कई श्रद्धालुओं को चपेट में ले लिया। इस दौरान चीख-पुकार मच गई। श्रद्धालुओं पर चढ़ने के बाद भी यह ट्रक नहीं रुका और वह वहाँ से भाग निकला। पता चला है कि यह तखतगढ़ बाजार से सामान लेकर जा रहा था।

इस घटना का एक सीसीटीवी वीडियो भी सामने आया है। फुटेज में दिख रहा है कि जैन श्रद्धालु सड़क पर खड़े हैं, इसी बीच एक मिनी ट्रक लोगों को कुचलता हुआ आगे निकल जाता है। लोग इस ट्रक से बचने के लिए इधर-उधर भागने की कोशिश भी करते हैं, लेकिन सफल नहीं हो पाते हैं।

बताया गया है कि ट्रक चढ़ने के कारण कुछ महिलाओं सहित चार लोग शामिल हैं। इसमें से एक महिला के हाथ में गंभीर चोट आई है, जबकि एक महिला का पैर टूट गया है। कुछ की हालत नाजुक बताई जा रही है। घायलों को प्राथमिक उपचार के बाद सुमेरपुर और अहमदाबाद के लिए रेफर कर दिया गया है। वहीं, पुलिस ने इस घटना को ट्रक का ब्रेक फेल होने से जोड़ा है।

इस मामले में पुलिस ने केस दर्ज करके ट्रक के मालिक को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, ट्रक को भी जब्त कर लिया गया है। जैन समाज के लोगों ने इसे साजिश बताया है। जैन शासन रक्षार्थ समिति के अध्यक्ष कल्पेश ने बताया कि जैन साधुओं पर इस तरह के हमले लगातार हो रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि इस मामले में पुलिस ने सामान्य धाराओं में केस दर्ज किया है। 

जैन साधुओं के खिलाफ साजिश

पाली के श्री संघ सभा से जुड़े जैन समाज के कई लोग 15 जनवरी 2024 को आईजी से मिले और इसमें षडयंत्र की आशंका जताई। उनका कहना था कि ट्रक ड्राइवर ने जानबूझ कर जैन साधुओं पर ट्रक चढ़ाया है। इसके बाद ट्रक के मालिक को गिरफ्तार किया गया है। वहीं, ट्रक का ड्राइवर अभी तक गिरफ्तार नहीं हुआ है।

जैन समाज के संतों पर हमले का एक महीने में यह दूसरा मामला है। इससे पहले भीनमाल थाना इलाके के रामसिंह गाँव में महाराज तपोरत्न सूरी पर बोलेरो चढ़ाने की कोशिश की गई थी। जैन समाज के लोगों ने इस घटना के पीछे ‘अनूप मंडल’ का हाथ होने का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि अनूप मंडल जैन विरोधी है और साधुओं की जान के पीछे पड़े हैं।

क्या अनूप मंडल

दरअसल, अनूप मंडल कोई व्यक्ति नहीं, बल्कि एक समूह है जो जैन और बनिया समाज की खिलाफत करता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, साल 1909 में अनूप दास नाम के साधु ने ‘जगतहितकारिणी’ नाम से एक किताब लिखी थी, जिसमें जैन और वैश्य समाज के खिलाफ गलत बातें लिखी है। बाद में उनके अनुयायियों ने आश्रम खोले और संगठन बनाए। इनका प्रभाव राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र तक में है।

अनूप दास के अनुयायियों के समूह को ही अनूप मंडल कहा जाता है। ये गुट मानता है कि संसार में जो कुछ भी गलत हो रहा है, उसके पीछे जैन और बनिए शामिल हैं। अनूप मंडल से जुड़े लोगों का तो यहाँ तक मानना है कि दुनिया के किसी कोने में जैन लोगों ने एक राक्षसी दुनिया बनाई हुई है और वहाँ से ये लोग दुनिया में महामारी छोड़ते हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मोदी के दिए घरों में रहते हैं, 100% वोट कॉन्ग्रेस को देते हैं’: बोले असम CM सरमा – राज्य पर कब्ज़ा करना चाहते हैं...

सीएम हिमंता ने कहा कि बांग्लादेशी मूल के अल्पसंख्यकों ने कॉन्ग्रेस को इसलिए वोट दिया, क्योंकि अगले 10 सालों में वे राज्य को कब्जा चाहते हैं।

NEET पीपर लीक की जाँच अब CBI के हवाले, केंद्रीय जाँच एजेंसी ने दर्ज की FIR: PG की परीक्षा के लिए नई तारीखों का...

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय की ओर से बताया गया कि विवाद की समीक्षा के बाद मंत्रालय ने मामले की व्यापक जाँच के लिए इसे सीबीआई को सौंपने का फैसला किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -