Thursday, June 20, 2024
Homeसोशल ट्रेंडकट्टरपंथी मुस्लिमों से गाली खाकर तेज प्रताप यादव ने डिलीट किया एल्विश यादव को...

कट्टरपंथी मुस्लिमों से गाली खाकर तेज प्रताप यादव ने डिलीट किया एल्विश यादव को समर्थन वाला ट्वीट: तुष्टिकरण, डर या वोट… क्या हो सकता है कारण?

चारा घोटाला का अपराधी लालू ने मुस्लिम-यादव समीकरण दिया था। लालू का बेटा तेज प्रताप यादव अब मंत्री हैं। शायद यह एक कारण हो सकता है कि कट्टरपंथी मुस्लिमों से गाली पड़ने के बाद MY समीकरण को याद कर वोट की भीख के लिए ट्वीट डिलीट मारा हो।

बिग बॉस ओटीटी 2 (Bigg Boss OTT 2) के विनर का ऐलान सोमवार (14 अगस्त, 2023) को होना है। इसके लिए ऑनलाइन वोटिंग चल रही है। अब तक सामने आए वोटिंग के आँकड़ों में एल्विश यादव (Elvish Yadav) टॉप पर चल रहे हैं। तेज प्रताप यादव ने एल्विश यादव को ट्वीट कर समर्थन दिया था। मुस्लिम कट्टरपंथी इसे यादव-यादव समर्थन कह कर सजायाफ्ता कैदी लालू यादव के बेटे को गरिया रहे थे। तेज प्रताप यादव ने इस ट्वीट को अब डिलीट (अज्ञात कारणों से) कर दिया है।

चारा घोटाला का अपराधी और सजायाफ्ता कैदी लालू यादव ने बिहार की राजनीति में मुस्लिम-यादव समीकरण दिया था। लालू एक से जाति के नाम पर तो दूसरे से धर्म के नाम पर वोट पाता था। अपराधी लालू यादव का बेटा तेज प्रताप यादव अब मंत्री हैं, इनकी पार्टी भी लालू वाली ही है, राजनीति अभी भी मुस्लिम-यादव समीकरण (MY समीकरण) वाली ही। शायद यह एक कारण हो सकता है कि किसी अज्ञात व्यक्ति या वस्तु के प्रभाव में आकर एल्विश यादव को समर्थन तो तेज प्रताप ने कर दिया लेकिन कट्टरपंथी मुस्लिमों से गाली पड़ने के बाद MY समीकरण को याद कर वोट की भीख के लिए ट्वीट डिलीट मारा हो। यह एक कयास है, हकीकत तो सोशल मीडिया में तेजू भैया नाम से प्रिय नेता ही जानते होंगे।

ट्वीट डिलीट करने से पहले आरजेडी नेता और बिहार सरकार में मंत्री तेज प्रताप यादव (Tej Pratap Yadav) ने इससे पहले एल्विश यादव का समर्थन करते हुए उन्हें वोट करने की अपील की थी। इसको लेकर कट्टरपंथी इस्लामी तेज प्रताप यादव को खरी-खोटी सुना रहे थे।

ट्वीट में तेज प्रताप यादव ने एल्विश यादव और अपनी फोटो के साथ एक पोस्टर शेयर किया था। इस पोस्टर के जरिए ही तेज प्रताप ने एल्विश यादव के लिए वोटिंग करने की अपील की थी। इस ट्वीट को तेज प्रताप ने #Elvishyadav, #Votforelvish, #ElvishTheBoss के साथ शेयर किया था। अब यह पोस्ट डिलीट किया जा चुका है।

तेज प्रताप यादव का एल्विश यादव को समर्थन करना और उनके लिए वोट की अपील करना कट्टरपंथी इस्लामी लोगों को अच्छा नहीं लगा। यूजर्स तेज प्रताप के लिए जातिवादी समेत तमाम तरह की बातें करते हुए उन्हें ट्रोल कर रहे हैं। इमरान शेख नामक यूजर ने लिखा, “तेज प्रताप यादव मतलब सिर्फ यादव होने से आपने इसका समर्थन किया। ये कितनी नफरत फैलाता है, क्या आपको नहीं पता?”

वसीम अहमद ने लिखा, “आ गए यादव-यादव एक हो गए। चाहे तुम्हारे खिलाफ ही क्यों ना हो चाहे ये मुस्लिम के खिलाफ ही क्यों ना हो, सभी मुस्लिम भाई से कहना चाहूँगा अनफॉलो करो इसको।”

मोहम्मद साहिल नामक यूजर ने लिखा, “तेज प्रताप यादव भैया जी, कहीं आपका दिमाग में ही बवासीर तो नहीं हो गया है। जाकर अपना इलाज करवाओ।”

एक अन्य यूजर ने लिखा, “ये तो गद्दारी है मेरे कौम वाले के साथ। मेरे मुस्लिम भाइयों अबकी बार कोई भी वोट मत देना आरजेडी को।”

फरहान रजा ने लिखा, “तेजू भैया थोड़ी बिहार की बेटी को भी सपोर्ट कर दो।”

आशिफ आमिल नामक यूजर ने लिखा, “ये तेज भैया को देखिए Bigboss का फाइनल चल रहा है। बिहार से मनीषा रानी और हरियाणा से एल्विश यादव फाइनल तक पहुँचे हैं। लेकिन बिहार के मंत्री और लालू यादव के बेटे सपोर्ट करते हैं एल्विश यादव को क्योंकि वो यादव है इनको बिहार से लेना देना ही नहीं, और खुद को सेक्युलर भी बताते हैं।”

वफ़ा अब्बास ने लिखा, “पहले मैं ये मानता था विपक्ष आप के बारे में गलत बोलता है। मगर अब पता चल गया है आप बिना जाँच पड़ताल के कुछ भी बोल देते हैं। कुछ भी लिख देते हैं। आप मंत्री के लायक नहीं हैं। तेजस्वी से कुछ सीखिए धर्म विशेष पर टिप्पणी करने वाले का आप साथ दे रहे हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -