Saturday, June 22, 2024
Homeसोशल ट्रेंडकृषि कानूनों के विरोध में 'प्राइवेट कंपनी' की ट्रैक्टर चला संसद पहुँचे राहुल गाँधी,...

कृषि कानूनों के विरोध में ‘प्राइवेट कंपनी’ की ट्रैक्टर चला संसद पहुँचे राहुल गाँधी, लोगों ने कहा – ड्राइविंग लाइसेंस चेक करो

एक अन्य यूजर ने पूछा कि एक प्राइवेट कंपनी के ट्रैक्टर का इस्तेमाल कर के प्राइवेटाइजेशन का विरोध करने का ये कौन सा तरीका है?

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ट्रैक्टर से संसद सत्र में भाग लेने पहुँचे हैं। कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष हैं, अच्छी मीडिया फुटेज मिली है। हरियाणा में भी उन्होंने ‘किसान आंदोलन’ के दौरान ऐसा किया था, तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की माँग के साथ। अब भी उन्होंने इन्हीं तीनों कानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन स्वरूप ऐसा किया है। सुप्रीम कोर्ट ने इनके लागू होने पर रोक लगा रखी है। फिर भी नेता मान ही नहीं रहे।

वहीं राहुल गए गाँधी मीडिया में आने के लिए कुछ करें और लोग उनके मजे न लें, ऐसा कैसे हो सकता है? देखिए कैसे ‘JK Modified’ नाम के ट्विटर हैंडल ने उनकी तुलना लेजेंड्री कॉमिक किरदार मिस्टर बीन से कर डाली:

राहुल गाँधी ने दावा किया कि वो किसानों का संदेश लेकर संसद में आए हैं। साथ ही केंद्र सरकार पर किसानों की आवाज़ दबाने के साथ-साथ संसद में उनकी आवाज़ न उठाने देने का भी आरोप लगाया। साथ ही कहा कि केंद्र सरकार को ये तीनों कृषि कानून वापस लेने ही होंगे। वो ये दावा भी कर बैठे कि ये कानून देश के 2-3 बड़े कारोबारियों के लिए बनाए गए हैं। एक ट्विटर यूजर ने ये चेक करने को कहा कि उनके पास ट्रैक्टर चलाने का लाइसेंस भी है या नहीं।

वहीं एक ट्विटर यूजर ने मेजर जेनरल जीडी बख्शी के डायलॉग के जरिए उन पर निशाना साधा, जिसमें उन्होंने कहा था, “तुम्हें शर्म है कुछ? कुछ शर्म-हया है?”

एक अन्य यूजर ने उन्हें सलाह दी कि ट्रैक्टर चलाना और देश चलाना, दोनों अलग-अलग चीजें हैं। वहीं कुछ लोगों ने उन्हें बैलगाड़ी से संसद आने की सलाह दी, ताकि तेल के बढ़े हुए दामों के खिलाफ भी ‘किसान आंदोलन’ के साथ ही विरोध प्रदर्शन हो जाए। कुछ लोगों ने उन पर फाइन लगाने की भी वकालत की, अगर उनके पास ट्रैक्टर चलाने का ड्राइविंग लाइसेंस न हो तो। एक अन्य यूजर ने पूछा कि एक प्राइवेट कंपनी के ट्रैक्टर का इस्तेमाल कर के प्राइवेटाइजेशन का विरोध करने का ये कौन सा तरीका है?

राहुल गाँधी ट्रैक्टर पर पहुँचे संसद तो लोगों ने सोशल मीडिया पर लिए मजे

फरवरी 2021 में भी राहुल गाँधी ने राजस्थान के अजमेर में एक ट्रैक्टर रैली में जनसभा को सम्बोधित किया था। इस दौरान वो राजस्थानी पगड़ी और वेशभूषा में दिखे थे। उससे पहले हरियाणा में इसी तरह का प्रदर्शन हुआ था। ये अलग बात है कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा कॉन्ग्रेस की महिला कार्यकर्ताओं से ट्रैक्टर खिंचवाते हुए दिखे थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

CM केजरीवाल ने माँगे थे ₹100 करोड़, हमने ₹45 करोड़ का पता लगाया: ED ने दिल्ली हाई कोर्ट को बताया, कहा- निचली अदालत के...

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुख्यमंत्री और AAP मुखिया अरविन्द केजरीवाल की नियमित जमानत पर अंतरिम तौर पर रोक लगा दी है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -