Saturday, May 25, 2024
Homeसोशल ट्रेंडफिलिस्तीन का साथ मतलब 'मानवता' का समर्थक... कंगना 'नफरत फैलाने वाली': ऐसे फँसे इरफान...

फिलिस्तीन का साथ मतलब ‘मानवता’ का समर्थक… कंगना ‘नफरत फैलाने वाली’: ऐसे फँसे इरफान पठान

इरफान ने फिलिस्तीन के समर्थन में लिखा, ''अगर आपमें जरा भी मानवता है तो फिलिस्तीन में जो हो रहा है, आप उसका समर्थन नहीं करेंगे।'' इसके बाद कंगना पर निशाना साधते हुए...

इजरायल-फिलिस्तीन के बीच जारी संघर्ष के बीच पूर्व क्रिकेटर इरफान पठान ने खुद को मानवता का समर्थक बताते हुए बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत पर निशाना साधा है।

दरअसल, इरफान ने 11 मई को फिलिस्तीन के समर्थन में ट्वीट करते हुए लिखा था, ”अगर आपमें जरा भी मानवता है तो फिलिस्तीन में जो हो रहा है आप उसका समर्थन नहीं करेंगे।” #SaveHumanity’

इसके बाद कंगना ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी में विधायक दिनेश चौधरी का एक ट्वीट शेयर किया था, जिसमें कहा गया था, ”इरफान पठान को दूसरे देश से तो इतना लगाव है लेकिन खुद के देश में बंगाल पर एक ट्वीट नहीं कर पाए।”

इरफान ने खुद को बताया ‘मानवता’ का समर्थक, कंगना पर साधा निशाना

कंगना की इसी पोस्ट के जवाब में इरफान पठान ने खुद को मानवता का समर्थक बताते हुए कंगना को नफरत फैलाने वाला करार दिया।

इरफान ने लिखा, मेरे सभी ट्वीट या तो मानवता या देशवासियों के लिए होते हैं, एक ऐसे व्यक्ति के दृष्टिकोण से जिसने भारत का उच्चतम स्तर पर प्रतिनिधित्व किया है। इसके विपरीत मुझे कंगना जैसे लोग मिलते हैं, जिनके अकाउंट नफरत फैलाने के लिए सस्पेंड हो जाते हैं और कुछ अन्य पेड अकाउंट भी केवल नफरत के होते हैं। #planned

आपको बता दें कि बंगाल विधानसभा के चुनावी नतीजों के बाद टीएमसी कार्यकर्ताओं की राजनीतिक हिंसा पर बोलने के लिए ट्विटर ने अपने ‘नियमों के उल्लंघन’ का हवाला देते हुए कंगना रनौत का अकाउंट सस्पेंड कर दिया था।

‘प्रे फॉर फिलिस्तीन’ का समर्थन कर घिरे इरफान

कई यूजर्स ने इरफान से केवल फिलिस्तीन के समर्थन में खड़े होने के दोहरे रवैये को लेकर सवाल उठाए जबकि इस संघर्ष में फिलिस्तीनी आतंकी संगठन हमास के हमले में कई इजरायली नागरिक भी मारे गए हैं, जिनमें से एक भारत की सौम्य संतोष भी हैं।

वहीं कुछ यूजर्स ने इरफान से बंगाल में हिंदुओं के खिलाफ हिंसा पर चुप रहने और फिलिस्तीन के लिए बोलने पर भी सवाल उठाए।

11 मई से जारी इजरायल-फिलिस्तीन संघर्ष में दोनों पक्षों के लोगों के मारे जाने की खबरें हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

18 साल से ईसाई मजहब का प्रचार कर रहा था पादरी, अब हिन्दू धर्म में की घर-वापसी: सतानंद महाराज ने नक्सल बेल्ट रहे इलाके...

सतानंद महाराज ने साजिश का खुलासा करते हुए बताया, "हनुमान जी की मोम की मूर्ति बनाई जाती है, उन्हें धूप में रख कर पिघला दिया जाता है और बच्चों को कहा जाता है कि जब ये खुद को नहीं बचा सके तो तुम्हें क्या बचाएँगे।""

‘घेरलू खान मार्केट की बिक्री कम हो गई है, इसीलिए अंतरराष्ट्रीय खान मार्केट मदद करने आया है’: विदेश मंत्री S जयशंकर का भारत विरोधी...

केंद्रीय विदेश मंत्री S जयशंकर ने कहा है कि ये 'खान मार्केट' बहुत बड़ा है, इसका एक वैश्विक वर्जन भी है जिसे अब 'इंटरनेशनल खान मार्केट' कह सकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -