Friday, June 14, 2024
Homeदेश-समाजअंधविश्वास के कारण हत्या में बड़ी कमी, 107 के मुकाबले सिर्फ 23: असम में...

अंधविश्वास के कारण हत्या में बड़ी कमी, 107 के मुकाबले सिर्फ 23: असम में BJP सरकार की उपलब्धि

असम सरकार ने विचहंट एक्ट 2015 के तहत लोगों को जागरूक करने के कई कार्यक्रम भी शुरू किए, जिससे ऐसी अंधविश्वास की कुप्रथाओं से निजात मिल सके।

असम में भाजपा के सत्ता में आने के बाद अन्धविश्वास के चलते होने वाले अपराध में गिरावट आई है। असम में प्रचलित अंधविश्वास की एक कुप्रथा ‘विचहंट’ में होने वाली हत्या की घटनाओं में भारी गिरावट दर्ज की गई। दरअसल ‘विचहंट’ एक कुप्रथा है, जिसका आधार ही अंधविश्वास है।

शनिवार को कॉन्ग्रेस की एक विधायक नंदिता दास के प्रश्न के जवाब में विधानसभा में बोलते हुए असम सरकार के मंत्री चन्द्र मोहन पाटोवेरी ने बताया कि राज्य में भाजपा के सत्ता में आने से पूर्व 2011 से 2016 के बीच 107 लोगों ने इस कुप्रथा के चलते अपनी जान गँवाई थी। जबकि इसके बाद भाजपा के शासनकाल के आँकड़ों को देखें तो इन घटनाओं में खासी गिरावट देखी गई। जून 2016 से लेकर अक्टूबर 2019 तक के बीच राज्य में भाजपा की सरकार आने के बाद अंधविश्वास के चलते होने वाली हत्या का आँकड़ा गिरकर 23 पर आ गया।

एक रिपोर्ट के मुताबिक असम के निचले भाग में पड़ने वाले कोकराझार जिले में इस कुप्रथा के चलते सबसे ज्यादा मर्डर होते रहे हैं। इस इलाके में 2011 से लेकर अक्टूबर 2019 तक करीबन 22 हत्या हो चुकी हैं। वहीं पड़ोस का चिरांग जिला इस मामले में 19 हत्याओं के आँकड़े के साथ दूसरे नंबर पर है। इसके अलावा इस मामले में होने वाली हत्याओं की फेहरिस्त में राज्य 21 अन्य जिलों के नाम शामिल हैं, जिनमें से अधिकतर बोडोलैंड सीमा में पड़ने वाले जिले हैं।

इस मामले में जवाब देते हुए पाटोवेरी ने बताया कि राज्य सरकार ने अक्टूबर में असम विचहंट एक्ट 2015 में लोगों को जागरूक करने के कई कार्यक्रम भी शुरू किए, जिससे ऐसी अंधविश्वास की कुप्रथाओं से निजात मिल सके। उन्होंने बताया कि हाल ही के आँकड़े के मुताबिक जो 23 मौतें हुईं, उनमे 12 पुरुष थे जबकि 11 महिलाएँ।

असम ही नहीं केरल भी पहुँच जाते हैं बांग्लादेशी और करते हैं मर्डर, 2 हत्यारों को खोज रही पुलिस

NDTV ने मॉंगी माफी: असम के अविवाहित CM को बताया था 6 बच्चों का बाप

2020 के बाद 2 से अधिक बच्चे वालों को नहीं मिलेगी सरकारी नौकरी: असम सरकार ने लिया फैसला

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NSA, तीनों सेनाओं के प्रमुख, अर्धसैनिक बलों के निदेशक, LG, IB, R&AW – अमित शाह ने सबको बुलाया: कश्मीर में ‘एक्शन’ की तैयारी में...

NSA अजीत डोभाल के अलावा उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा, तीनों सेनाओं के प्रमुख के अलावा IB-R&AW के मुखिया व अर्धसैनिक बलों के निदेशक भी मौजूद रहेंगे।

अब तक की सबसे अधिक ऊँचाई पर पहुँचा भारत का विदेशी मुद्रा भंडार, उधर कंगाली की ओर बढ़ा पाकिस्तान: सिर्फ 2 महीने का बचा...

एक तरफ पाकिस्तान लगातार बर्बादी की कगार पर पहुँच रहा है, तो दूसरी तरफ भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगातार बढ़ता जा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -