Friday, June 14, 2024
Homeसोशल ट्रेंड'SAFTEY..RALIWAY': परीक्षाओं के लिए चिंतित प्रियंका वाड्रा को लोगों ने पढ़ाया 'स्पेलिंग मिस्टेक' का...

‘SAFTEY..RALIWAY’: परीक्षाओं के लिए चिंतित प्रियंका वाड्रा को लोगों ने पढ़ाया ‘स्पेलिंग मिस्टेक’ का पाठ

प्रियंका गाँधी SSC और रेलवे भर्ती परीक्षाओं के लिए जितने भी हैशटैग का प्रयोग कर रही हैं, उन सभी में स्पेलिंग मिस्टेक की समस्या नजर आ रही हैं और इस कारण प्रियंका गाँधी वाड्रा सोशल मीडिया पर लोगों के चुटकुलों का जरिया बन चुकी हैं। लोगों ने आपत्ति जताई है कि जो प्रियंका गाँधी परीक्षाओं पर सवाल उठा रही है वह खुद अंग्रेजी की एक स्पेलिंग तक ठीक से नहीं लिख पाती हैं।

कॉन्ग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी वाड्रा ने पार्टी के भीतर चल रही घमासान के बीच छात्रों के भविष्य के मुद्दे पर राजनीति करने का फैसला लिया है। सोनिया गाँधी की बेटी प्रियंका गाँधी ट्विटर पर SSC और रेलवे परीक्षाओं की भर्ती पर केंद्र सरकार को घेरने का प्रयास करते नजर आ रही हैं लेकिन इसमें एक छोटी सी समस्या आ रही है।

दरअसल, प्रियंका गाँधी SSC और रेलवे भर्ती परीक्षाओं के लिए जितने भी हैशटैग का प्रयोग कर रही हैं, उन सभी में स्पेलिंग मिस्टेक की समस्या नजर आ रही हैं और इस कारण प्रियंका गाँधी वाड्रा सोशल मीडिया पर लोगों के चुटकुलों का जरिया बन चुकी हैं। लोगों ने आपत्ति जताई है कि जो प्रियंका गाँधी परीक्षाओं पर सवाल उठा रही है वह खुद अंग्रेजी की एक स्पेलिंग तक ठीक से नहीं लिख पाती हैं।

दरअसल, कुछ ही दिन पहले ट्विटर पर प्रियंका गाँधी वाड्रा ने एक ट्वीट में लिखा, “कोरोना के बढ़ते संक्रमण के माहौल में #JEE_NEET परीक्षा देने जाने वाले छात्र-छात्राओं व उनके अभिवावकों की बात सुनना जरूरी है। ये बच्चे देश के भविष्य हैं। छात्र-छात्राओं की चिंताओं को संवेदना से देखना होगा न कि हठ और राजनीतिक दृष्टि से। #SpeakUpForStudentSaftey”

इस पर भाजपा आईटी सेल इन चार्ज अमित मालवीय ने ट्विटर पर कटाक्ष करते हुए लिखा, “प्रियंका वाड्रा और NSUI मिलकर भी ‘SAFETY’ को सही ढंग से नहीं लिख सकते। उनमें से कोई भी कभी भी जेईई-नीट परीक्षा में नहीं बैठा और वे अब उन लाखों छात्रों के भविष्य को खतरे में डालना चाहते हैं जो इन प्रतिष्ठित संस्थानों में प्रवेश चाहते हैं।”

दरअसल, इस हैशटैग में प्रियंका गाँधी वाड्रा ने ‘SAFETY’ की जगह ‘SAFTEY’ लिखा था। SSC की परीक्षा में अक्सर स्पेलिंग टेस्ट वाले सवाल भी पूछे जाते हैं।

इस ट्वीट के कुछ ही दिन बाद, मंगलवार 01 सितम्बर को प्रियंका गाँधी वाड्रा ने रेलवे परीक्षा पर भी ज्ञान देने का प्रयास किया और एक बार फिर वह स्पेलिंग परीक्षा में फेल हो गई। इस बार प्रियंका गाँधी ने अपने ट्वीट के साथ एक हैशटैग इस्तेमाल किया – “#speakupforSSCRaliwaystudents” इस हैशटैग में ‘Railway’ की जगह प्रियंका गाँधी ने ‘Raliway’ लिखा है।

प्रियंका गाँधी द्वारा लगातार की जाने वाली इन मामूली भूलों पर ‘गप्पिस्तान रेडियो’ नाम के ट्विटर यूजर ने एक ट्वीट में प्रियंका गाँधी पर कटाक्ष करते हुए लिखा, “इतनी प्लानिंग से एक हैशटैग ट्रेंड किया और किसीने एक स्पेलिंग मिस्टेक नहीं नोटिस की?”

वहीं, एक अन्य ट्विटर यूजर देसी मोजितो (@desimojito) ने एक ट्वीट में लिखा है कि रेलवे ने हाल ही में 64371 में से 40420 सीटों पर भर्ती की है और बाकी की ट्रेनिंग कोरोना के बाद हालात सामान्य होते ही शुरू हो जाएँगी।

उन्होंने साथ ही यह भी लिखा है कि कुछ दिन पहले ही यही प्रियंका गाँधी NEET-ZEE परीक्षा आयोजित कराने के खिलाफ थीं और अब वह कह रही हैं कि परीक्षा कराई जानी चाहिए। @desimojito ने भी प्रियंका गाँधी के ट्वीट में की गई स्पेलिंग मिस्टेक का जिक्र किया है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कश्मीर समस्या का इजरायल जैसा समाधान’ वाले आनंद रंगनाथन का JNU में पुतला दहन प्लान: कश्मीरी हिंदू संगठन ने JNUSU को भेजा कानूनी नोटिस

जेएनयू के प्रोफेसर और राजनीतिक विश्लेषक आनंद रंगनाथन ने कश्मीर समस्या को सुलझाने के लिए 'इजरायल जैसे समाधान' की बात कही थी, जिसके बाद से वो लगातार इस्लामिक कट्टरपंथियों के निशाने पर हैं।

शादीशुदा महिला ने ‘यादव’ बता गैर-मर्द से 5 साल तक बनाए शारीरिक संबंध, फिर SC/ST एक्ट और रेप का किया केस: हाई कोर्ट ने...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में जस्टिस राहुल चतुर्वेदी और जस्टिस नंद प्रभा शुक्ला की बेंच ने इस मामले की सुनवाई करते हुए कहा कि सबूत पेश करने की जिम्मेदारी सिर्फ आरोपित का ही नहीं है, बल्कि शिकायतकर्ता का भी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -