Tuesday, May 28, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'CBI ऑफिस में झुका कर चिदंबरम को पीटा जा रहा है' - पाकिस्तानी सांसद...

‘CBI ऑफिस में झुका कर चिदंबरम को पीटा जा रहा है’ – पाकिस्तानी सांसद ने बोला, भेज रहा हूँ UN को फोटो लेकिन…

रहमान मलिक को इस बात का बिल्कुल भी अंदाज़ा नहीं था कि @being_humor यूज़र उसे बेवकूफ़ बन रहा है। उसने ट्वीट कर यूज़र से प्रमाणिकता के लिए और तस्वीरें माँगी, जिसमें हिरासत में चिदंबरम की तस्वीर और स्पष्ट देखी जा सके।

पाकिस्तान की तरफ से भारत के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया पर फैलाई जा रही फेक़ न्यूज़ को देख कर लगता है जैसे उसने सोशल मीडिया पर ही कोई जंग छेड़ दी हो। लेकिन बेचारे पाकिस्तानी! इस जंग में भी वो फिसड्डी ही साबित हो रहे हैं। शुक्रवार (23 अगस्त) को एक ट्विटर यूज़र @being_humor ने कुछ ऐसे स्क्रीनशॉट्स पोस्ट किए, जिसमें पाकिस्तान के सांसद रहमान मलिक स्पष्ट तौर पर बेवकूफ़ बनते दिखे।

@Being_humor और @senrehmanmalik के बीच बातचीत का स्क्रीनशॉट (इमेज सौजन्य: @being_humor)

इस इमेज में, यह देखा जा सकता है कि रहमान मलिक के एक ट्वीट के जवाब में जहाँ उन्होंने दावा किया कि अनुच्छेद-370 को निरस्त करने के विरोध में ‘पीएम मोदी के ख़िलाफ़ अपनी आवाज़ उठाने’ के लिए पी चिदंबरम को CBI और ED ने गिरफ़्तार किया, @being_humor ने रहमान मलिक के इस ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा कि वो सही हैं। @being_humor ने इसके बाद सबूत के तौर पर CBI ऑफ़िस में उनके (चिदंबरम के साथ) साथ किए जा रहे बुरे व्यवहार को दर्शाने वाला एक फोटो भी भेजा। यूज़र ने लिखा कि उसके पास इसका सबूत है, लेकिन उसने अपनी पहचान उजागर न करने की बात भी लिखी। इसके जवाब में रहमान मलिक ने @being_humor से सबूत माँगा और उसे गुमनाम रखने का वादा भी किया।

@Being_humor और @senrehmanmalik के बीच बातचीत का स्क्रीनशॉट (इमेज सौजन्य: @being_humor)

अपनी तीव्र उत्सुकता के चलते रहमान मलिक ने यह तक पूछ डाला कि क्या यह CBI ऑफ़िस है और वो आदमी कौन है? इस पर @being_humor ने जवाब दिया कि वास्तव में वो CBI ऑफ़िस है और जो पिट रहा है वो चिदंबरम है। इसके बाद यूज़र ने अपने नाम को गुमनाम रखने का फिर से अनुरोध किया।

@Being_humor और @senrehmanmalik के बीच बातचीत का स्क्रीनशॉट (इमेज सौजन्य: @being_humor)

रहमान मलिक को इस बात का बिल्कुल भी अंदज़ा नहीं था कि @being_humor यूज़र उसे बेवकूफ़ बन रहा है। उसने ट्वीट कर यूज़र से प्रमाणिकता के लिए और तस्वीरें माँगी, जिसमें हिरासत में चिदंबरम की तस्वीर और स्पष्ट देखी जा सके। इसके अलावा रहमान ने यूज़र से पूछा कि क्या उसके पास चिदंबरम के परिवार या किसी संबंधित स्टाफ का व्हाट्सअप नंबर है?

@Being_humor और @senrehmanmalik के बीच बातचीत का स्क्रीनशॉट (इमेज सौजन्य: @being_humor)

इस पर @being_humor ने लिखा कि उनके पास चिदंबरम के परिवार से संपर्क करने का कोई ज़रिया नहीं है, लेकिन उसने उस इमेज को ट्वीट करने का आग्रह किया, जिससे चिदंबरम के परिचितों तक ये इमेज पहुँचेगी तो शायद कोई उन्हें नंबर उपलब्ध करा दे। यूज़र ने यह भी लिखा कि उपरोक्त इमेज पोस्ट करके वो चिदंबरम के ख़िलाफ़ पुलिस द्वारा किए ‘अत्याचार’ को बंद करवा सकते हैं। तब तक रहमान मलिक को पक्का विश्वास हो गया था कि भेजा इमेज पीट रहे चिदंबरम की ही है। और उसने लिख डाला – संयुक्त राष्ट्र के साथ इस इमेज को शेयर कर रहा हूँ।

@being_humor ने तब बहुत ही मसखरे अंदाज़ में ट्वीट किया कि रहमान मलिक ने ट्विटर पर उसे कैसे फॉलो किया। यूज़र ने यह भी लिखा कि संयुक्त राष्ट्र को रहमान मलिक द्वारा शेयर की जाने वाली चिदंबरम पर अत्याचार वाली इमेज को स्वीकर नहीं करना चाहिए, इसे बिल्कुल भी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए, क्योंकि यह एक फ़िल्म (सिंघम) का सीन है।

जब से अनुच्छेद-370 को निरस्त किया गया है, तब से सोशल मीडिया पर पाकिस्तानियों की बिलबिलाहट स्पष्ट दिख रही है। अपना मुँह छिपाने के लिए वो जमकर फ़ेक न्यूज़ का सहारा ले रहा है। लेकिन, तमाम कोशिशों के बावजूद भी उसके हर झूठ का पर्दाफ़ाश हो रहा है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

2014 – प्रतापगढ़, 2019 – केदारनाथ, 2024 – कन्याकुमारी… जिस शिला पर विवेकानंद ने की थी साधना वहीं ध्यान धरेंगे PM नरेंद्र मोदी, मतगणना...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सातवें चरण के लिए प्रचार-प्रसार का शोर थमने के साथ थी 30 मई को ही कन्याकुमारी पहुँच जाएँगे, 4 जून को होनी है मतगणना।

पंजाब में Zee मीडिया के सभी चैनल ‘बैन’! मीडिया संस्थान ने बताया प्रेस की आज़ादी पर हमला, नेताओं ने याद किया आपातकाल

जदयू के प्रवक्ता KC त्यागी ने इसकी निंदा करते हुए कहा कि AAP का जन्म मीडिया की फेवरिट संस्था के रूप में हुआ था, रामलीला मैदान में संघर्ष के दौरान मीडिया उन्हें खूब कवर करता था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -