NDTV ने मॉंगी माफी: असम के अविवाहित CM को बताया था 6 बच्चों का बाप

NDTV की एंकर सोनल मेहरोत्रा कपूर ने बड़े ही नाटकीय अंदाज़ में झूठ फैलाने की कोशिश की थी। अब कहा है, "हमें बेहद अफ़सोस है कि NDTV के एक एंकर ने अनजाने में कहा कि असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के छ: बच्चे थे, जबकि यह सर्वविदित है कि वो अविवाहित हैं।"

ऑपइंडिया ने अपने फ़ैक्ट चेक में शुक्रवार (25 अक्टूबर) को NDTV की ग़लत रिपोर्टिंग का ख़ुलासा किया था। NDTV की एंकर सोनल मेहरोत्रा कपूर ने असम में सरकारी नौकरियों के लिए दो-बच्चे से संबंधित ख़बर को पढ़ते हुए दावा किया था कि दो से अधिक बच्चे वाले लोग असम में सरकारी नौकरी पाने के पात्र नहीं होंगे, जबकि असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के ख़ुद 6 बच्चे हैं।

वास्तव में, NDTV की एंकर सोनल मेहरोत्रा ख़ुद सच्चाई से कोसों दूर थीं, क्योंकि उन्हें नहीं मालूम था कि असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के 6 बच्चे नहीं हैं। असम के मुख्यमंत्री अविवाहित हैं और एकल जीवन जीते हैं। अब इस ख़बर पर अपनी ग़लती को स्वीकारते हुए NDTV ने माफ़ी माँगी है। NDTV ने अपने ट्विटर हैंडल से लिखा, “हमें बेहद अफ़सोस है कि NDTV के एक एंकर ने अनजाने में कहा कि असम के मुख्यमंत्री
सर्बानंद सोनोवाल के 6 बच्चे थे, जबकि यह सर्वविदित है कि वो अविवाहित हैं।”

बता दें कि बड़े ही नाटकीय अंदाज़ में, सोनल मेहरोत्रा ​​कपूर ने दर्शकों को बताया था कि दिलचस्प बात यह है कि मुख्यमंत्री के ख़ुद के 6 बच्चे हैं, लेकिन उन्होंने इस दो-बाल नीति को लागू करने का फ़ैसला किया है।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

इस वीडियो को NDTV ने माइक्रो-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर भी शेयर किया था जिसे बाद में डिलीट कर दिया। लेकिन तकनीक के इस दौर में अगर वीडियो शेयर करने और डिलीट करने का ऑप्शन है तो समय रहते डाउनलोड करने का अवसर भी इसी तकनीक ने दिया है। ऊपर आप उसी डाउनलोड किए वीडियो को देख सकते हैं।

बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुआ जब NDTV के एंकर्स ने झूठ फैलाने में दिलचस्पी ली हो। इससे पहले 2018 में NDTV ने अपने सोशल चैनल्स पर ‘असम बीजेपी सांसद के भतीजे, नागरिक सूची में नहीं हैं, ऐसा भी होता है’ हेडिंग के साथ एक न्यूज़ अपलोड और शेयर की थी। इस फ़र्ज़ी ख़बर में बीजेपी सांसद बिजोया चक्रवर्ती और जयदीप फुकन की फ़ोटो थी। तब जयदीप ने ट्विटर पर दावा किया था कि उनका नाम NRC सूची में है और वे भाजपा सांसद के भतीजे नहीं हैं। जयदीप ने NDTV को एक मेल भेज इस अप्रासंगिक न्यूज़ से अपनी फ़ोटो को तुरंत हटाने को कहा था।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

"ज्ञानवापी मस्जिद पहले भगवान शिव का मंदिर था जिसे मुगल आक्रमणकारियों ने ध्वस्त कर मस्जिद बना दिया था, इसलिए हम हिंदुओं को उनके धार्मिक आस्था एवं राग भोग, पूजा-पाठ, दर्शन, परिक्रमा, इतिहास, अधिकारों को संरक्षित करने हेतु अनुमति दी जाए।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

154,683फैंसलाइक करें
42,923फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: