Saturday, April 13, 2024
Homeसोशल ट्रेंडऔरत बनने के लिए गौरांग की पहल: हेयर रिमूवल के लिए फंड रेजिंग, समर्थन...

औरत बनने के लिए गौरांग की पहल: हेयर रिमूवल के लिए फंड रेजिंग, समर्थन में उठे हाथ

गौरांग से प्रकृति सोनी बने बेंगलुरु के इस निवासी का कहना है कि उसे अपने बालों को हटाने के लिए फंड की जरूरत है क्योंकि उसके परिवार की आर्थिक हालत ठीक नहीं है।

भारत में फंड इकट्ठा करने वाले प्लेटफॉर्म बड़ी तेजी से बढ़ रहे हैं। लोग अपनी आपातकालीन आर्थिक और चिकित्सकीय जरूरतों को पूरा करने के लिए इन प्लेटफॉर्म्स का उपयोग कर रहे हैं। हाल ही में एक फंडरेजर सोशल मीडिया पर लोगों का ध्यान आकर्षित कर रहा है। यह फंडरेजर गौरांग नाम के एक व्यक्ति ने अपने बालों को हटाने (hair removal) के लिए शुरू किया गया है।

गौरांग से प्रकृति सोनी बने बेंगलुरु के इस निवासी का कहना है कि उसे अपने बालों को हटाने के लिए फंड की जरूरत है क्योंकि उसके परिवार की आर्थिक हालत ठीक नहीं है। हालाँकि, पहली बार सुनने में यह भले मजाक लगे, लेकिन प्रकृति ने बताया कि यह उनके लिए जिंदगी की एक महत्वपूर्ण प्रक्रिया है। प्रकृति 21 वर्षीय एक ट्रांस-वुमन हैं।

प्रकृति ने यह बताया कि उन्हें अपने शरीर के बालों को हटाने की जरूरत है, ताकि उनकी जैविक और लैंगिक पहचान के बीच अंतर को खत्म किया जा सके। प्रकृति ने अपने फंडरेजर पेज में बताया कि यह अंतर उन्हें मानसिक रूप से तनावग्रस्त कर देता है। प्रकृति इसे ‘जेंडर डायस्फोरिया’ नाम देती हैं।

उन्होंने बताया कि Covid-19 के कारण देश भर में लगाए गए लॉकडाउन के कारण उनका जेंडर डायस्फोरिया और भी बुरी स्थिति में पहुँचा गया है। इसलिए उन्होंने लेजर ट्रीटमेंट के जरिए अपने शरीर के बालों को पूरी तरह हटाने का निर्णय लिया है। चूँकि, उनकी आर्थिक हालत सही नहीं है इसलिए उन्होंने इस काम में लोगों की मदद लेने का निर्णय लिया और यह प्रकृति सोनी के लिए काम कर गया, जो पहले गौरांग सोनी थीं।

अपने दावे की पुष्टि के लिए प्रकृति ने बेंगलुरु के ही रमैया मेमोरियल हॉस्पिटल के डॉक्टर का लिखा हुआ लेटर भी अपलोड किया है। लेटर में लिखा गया है, “क्लाइंट ने खुद को स्त्री के रूप में पेश किया है इसलिए उनकी भावनाओं का सम्मान करते हुए मैं इस रिपोर्ट में उनके लिए स्त्रीलिंग सर्वनाम का उपयोग करूँगा।“

डॉक्टर ने प्रकृति को एक ‘मेल टू फीमेल ट्रांसजेंडर’ के रूप में परिभाषित किया है, जिसे बचपन से ही एक विपरीत लिंग वाले सदस्य के रूप में स्वीकार किए जाने की इच्छा थी। लेटर में यह भी कहा गया है कि उनका (प्रकृति) परिवार और उनके संपर्क के लोगों ने उनका हमेशा साथ दिया और यह दिखाई भी देता है, क्योंकि प्रकृति ने अपने तय लक्ष्य का आधा फंड जुटा लिया है।

रिपोर्ट लिखे जाने तक एक अज्ञात व्यक्ति ने 5,000 की सहायता की है, जो अब तक की सर्वाधिक रकम है। उस व्यक्ति ने प्रकृति के लिए संदेश दिया है कि उसे यह उम्मीद है कि प्रकृति अपने तय लक्ष्य तक जल्दी ही पहुँच जाएँगी और उनका इलाज हो जाएगा। उसने लिखा है कि प्रकृति एक शानदार व्यक्ति हैं और अपने जीवन में सर्वश्रेष्ठ की हकदार हैं।

एक दूसरे दानकर्ता आदिल ने लिखा, “मैं तुम्हें बता नहीं सकता कि मैं तुम्हारे लिए कितना खुश हूँ। मैं उम्मीद करता हूँ कि सब कुछ जल्दी ठीक हो जाएगा।“

28 अक्टूबर 2020 को लिखे गए डॉक्टर के लेटर में कहा गया है कि प्रकृति ने पिछले 2 वर्षों से एक महिला की तरह जीवन गुजारने के अपने अनुभव के बारे में बताया है। लेटर में यह भी बताया गया है कि प्रकृति (गौरांग) को स्कूल में लड़कियों के साथ खेलना और उन्हीं की तरह रहना पसंद था।

डॉक्टर के लेटर में बताया गया है कि प्रकृति प्राइमरी और सेकंडरी, दोनों स्तर पर अपनी लैंगिक असमानता से छुटकारा चाहती हैं। लेटर में बताया गया है कि प्रकृति को हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी की आवश्यकता है ताकि वह अपने शरीर को स्त्री का रूप दे सकें, जो उनकी लैंगिक पहचान के अनुरूप है।

हालाँकि, अभी तक यह पता नहीं चला है कि प्रकृति ने हार्मोन रिप्लेसमेंट थैरेपी ली है या नहीं। हो सकता है इसके लिए उन्हें एक और फंडरेजर की जरूरत पड़े। फिलहाल बालों को हटाने के लिए शुरू किया गया फंडरेजर ठीक तरीके से आगे बढ़ रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किसानों को MSP की कानूनी गारंटी देने का कॉन्ग्रेसी वादा हवा-हवाई! वायर के इंटरव्यू में खुली पार्टी की पोल: घोषणा पत्र में जगह मिली,...

कॉन्ग्रेस के पास एमएसपी की गारंटी को लेकर न कोई योजना है और न ही उसके पास कोई आँकड़ा है, जबकि राहुल गाँधी गारंटी देकर बैठे हैं।

जज की टिप्पणी ही नहीं, IMA की मंशा पर भी उठ रहे सवाल: पतंजलि पर सुप्रीम कोर्ट सख्त, ईसाई बनाने वाले पादरियों के ‘इलाज’...

यूजर्स पूछ रहे हैं कि जैसी सख्ती पतंजलि पर दिखाई जा रही है, वैसी उन ईसाई पादरियों पर क्यों नहीं, जो दावा करते हैं कि तमाम बीमारी ठीक करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe