Sunday, July 14, 2024
Homeसोशल ट्रेंडदीवाली पर पटाखे का सद्गुरु ने किया समर्थन, अनिल कपूर की 'लिबरल बेटी' को...

दीवाली पर पटाखे का सद्गुरु ने किया समर्थन, अनिल कपूर की ‘लिबरल बेटी’ को कंगना ने लताड़ा

''वायु प्रदूषण की चिंता कोई ऐसा कारण नहीं है कि बच्चों को पटाखे फोड़ने की खुशी से वंचित किया जाए। अगर आप उनके लिए कुछ करना चाहते हैं तो तीन दिन पैदल अपने ऑफिस जाएँ और बच्चों को पटाखों का आनंद लेने दें।'

ईशा फाउंडेशन के संस्थापक सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने दिवाली के मौके पर पटाखों पर प्रतिबंध लगाने का विरोध किया है। इसको लेकर बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने भी अपनी सहमति जताई है। दरअसल, सद्गुरु ने पटाखे फोड़ने से होने वाले वायु प्रदूषण को कम करने का सिंपल फॉर्मूला दिया है। धार्मिक गुरु ने ट्विटर पर कहा, ”वायु प्रदूषण की चिंता कोई ऐसा कारण नहीं है कि बच्चों को पटाखे फोड़ने की खुशी से वंचित किया जाए। अगर आप उनके लिए कुछ करना चाहते हैं तो तीन दिन पैदल अपने ऑफिस जाएँ और बच्चों को पटाखों का आनंद लेने दें।”

कंगना रनौत ने पटाखों पर बैन लगाने पर अपनी असहमति व्यक्त करते हुए सद्गुरु का एक वीडियो अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज पर साझा किया है। उन्होंने कहा, ”पर्यावरण की रक्षा के लिए लोगों को कुछ दिनों के लिए कारों का इस्तेमाल बंद कर देना चाहिए।”

कंगना ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज पर लिखा, “सद्गुरु वह व्यक्ति हैं, जिन्होंने लाखों पेड़ लगाने का विश्व रिकॉर्ड बनाया है। दिवाली के मौके पर सभी पर्यावरण को दूषित होने से बचाएँ और तीन दिनों तक अपनी कार का इस्तेमाल न करें। पैदल ही अपने ऑफिस जाएँ।”

साभार: इंस्टाग्राम

वहीं, इस बीच, अभिनेता अनिल कपूर की बेटी और ‘वीरे दी वेडिंग’ की निर्माता रिया कपूर ने दिवाली पर पटाखे फोड़ने की परंपरा पर निराशा व्यक्त ​की है। उन्होंने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरीज पर लिखा, “पटाखे फोड़ना लापरवाह और गैर जिम्मेदाराना है। इसे करना बंद करो।”

साभार: इंस्टाग्राम

बता दें कि सद्गुरु ने दिवाली के मौके पर सभी को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि इस दिवाली अपनी मानवीयता को पूरे गौरव से रोशन करें। सद्गुरु ने कहा, ”इस दीवाली पर मानवता को अपनी पूरी गरिमा में उजागर कीजिए। प्रेम व आशीर्वाद।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

NITI आयोग की रिपोर्ट में टॉप पर उत्तराखंड, यूपी ने भी लगाई बड़ी छलाँग: 9 साल में 24 करोड़ भारतीय गरीबी से बाहर निकले

NITI आयोग ने सस्टेनेबल डेवलपमेंट गोल्स (SDG) इंडेक्स 2023-24 जारी की है। देश में विकास का स्तर बताने वाली इस रिपोर्ट में उत्तराखंड टॉप पर है।

लैंड जिहाद की जिस ‘मासूमियत’ को देख आगे बढ़ जाते हैं हम, उससे रोज लड़ते हैं प्रीत सिंह सिरोही: दिल्ली को 2000+ मजार-मस्जिद जैसी...

प्रीत सिरोही का कहना है कि वह इन अवैध इमारतों को खाली करवाएँगे। इन खाली हुई जमीनों पर वह स्कूल और अस्पताल बनाने का प्रयास करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -