Thursday, July 7, 2022
Homeसोशल ट्रेंड'मैं इमरान के बिना नहाने का सोच भी नहीं सकती, मैं नहाती हूँ तो...

‘मैं इमरान के बिना नहाने का सोच भी नहीं सकती, मैं नहाती हूँ तो सिर्फ इमरान के साथ’

ये किसी अश्लील फिल्म की स्क्रिप्ट नहीं है बल्कि पड़ोसी और आतंकवादी देश के प्रधानमंत्री इमरान खान के नाम वाले साबुन का विज्ञापन है।

लंबे बाल वाला मर्द मॉडल: एक्स्क्यूज़ मी, ये क्या?

लड़की मॉडल: जानू इसमें कुछ खास है।

लंबे बाल वाला मर्द मॉडल: कुछ खास!

लड़की मॉडल: हूँ!

लंबे बाल वाला मर्द मॉडल: क्या मैं इसे खोल सकता हूँ?

लड़की मॉडल: हाँ, खोलें लेकिन जरा प्यार से।

लंबे बाल वाला मर्द मॉडल: अरे वॉउ, ये तो इमरान सोप है। क्या आप भी इमरान सोप इस्तेमाल करती हैं?

लड़की मॉडल: हाँ, मैं भी इमरान की दीवानी हूँ। मैं इमरान के बिना नहाने का सोच भी नहीं सकती। मैं नहाती हूँ तो सिर्फ इमरान के साथ।

लंबे बाल वाला मर्द मॉडल: अगर आप भी चाहती हैं कि आपकी चर्म नरमों नाजुक हों, और आपको नहाते हुए भी मज्जा (मजा) आ जाए तो आप भी इमरान सोप इस्तेमाल करें।

ये किसी अश्लील फिल्म की स्क्रिप्ट नहीं है बल्कि पड़ोसी और आतंकवादी देश के प्रधानमंत्री इमरान खान के नाम वाले साबुन का विज्ञापन है। वैसे तो यह विज्ञापन साल 2016 का है लेकिन पत्रकार नायला इनायत ने इसे 4 सितंबर 2019 की रात को ट्वीट कर इसे फिर से चर्चा में ला दिया।

पाकिस्तान की बिगड़ती अर्थव्यवस्था का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वहाँ के प्रधानमंत्री को नान-टिमाटर तक के लिए कैबिनेट मीटिंग बुलानी पड़ जाती है। वहाँ बेचारा कोई बिजनेसमैन आखिर साबुन बेचे तो बेचे किसके नाम पर! सेना भी इमरान को यूज कर रही है, सो लगे हाथ बिजनेसमैन भी उसका नाम भुना लिए।

अभी स्थिति क्या है, पता नहीं। लेकिन इमरान के खुद के देश में बालाकोट के बाद जो उसकी छवि बनी है, उससे यह कयास जरूर लगाया जा सकता है कि यह साबुन अब शायद ही कोई नहाने के लिए इस्तेमाल करता होगा। हाँ, संडास से आने के बाद हाथ धोने के लिए शायद!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इस्लामी कट्टरपंथी काटते रहे और हिंदू आत्मरक्षा भी न करें… आखिर ये किस तरह की ‘शांति’ चाहता है TOI

भारत आज उथल-पुथल के दौर से गुजर रहा है। इस्लामवादियों के हौसले भी लगातार बढ़ रहे हैं और वे लोगों को धमकियाँ दे रहे हैं।

‘ह्यूमैनिटी टूर’ पर प्रोपेगेंडा, कश्मीर फाइल्स ‘इस्लामोफोबिक’: द क्विंट को विवेक अग्निहोत्री ने किया बेनकाब

"हम इन फे​क FACT-CHECKERS को नजरअंदाज करते थे, लेकिन सच्ची देशभक्ति इन देशद्रोही Urban Naxals (अर्बन नक्सलियों) को बेनकाब करना और हराना है।”

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
204,341FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe