Thursday, February 2, 2023
Homeसोशल ट्रेंडजानिए कौन हैं 5 माह की गर्भवती पुलिस अफसर जो छत्तीसगढ़ की सड़कों पर...

जानिए कौन हैं 5 माह की गर्भवती पुलिस अफसर जो छत्तीसगढ़ की सड़कों पर दे रहीं ड्यूटी: तस्वीरें वायरल

तस्वीर में शिल्पा साहू हाथ में डंडा लेकर सड़क पर लॉकडाउन का पालन करवाती नजर आ रही है। सादी वर्दी में ड्यूटी दे रही शिल्पा साहू की इस तस्वीर की खास बात यह है कि वे पाँच माह की गर्भवती हैं।

छत्तीसगढ़ पुलिस की डीएसपी शिल्पा साहू सुर्खियों में हैं। इनकी एक तस्वीर सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रही है। तस्वीर में शिल्पा साहू हाथ में डंडा लेकर सड़क पर लॉकडाउन का पालन करवाती नजर आ रही है। सादी वर्दी में ड्यूटी दे रही शिल्पा साहू की इस तस्वीर की खास बात यह है कि वे पाँच माह की गर्भवती हैं।

जानिए कौन हैं 5 माह की गर्भवती पुलिस अफसर जो छत्तीसगढ़ की सड़कों पर दे रहीं ड्यूटी

आइए जानते हैं कि डीएसपी शिल्पा साहू की ट्रेनिंग, लव स्टोरी, नक्सलियों का सफाया और अब कोरोना वायरस की दूसरी लहर में लॉकडाउन का पालन करवाने तक की पूरी कहानी। शिल्पा साहू मूलरूप से छत्तीसगढ़ के दुर्ग की रहने वाली हैं। इनके पति देवांश सिंह राठौर भी छत्तीसगढ़ पुलिस में डीएसपी हैं। ये छत्तीसगढ़ के लोरमी से हैं।

शिल्पा व देवांश ने 2013 में पास की पीएससी 

शिल्पा व देवांश ने साल 2013 में छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास की। तब तक दोनों एक-दूसरे को जानते तक नहीं थे। पीएससी परीक्षा पास करने के बाद डीएसपी के रूप में साल 2016 में निमोरा एकेडमी में शिल्पा व देवांश ट्रेनिंग प्राप्त कर रहे थे। तब इनकी मुलाकात हुई और शुरुआत में ही किसी बात को लेकर झगड़ा हो गया। दोनों एक दूसरे को देखना तक पसंद नहीं करते थे। हालाँकि ट्रेनिंग खत्म होते-होते दोनों की तकरार प्यार में बदल गई।

देवांश को जांजगीर चांपा और शिल्पा को बिलासपुर में तैनाती

ट्रेनिंग पूरी होने के बाद देवांश को जांजगीर चांपा और शिल्पा को बिलासपुर में तैनात किया गया। दोनों की पोस्टिंग वाली जगहों के बीच मीलों की दूरियाँ थी, मगर दोनों एक दूसरे के दिल के काफी करीब थे। कुछ समय बाद शिल्पा को बालोद में बटालियन व देवांश को दंतेवाड़ा डीआरजी टीम का डीएसपी बनाया गया। इस दौरान चलाए गए नक्सल ऑपरेशन के लिए जाने वाली डीआरजी पुरुषों की टीम को एसडीओपी देवांश सिंह राठौर और दंतेश्वरी फाइटर्स महिला डीआरजी टीम को डीएसपी शिल्पा साहू लीड करती थी।

शादी के बाद भी किया नक्सलियों का सफाया 

जून 2019 में शिल्पा और देवांश ने लव मैरिज का फैसला किया तो दोनों के सामने सामाजिक कुरीतियाँ आड़े आ गई, मगर दोनों ने एक-दूसरे का साथ नहीं छोड़ा और विवाह बंधन में बँध गए। शादी के बाद डीएसपी पति पत्नी हाथ में एके-47 लेकर नक्सलियों का सफाया करने जंगल में जाते थे। ये पोटाली, चिकपाल, किरंदुल क्षेत्र के अंदरूनी गाँवों में नक्सल ऑपरेशन चला चुके हैं।

डीजी ने दिया तबादले का तोहफा 

शिल्पा साहू बताती हैं कि डीजी डीएम अवस्थी को शादी का कार्ड देने गई थी। तब उन्होंने शिल्पा को शादी के तोहफे के रूप में पति पत्नी की एक साथ पोस्टिंग कर दी। उस वक्त डीजी ने कहा था- देवांश किरंदुल एसडीओपी और शिल्पा डीएसपी दंतेवाड़ा हेडक्वार्टर होंगी। दोनों को एक ही जिले में भेज रहा हूँ। मेरी तरफ से दोनों को शादी का यह तोहफा है। दोनों दंतेवाड़ा- किरंदुल बॉर्डर पर मिलते रहना।

टाइम्स ऑफ इंडिया से बात करते हुए शिल्पा साहू ने कहा कि राज्य में कोविड महामारी की स्थिति बहुत गंभीर है, तो मुझे लगता है कि लोगों को अपने और समाज के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझने के लिए कर्तव्यबोध होता है। साथ ही ऐसी परिस्थितियों में जनता के बीच एक मजबूत संदेश जाना चाहिए। अगर वे देखते हैं कि मुझे गर्भवती होने के बावजूद लॉकडाउन लागू करवाने के लिए बाहर निकलना पड़ रहा है तो उन्हें नियमों का पालन करना चाहिए।

सीनियर आईपीएस ने भी की तारीफ

पाँच माह की गर्भवती होने के बावजूद अपनी ड्यूटी को प्राथमिकता देने वाली शिल्पा साहू की सोशल मीडिया पर जमकर तारीफ हो रही है। छत्तीसगढ़ के सीनियर आईपीएस अधिकारी दीपांशु काबरा ने ट्विटर पर लिखा है कि यह तस्वीर दंतेवाड़ा डीएसपी शिल्पा साहू की है। शिल्पा गर्भावस्था के दौरान भी चिलचिलाती धूप में अपनी छड़ी के साथ सड़कों पर मुस्तैदी से तैनात हैं और लोगों से लॉकडाउन का पालन करने की अपील कर रही हैं।

उन्होंने लिखा, “कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से लोगों को बचाने पुलिस इन दिनों हर संभव कोशिश कर रही है आप भी जिम्मेदार नागरिक की भूमिका अदा करें और लॉकडाउन के दौरान घर पर सुरक्षित रहें।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिक्षा और स्वास्थ्य सेक्टर को मोदी सरकार के कई बड़े तोहफे: नर्सिंग से लेकर वित्तीय साक्षरता तक को बढ़ावा, फार्मा सेक्टर में नवाचार को...

केंद्र की मोदी सरकार में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इस बार के बजट में शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर कई विशेष प्रावधान किए हैं।

मोदी यूँ ही नहीं हैं अजेय, एकलव्य स्कूलों से लेकर गोवर्धन तक ‘सबका साथ-सबका विकास’ को विस्तार: खेत से लेकर जंगल तक बजट से...

केंद्र की मोदी सरकार ने किसानों और जनजातीय समुदाय के लोगों को आगे बढ़ाने के लिए उनके लिए कई योजनाओं की शुरुआत की है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
243,534FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe