Wednesday, April 14, 2021
Home सोशल ट्रेंड ट्विटर गली में शोर है, मुनव्वर राना? जी हाँ, 'मेरे हिस्से माँ आई' शेर...

ट्विटर गली में शोर है, मुनव्वर राना? जी हाँ, ‘मेरे हिस्से माँ आई’ शेर का सच ये है

"पुष्टि के बाद पुनः यह पत्र ट्वीट कर रहा हूँ। जिस नज़्म 'मेरे हिस्से में माँ आई' की कमाई मुनव्वर राना, ज़िंदगी भर खाते रहे वो आलोक श्रीवास्तव, जी की कविता की कॉपी है। मुनव्वर राना ने खत का आज तक जवाब नहीं दिया, बेशर्मी से चुराई नज़्म पर पुरस्कार और तालियाँ बटोरते रहे।"

मुनव्वर राना द्वारा ‘माँ’ शीर्षक पर कथित तौर पर लिखी गई कविता को आज तक हर कोई यही कहते आया है कि ‘माँ’ पर अगर किसी को कुछ बेहतरीन पढ़ना हो, तो उसे मुनव्वर राना की ये पंक्तियाँ पढ़नी चाहिए।

लेकिन मुनव्वर राना (Munawwar Rana) ने जिन पंक्तियों पर जिंदगीभर वाह-वाही लूटी, वास्तव में वो मशहूर लेखक आलोक श्रीवास्तव द्वारा लिखी गई ‘अम्मा’ कविता से चुराई गईं हैं।

यह पंक्ति आज ट्विटर पर चर्चा का विषय है। दूरदर्शन न्यूज़ के वरिष्ठ पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने एक ट्वीट करते हुए लिखा –

“मुन्नवर राना पर आरोप हैं कि उनकी मशहूर नज़्म ‘मेरे हिस्से में माँ आई’ दअरसल हिंदी कवि आलोक श्रीवास्तव की कविता ‘मेरे हिस्से अम्मा आई’ को चुरा कर लिखी गई। (आलोक जी का पुराना पत्र पढ़िए)”

अशोक श्रीवास्तव ने मुनव्वर राना के एकाउंट को टैग करते हुए लिखा – “@मुनव्वर राना, जी आरोप गंभीर है। जवाब दें अन्यथा कोई अवार्ड बचा हो तो लौटा दें।”

इस ट्वीट के साथ संलग्न पत्र में 2003 की तारीख है और यह आलोक श्रीवास्तव द्वारा लिखा गया है।

आलोक श्रीवास्तव द्वरा लिखा गया पत्र, जो ट्विटर पर शेयर किया जा रहा है

पत्र में लिखा गया है कि मुनव्वर राना ने अपने मुशायरे में उनकी लिखी पंक्तियों को लोगों के टोकने के बाद भी कई बार इस्तेमाल किया है। आलोक श्रीवास्तव ने इस पत्र में लिखा है कि लगभग तीन दशक से उनका ये शेर प्रकाशित होता आया है और मुनव्वर राना को अपनी याददाश्त का इस्तेमाल पाकीज़गी से करना चाहिए।

ज्ञात हो कि आलोक श्रीवास्तव का नाम देश के मशहूर ख्याति प्राप्त शायरों में शामिल है। जगजीत सिंह, अमिताभ बच्चन, मालिनी अवस्थी समेत कई गायक आलोक श्रीवास्तव के लिखे गीतों और गजलों को सुर दे चुके हैं।

इसके साथ ही बॉलीवुड की कई फिल्मों के लिए आलोक ने गीत लिखे हैं। दर्जनों से भी ज्यादा देशों में कवि सम्मेलन और मुशायरे में भी आलोक श्रीवास्तव शिरकत कर चुके हैं और देश विदेश में कई सम्मान भी मिल चुके हैं।

एक और ट्वीट में अशोक श्रीवास्तव ने लिखा कि अभी इस पत्र की पुष्टि नहीं हुई है लेकिन सोशल मीडिया पर यह पत्र वायरल हुआ है जिस पर 2003 की तारीख है।

उन्होंने लिखा – “सच या तो मुन्नवर राना बता सकते हैं या विदिशा के कवि आलोक श्रीवास्तव। यदि कोई इनका संपर्क दे सके तो आभारी रहूँगा। इस पत्र का सच जानना ज़रूरी है।”

लेकिन इसके जवाब में मुनव्वर राना की ओर से कोई भी प्रतिक्रिया न आने पर अशोक श्रीवास्तव ने एक और ट्वीट करते हुए लिखा –

“पुष्टि के बाद पुनः यह पत्र ट्वीट कर रहा हूँ। जिस नज़्म ‘मेरे हिस्से में माँ आई’ की कमाई मुनव्वर राना, ज़िंदगी भर खाते रहे वो आलोक श्रीवास्तव, जी की कविता की कॉपी है। मुनव्वर राना ने खत का आज तक जवाब नहीं दिया, बेशर्मी से चुराई नज़्म पर पुरस्कार और तालियाँ बटोरते रहे।”

आलोक श्रीवास्तव की कविता ‘अम्मा’ –

मुनव्वर राना पर यह आरोप पहले भी कई बार लगाया गया है लेकिन इस पर कभी इतनी खलकर बहस नहीं हुई, जिसका फायदा उठाते हुए मुनव्वर राना ने भी कभी इस पर स्पष्टीकरण देना उचित नहीं समझा।

आलोक श्रीवास्तव की लिखी की कविता ‘अम्मा’ की पंक्तियाँ इस तरह हैं –

“बाबूजी गुजरे..आपस में सब चीजें तकसीम हुईं।
मैं घर में सबसे छोटा था, मेरे हिस्से आई अम्मा।”

आलोक की ये कविता कई पत्रिकाओं में छपी थी। कई बार उन्होंने जिक्र भी किया कि मुनव्वर राना ने उनकी लाइनें चुराई ही नहीं थीं, बाकायदा उसकी लाइनों पर डकैती डाली थी।

मुनव्वर राना ने जिस शेर को हमेशा अपना बताया है वो इस तरह से है –

“किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई।
मैं घर में सब से छोटा था मिरे हिस्से में माँ आई।”

फिर से विवादों में हैं मुनव्वर राना

मुनव्वर राना आजकल एक बार फिर विवादों के कारण चर्चा में आए हैं। दरअसल, उन्होंने एक विवादित ट्वीट में कहा है कि भारत में 35 करोड़ इंसान और 100 करोड़ जानवर रहते हैं। इसके साथ ही मुनव्वर राना ने लिखा है कि ये 100 करोड़ चुनावों में वोट देने के ही काम आता है।

अब देखना यह है कि आलोक श्रीवास्तव के लिखे इस पत्र के वायरल होने पर मुनव्वर राना ईमानदारी का परिचय देकर इसे स्वीकार करते हैं या फिर प्रमाण सहित इन दावों का खंडन करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्फ्यू का ऐलान होते ही महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों की वापसी शुरू: स्टेशनों पर खचाखच भीड़, चलाई जा रही अतिरिक्त ट्रेनें

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात 8 बजे से अगले 15 दिनों तक धारा 144 लागू रहेगी। इसे देखते हुए प्रवासी मजदूर फिर से अपने घरों को लौटने लगे हैं।

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उद्धव को बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

पहले कमल के साथ चाकूबाजी, अगले दिन मुस्लिम इलाके में एक और हिंदू पर हमला: छबड़ा में गुर्जर थे निशाने पर

राजस्थान के छबड़ा में हिंसा क्यों? कमल के साथ फरीद, आबिद और समीर की चाकूबाजी के अगले दिन क्या हुआ? बैंसला ने ऑपइंडिया को सब कुछ बताया।

प्रचलित ख़बरें

‘हमें बार-बार जाना पड़ता है, वो वॉशरूम कब जाती हैं’: साक्षी जोशी का PK से सवाल- क्या है ममता बनर्जी का टॉयलेट शेड्यूल

क्लबहाउस पर बातचीत में ‘स्वतंत्र पत्रकार’ साक्षी जोशी ने ममता बनर्जी की शौचालय की दिनचर्या के बारे में उनके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर से पूछताछ की।

छबड़ा में मुस्लिम भीड़ के सामने पुलिस भी थी बेबस: अब चारों ओर तबाही का मंजर, बिजली-पानी भी ठप

हिन्दुओं की दुकानों को निशाना बनाया गया। आँसू गैस के गोले दागे जाने पर हिंसक भीड़ ने पुलिस को ही दौड़ा-दौड़ा कर पीटा।

भाई ने कर ली आत्महत्या, परिवार ने 10 दिनों तक छिपाई बात: IPL के ग्राउंड में चमका टेम्पो ड्राइवर का बेटा, सहवाग भी हुए...

IPL की नीलामी में चेतन सकारिया को अच्छी खबर तो मिली, लेकिन इससे तीन सप्ताह पहले ही उनके छोटे भाई ने आत्महत्या कर ली थी।

जहाँ खालिस्तानी प्रोपेगेंडाबाज, वहीं मन की बात: क्लबहाउस पर पंजाब का ठेका तो कंफर्म नहीं कर रहे थे प्रशांत किशोर

क्लबहाउस पर प्रशांत किशोर का होना क्या किसी विस्तृत योजना का हिस्सा था? क्या वे पंजाब के अपने असायनमेंट को कंफर्म कर रहे थे?

रूस का S-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम और US नेवी का भारत में घुसना: ड्रैगन पर लगाम के लिए भारत को साधनी होगी दोधारी नीति

9 अप्रैल को भारत के EEZ में अमेरिका का सातवाँ बेड़ा घुस आया। देखने में जितना आसान है, इसका कूटनीतिक लक्ष्य उतनी ही कॉम्प्लेक्स!

यमुनानगर में माइक से यति नरसिंहानंद को धमकी दे रही थी मुस्लिम भीड़, समर्थन में उतरे हिंदू कार्यकर्ता: भारी पुलिस बल तैनात

हरियाणा के यमुनानगर में यति नरसिंहानंद के मसले पर टकराव की स्थिति को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती करनी पड़ी।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,176FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe