Friday, July 19, 2024
Homeसोशल ट्रेंडअनुराग कश्यप चरस फूँकते हैं क्या? आखिर सोशल मीडिया पर क्यों ट्रेंड किया #HappyBirthdayCharsiAnurag

अनुराग कश्यप चरस फूँकते हैं क्या? आखिर सोशल मीडिया पर क्यों ट्रेंड किया #HappyBirthdayCharsiAnurag

"अनुराग कश्यप चरसी क्यों है? यह रही असल वजह।" - ट्विटर यूज़र्स ने अनुराग कश्यप के एक वीडियो को शेयर करते हुए उन्हें जन्मदिन की बधाई दी और 'चरसी' वाला संदेश लिखा।

बुधवार (9 सितंबर 2020) की शाम से लेकर गुरूवार (10  सितंबर 2020) के बीच ट्विटर पर एक हैशटैग खूब चर्चा में रहा। हैशटैग था #HappyBirthdayCharsiAnurag। दरअसल 10 सितंबर को फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप का जन्मदिन है। जिसके बाद ट्वीटर पर मौजूद नेटीजन्स ने उन्हें कुछ अलग तरीके से जन्मदिन की शुभकामनाएँ दी। 

ट्विटर यूज़र्स ने अनुराग कश्यप का एक वीडियो साझा किया। इसमें वह जॉइंट रोल करते हुए नज़र आ रहे हैं। मज़े की बात यह है कि ऐसा वह एक साक्षात्कार के दौरान करते हुए नज़र आ रहे हैं। अनुराग कश्यप ने एक अमेरिकी यूट्यूब चैनल Our stupid reactions से बातचीत की थी, जिसका वीडियो 8 अप्रैल 2020 को साझा किया गया था। इस बातचीत के दौरान अनुराग कश्यप जॉइंट रोल करते हुए नज़र आते हैं। 

तमाम ट्विटर यूज़र्स ने अनुराग कश्यप के इस वीडियो को साझा किया और उन्हें जन्मदिन की बधाई दी। एक ट्विटर यूज़र ने लिखा – “अनुराग कश्यप चरसी क्यों है? यह रही असल वजह।”

वहीं कुछ ट्विटर यूज़र्स ने इस वीडियो का स्क्रीनशॉट साझा किया था। जिससे यह साफ़ तौर पर नज़र आए कि अनुराग कश्यप क्या कर रहे हैं। ऐसा करते हुए एक और ट्विटर यूज़र ने लिखा ‘अनुराग कश्यप को ड्रग्स दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ। जो लोग अनुराग के लिए चरसी, आतंकवादी और असफल निर्देशक जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं… देखो और आराम से गाली दो।’    

इसके एक दिन पहले अनुराग कश्यप ने बताया था कि उन्होंने सुशांत सिंह के साथ काम करने से इसलिए मना कर दिया था क्योंकि उन्हें लगा सुशांत सिंह के साथ कोई परेशानी है। सुशांत सिंह की मौत के बाद जुलाई में उनकी फिल्म ‘दिल बेचारा’ रिलीज़ हुई थी। इस पर अनुराग कश्यप ने कहा था कि सुशांत एक ‘गैर पेशेवर’ कलाकार हैं।

सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को बांद्रा स्थित अपने आवास पर मृत पाए गए थे। सीबीआई समेत अन्य जाँच एजेंसी मामले की पड़ताल कर रही है।  

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ सब हैं भोले के भक्त, बोल बम की सेवा जहाँ सबका धर्म… वहाँ अस्पृश्यता की राजनीति मत ठूँसिए नकवी साब!

मुख्तार अब्बास नकवी ने लिखा कि आस्था का सम्मान होना ही चाहिए,पर अस्पृश्यता का संरक्षण नहीं होना चाहिए।

अजमेर दरगाह के सामने ‘सर तन से जुदा’ मामले की जाँच में लापरवाही! कई खामियाँ आईं सामने: कॉन्ग्रेस सरकार ने कराई थी जाँच, खादिम...

सर तन से जुदा नारे लगाने के मामले में अजमेर दरगाह के खादिम गौहर चिश्ती की जाँच में लापरवाही को लेकर कोर्ट ने इंगित किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -