Monday, July 26, 2021
Homeसोशल ट्रेंडयति न​रसिंहानंद की गर्दन काटने की बात करने वाले अमानतुल्लाह खान के समर्थन में...

यति न​रसिंहानंद की गर्दन काटने की बात करने वाले अमानतुल्लाह खान के समर्थन में इस्लामी कट्टरपंथी, बता रहे- दिल्ली का टाइगर

कट्टरपंथी सोशल मीडिया पर यति नरसिंहानंद की गिरफ्तारी की माँग कर रहे हैं, जबकि उनका सिर कलम करने की धमकी देने वाले का समर्थन।

उत्तर प्रदेश के डासना देवी मंदिर के महंत यति नरसिंहानंद सरस्वती का सिर और जुबान काटने की धमकी देने वाले आम आदमी पार्टी (AAP) के MLA अमानतुल्लाह खान के समर्थन में इस्लामी कट्टरपंथी उतर आए हैं। ट्विटर पर उसके समर्थन में ट्रेंड चला रहे हैं।

कट्टरपंथी सोशल मीडिया पर यति नरसिंहानंद की गिरफ्तारी की माँग कर रहे हैं, जबकि उनका सिर कलम करने की धमकी देने वाले का समर्थन।

अमानतुल्लाह ने स्वामी नरसिंहानंद को मजहबी कीड़ा बताते हुए लोगों को उकसाने की कोशिश की थी कि वो डासना देवी मंदिर के प्रमुख महंत को नुकसान पहुँचाने की कोशिश करें। उसके भड़कावे का असर यह हो रहा है कि कट्टरपंथी इस्लामिस्ट ट्विटर पर महंत के खिलाफ ट्रेंड चला रहे हैं।

कॉन्ग्रेस समर्थक सोशल मीडिया पर सवाल कर रहे हैं कि आखिर दिल्ली पुलिस डासना देवी मंदिर के महंत को गिरफ्तार क्यों नहीं कर रही है। क्या वो मोदी सरकार से डर रही है।

टीपू सुल्तान पार्टी ने तो सिर और जुबान काटने की धमकी देने वाले अमानतुल्लाह खान को ‘दिल्ली का टाइगर’ घोषित कर दिया है। बता दें कि इस पार्टी की स्थापना 2019 में आम चुनाव से पहले हुई थी। इसने लोकसभा चुनावों में भी हिस्सा लिया था। कर्नाटक के ग्रामसभा चुनाव में कुछ सीटें भी जीती थीं।

गौरतलब है कि अमानतुल्लाह खान ने बीते 3 अप्रैल को अपने ट्विटर हैंडल से खुले तौर पर यति नरसिंहानंद की जुबान और गला काटने की धमकी दी थी। आप MLA ने लिखा, “हमारे नबी की शान में गुस्ताखी हमें बिल्कुल बर्दाश्त नहीं। इस नफरती कीड़े की जुबान और गर्दन दोनों काट कर इसे सख्त से सख्त सजा देनी चाहिए। लेकिन हिंदुस्तान का कानून हमें इसकी इजाजत नहीं देता।”

आप विधायक ने इस हेटफुल ट्वीट को एक दिन तक अपने ट्विटर पर पिन करके रखा था। जब लोगों ने सोशल मीडिया पर ट्विटर से इसकी शिकायत की तो रविवार को ट्विटर ने इसे डिलीट कर दिया। लेकिन, फेसबुक पर यह अभी भी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe