Monday, July 26, 2021
Homeसोशल ट्रेंडफ़िल्मकार अनुराग कश्यप ने डिलीट किया ट्विटर अकाउंट

फ़िल्मकार अनुराग कश्यप ने डिलीट किया ट्विटर अकाउंट

"यह मेरा आख़िरी ट्वीट है क्योंकि मैं ट्विटर अकाउंट डिलीट कर रहा हूँ। जब मुझे मेरे दिमाग में जो चल रहा है वो बिना डर के बोलने नहीं दिया जाएगा तो बेहतर है मैं कुछ भी ना बोलूँ। गुड बॉय।"

फिल्मकार अनुराग कश्यप ने अपना ट्विटर अकाउंट डिलीट कर दिया है। यह कदम उन्होंने नेटफ्लिक्स पर सेक्रेड गेम्स का दूसरा सीजन रिलीज होने से पहले उठाया है। इस वेबसीरिज को डायरेक्ट करने वाले अनुराग कुछ दिनों पहले ‘डरा हुआ शांतिप्रिय नैरेटिव’ गढ़ने में लगे थे।

अनुराग ने शनिवार (9 अगस्त) को क़रीब रात 9 बजे दो ट्वीट करने के बाद अपना अकाउंट डिलीट कर दिया। अपने ट्वीट में उन्होंने उन धमकियों का ज़िक्र किया जो उन्हें और उनके परिवार को मिल रही थीं। उन्होंने लिखा, “जब आपके माता-पिता को फोन आने लगे। आपकी बेटी को ऑनलाइन धमकियाँ मिल रही है क्योंकि आप जानते हैं कि कोई भी इस बारे में बात नहीं करना चाहता है। ठग राज कर रहे हैं और ठगना ज़िंदगी जीने का नया तरीका है।”  


Anurag Kashyap quits Twitter, his last tweet

अपने दूसरे और आख़िरी ट्वीट में उन्होंने ट्विटर अकाउंट को डिलीट करने की वजह बताते हुए लिखा, “आप सभी की ख़ुशी और सफलता की कामना करता हूँ। यह मेरा आख़िरी ट्वीट है क्योंकि मैं ट्विटर अकाउंट डिलीट कर रहा हूँ। जब मुझे मेरे दिमाग में जो चल रहा है वो बिना डर के बोलने नहीं दिया जाएगा तो बेहतर है मैं कुछ भी ना बोलूँ। गुड बॉय।”


Anurag Kashyap quits Twitter, his last tweet

अपना अकाउंट डिलीट करने से पहले अनुराग कश्यप ने एक स्क्रीनशॉट शेयर किया था जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को टैग करके लिखा कि डियर @narendramodi सर, आपकी जीत पर बधाई। सर कृप्या हमें यह भी बताएँ कि हम आपके उन अनुयायियों के साथ कैसा व्यवहार करें, जो मेरी बेटी को धमकी भरे संदेश भेजते हैं।

anurag kashyap

जानकारी के अनुसार, जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के केंद्र सरकार के फ़ैसले पर ट्वीट करते हुए उन्होंने बिना नाम लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था। वे उन 49 सेलिब्रिटीज में भी शामिल थे जिन्होंने हाल में मोदी को दलितों और अल्पसंख्यकों पर बढ़े कथित जुल्म, हेट क्राइम, मॉब लिंचिंग के मुद्दे पर पत्र लिखा था। इस पत्र में जय श्री राम को उन्माद का नारा बताया गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस पर भड़के उदित राज, नंगी तस्वीरें वायरल होने की चिंता: लोगों ने पूछा – ‘फोन में ये सब रखते ही क्यों हैं?’

पूर्व सांसद और खुद को 'सबसे बड़ा दलित नेता' बताने वाले उदित राज ने आशंका जताई कि पेगासस ने कितनों की नंगी तस्वीर भेजी होगी या निजता का उल्लंघन किया होगा।

कारगिल के 22 साल: 16 की उम्र में सेना में हुए शामिल, 20 की उम्र में देश पर मर मिटे

सुनील जंग ने छलनी सीने के बावजूद युद्धभूमि में अपने हाथ से बंदूक नहीं गिरने दी और लगातार दुश्मनों पर वार करते रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,222FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe