Sunday, July 3, 2022
Homeसोशल ट्रेंडखुद मास्क न पहनने के बावजूद, राजस्थान के ट्रांसजेंडर कॉन्ग्रेस पार्षद ने दो हिंदू...

खुद मास्क न पहनने के बावजूद, राजस्थान के ट्रांसजेंडर कॉन्ग्रेस पार्षद ने दो हिंदू साधुओं को पीटा: वीडियो वायरल

वायरल हुए वीडियो में ट्रांसजेंडर कॉन्ग्रेस पार्षद दो हिंदू संतों को थप्पड़ मारते और उन्हें एक कोने में ढकेलते हुए दिखाई दे रही है। वह पूछ रही है- कोरोना वायरस महामारी के समय आपके मास्क कहाँ हैं? जबकि कॉन्ग्रेस पार्षद ने खुद न तो मास्क पहना था और न ही किसी चीज से चेहरा ढँका था।

राजस्थान के हनुमानगढ़ जिले के पीलीबंगा क्षेत्र में मंगलवार (अप्रैल 27, 2021) की सुबह कॉन्ग्रेस के एक पार्षद को दो हिंदू साधुओं की पिटाई करते हुए देखा गया।

रिपोर्ट के अनुसार, आरोपित की पहचान पूनम महंत के रूप में की गई है। वह वार्ड नंबर 35 की पार्षद हैं और इस साल जनवरी में कॉन्ग्रेस के टिकट पर चुनी गई थीं। वायरल हुए वीडियो में ट्रांसजेंडर कॉन्ग्रेस पार्षद दो हिंदू संतों को थप्पड़ मारते और उन्हें एक कोने में ढकेलते हुए दिखाई दे रही है। इसके बाद उन्होंने उनसे पूछा, “कोरोना वायरस महामारी के समय आपके मास्क कहाँ हैं?” यहाँ पर यह उल्लेख करना आवश्यक है कि कॉन्ग्रेस पार्षद ने खुद न तो मास्क पहना था और न ही किसी चीज से चेहरा ढँका था।

“तुम्हारा मास्क कहाँ है?” पूछने पर एक साधु ने गर्दन में लपेटे कपड़े के टुकड़े की तरफ इशारा किया (बताने की कोशिश की कि यह उनका मास्क है)। इसके बाद उसने साधु से छड़ी छीन कर धमकी देते हुए मास्क लगाने के लिए कहा और मारने के लिए आगे बढ़ी। अपने बचाव में, उसने दावा किया है कि उसने साधुओं को केवल इसलिए रोका क्योंकि वे बिना मास्क के घूम रहे थे।

सोशल मीडिया पर आलोचना के बाद कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता ने ‘डैमेज कंट्रोल’ करने की कोशिश की। आरोपित द्वारा वायरल किए गए एक अन्य वीडियो में एक साधु को पार्षद के घर के पास जाते देखा गया। इसके बाद ‘ट्रांसजेंडर’ घर से बाहर निकलती है और साइनबोर्ड की तरफ इशारा करती है।

उसे पढ़ते हुए वह कहती है, “कृपया मास्क पहनें।” इसके बाद पूनम महंत अंदर जाती है और मास्क लेकर आती है। उसने साधु को मास्क दिया और कोरोना वायरस संकट के बीच खुद की देखभाल करने का आग्रह किया।

सोशल मीडिया पर आलोचना से बचने और खुद को एक वास्तविक राजनीतिक नेता के रूप में चित्रित करने की उसकी तमाम कोशिशों के बावजूद नेटिजन्स को उसके इस कारनामें पर यकीन नहीं हुआ।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सिर कलम करने में जिस डॉ युसूफ का हाथ, वो 16 साल से था दोस्त: अमरावती हत्याकांड में कश्मीर नरसंहार वाला पैटर्न, उदयपुर में...

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या में उनका 16 साल पुराना वेटेनरी डॉक्टर दोस्त यूसुफ खान भी शामिल था। उसी ने कोल्हे की पोस्ट को वायरल किया था।

‘1 बार दलित को और 1 बार महिला आदिवासी को चुना राष्ट्रपति’: BJP की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में भारत को पुनः विश्वगुरु बनाने की बात

"सर्जिकल स्ट्राइक, एयर स्ट्राइक, अनुच्छेद 370 खत्म करने, GST, आयुष्मान भारत, कोरोना टीकाकरण, CAA, राम मंदिर - कॉन्ग्रेस ने सबका विरोध किया।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
202,752FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe