Tuesday, July 27, 2021
Homeसोशल ट्रेंडअदनान सामी ने पाकिस्तानी ट्रोल को किया सरेंडर, कहा- मेरे गाने नहीं सुने... आतंक...

अदनान सामी ने पाकिस्तानी ट्रोल को किया सरेंडर, कहा- मेरे गाने नहीं सुने… आतंक मत फैलाओ

पाकिस्तानी ट्रोल के ट्वीट का जवाब देते हुए भारतीय गायक ने लिखा, “मैं हमेशा प्रेम को ही बढ़ावा देता हूँ। क्या आपने मेरे गाने नहीं सुने? बल्कि आप लोगों को शांति फैलाने पर ध्यान देने की ज़रूरत है ना कि आतंकवाद!”

बीते 16 दिसंबर 2020 को पूरे देश ने 50वाँ विजय दिवस मनाया। इस मौके पर देश और दुनिया के तमाम लोगों ने भारतीय सेना की प्रशंसा करते हुए बधाई दी। यह दिन जितना भारतीय सेना की जीत के लिए मशहूर है, उतना ही पाकिस्तानी सेना की हार के लिए भी। इस बात का उल्लेख करते हुए मशहूर गायक अदनान सामी ने अपने ट्वीट में भारतीय सेना का वीडियो साझा किया। इस वीडियो पर एक पाकिस्तानी ट्रोल ने उन्हें घेरने की कोशिश की, लेकिन गायक ने ट्रोल को ऐसा जवाब दिया कि उसकी बोलती बंद हो गई।

दरअसल ‘विजय दिवस’ के मौके पर भारतीय भारतीय सेना ने सशस्त्र बलों का शौर्य दर्शाने वाला एक वीडियो साझा किया था। इस वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए अदनान सामी ने उर्दू शायर की पंक्तियाँ लिखी, “मुझे सब याद है ज़रा-ज़रा, तुम्हें याद हो कि न याद हो।” इन पंक्तियों के अलावा उन्होंने अपने ट्वीट में विजय दिवस की जगह ‘पाक सरेंडर डे’ (पाकिस्तान के आत्मसमर्पण का दिन) लिखा था। 

इस दिन युद्ध में दिखाए गए भारतीय सेना के पराक्रम की वजह से लगभग 93 हज़ार पाकिस्तानी सैनिकों ने आत्मसमर्पण किया था। इतना ही नहीं अदनान सामी ने अपने ट्वीट में पाकिस्तानी सेना को भारतीय सेना के हाथों मिली इस शिकस्त के लिए ‘रियलिटी चेक’ (हैशटैग) भी लिखा था। उल्लेखनीय है कि मशहूर भारतीय गायक अदनान सामी के पिता पाकिस्तानी वायु सेना का हिस्सा थे।     

इस बात पर एक पाकिस्तानी ट्रोल ने अदनान सामी को नसीहत देते हुए लिखा- प्यार फैलाने की कोशिश करो (Try to spread love)। 

पाकिस्तानी ट्रोल के ट्वीट का जवाब देते हुए भारतीय गायक ने लिखा, “मैं हमेशा प्रेम को ही बढ़ावा देता हूँ। क्या आपने मेरे गाने नहीं सुने? बल्कि आप लोगों को शांति फैलाने पर ध्यान देने की ज़रूरत है ना कि आतंकवाद!”

16 दिसंबर 2020 को विजय दिवस की 50वीं वर्षगांठ के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समेत देश के तमाम मंत्रियों ने भारतीय सेना की वीरता और पराक्रम की सराहना की थी। विजय दिवस के मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ‘स्वर्णिम विजय वर्ष’ के प्रतीक चिह्न का अनावरण किया था।  

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,363FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe